17 जून 2009 की मनहूस सुबह से मेरे दिन की शुरुआत हुई। सुबह सवा सात बजे फोन की घंटी से आँखे खुली और फोन पर जो समाचार मिला तो आँखे खुली की खुली ही रह गयी, चूंकि समाचार था हिन्दी काव्यमंच के सर्वश्रेष्ठ हास्य कवि श्री अल्हड बीकानेरी जी के निधन का।

ज्ञात हो कि पिछले दो तीन माह से वे अस्वस्थ थे और पिछले सप्ताह ही उन्हे इलाज के लिये नोयडा के कैलाश अस्पताल भरती कराया गया था। यह समाचार मिलते ही मैं उनसे कैलाश अस्पताल मिलने गया। उनके चरण छुवे। उन्होने लेटे लेटे ही आशीर्वाद दिया और हालचाल भी पूछे तो लगा कि दादा ठीक हो रहे हैं। किंतु दुर्भाग्य कि काव्य जगत को उनके निधन का समाचार मिलते ही एक और गहरा झटका लगा।

दादा अल्हड जी की विशेष कृपादृष्टि व स्नेह मुझे अक्सर मिलता रहा। यह मेरे लिये जीवन भर का संस्मरण रहेगा। याद आता है मुझे अपने कालेज का वो दिन, जब मैं दयाल सिंह कॉलेज (सान्ध्य) दिल्ली में विद्यार्थी था और वहाँ दादा अल्हड जी भी कवि सम्मेलन में आये थे। जैसे ही मैने उन्हे प्रणाम किया तो उन्होंने मुझे अन्य मंचीय कवियों के साथ कविता पढने का अवसर दिलवाया।

पूरा कवि समाज जानता है कि दादा एक स्वाभिमानी, अपनी शर्तों पर जीने वाले व हिन्दी के सशक्त हस्ताक्षर थे। मुझे उनके साथ अनेको यात्रायें करने का व दरजनों मंचों पर उनके साथ काव्यपाठ करने का अवसर मिला। मेरा सौभाग्य था कि दादा नें हमेशा अपने बच्चे की तरह प्यार दिया। शब्द कम हैं मेरे पास। संवेदनायें अधिक हैं, लेकिन वह भी मेरे अंतर्मन से लेकर कंठ तक भरी हुई। शब्दों में मैं दादा का व्यक्तित्व व कृतीत्व बयान नहीं कर सकता, बस यही निवेदन करता हूँ आप सबसे कि उनकी आत्मा की शांति के लिये समस्त हिन्दी समाज और साहित्यकार वर्ग प्रार्थना करे।

11 comments:

  1. अत्‍यंत दुखद समाचार है, इससे पहले श्री ओम प्रकाश आदित्‍य और अब अल्‍हड़ बीकानेरी । ईश्‍वर उनकी आत्‍मा को शांति प्रदान करे ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. श्रद्धांजलि। अपूर्णीय क्षति है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. is maheene me jo kshati sahitya jagat ki hui hai uska dukh bahut hi gahra hai ... dewas ka accident phir habib tanveer ji bhopal me...aur ab bikaneri ji ...

    man bahut dukhi ho uthta hai in mahan vibutiyon ke yun chale jaane se..

    meri vinamr shradanjali ..

    naman

    उत्तर देंहटाएं
  4. HAASYA RAS KE KAVI ALHAD BIKANEREE
    KEE MRITYU KE SAMAACHAAR SE MUN
    DUKHEE HUAA HAI.ISHWAR UNKEE ATMA
    KO SHANTI PRADAAN KARE

    उत्तर देंहटाएं
  5. दीपक जी नें शिद्दत से याद किया है, विनम्र श्रद्धांजलि।

    उत्तर देंहटाएं
  6. चार प्रमुख साहित्य हस्तियों को खो कर साहित्य जगत को अपूर्णिय क्षति हुई है. ईश्वर दिंवगत आत्माओं को अपने यहां स्थान व शांति प्रदान करें.

    उत्तर देंहटाएं
  7. ये बहूत ही दुखद समाचार है ईश्‍वर उनकी आत्‍मा को शांति प्रदान करे

    उत्तर देंहटाएं
  8. geetganga k aadhunik bhagirath alhadji ka jana bada dukh de gaya....
    ve mere shahar ganganagar k damad toh the hi............sanyog ki baat ye hai ki maine pahla bada kavi sammelan bhi unke saath hi padhaa tha 1981 me...

    divangat ko vinamra shraddhanjli !

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget