एक कथाकार नें जब साहित्य शिल्पी को अपनी कविता प्रेषित की तो हमें रचना का प्रस्तुतिकरण एक उपलब्धि की तरह लगा। साहित्य शिल्पी के पाठको के लिये प्रस्तुत है प्रसिद्ध कथाकार सूरज प्रकाश की कविता - साहित्यशिल्पी
*****


रचनाकार परिचय:-


सूरज प्रकाश का जन्म १४ मार्च १९५२ को देहरादून में हुआ।

आपने विधिवत लेखन १९८७ से आरंभ किया। आपकी प्रमुख प्रकाशित पुस्तकें हैं:- अधूरी तस्वीर (कहानी संग्रह) 1992, हादसों के बीच (उपन्यास, 1998), देस बिराना (उपन्यास, 2002), छूटे हुए घर (कहानी संग्रह, 2002), ज़रा संभल के चलो (व्यंग्य संग्रह, 2002)।

इसके अलावा आपने अंग्रेजी से कई पुस्तकों के अनुवाद भी किये हैं जिनमें ऐन फैंक की डायरी का अनुवाद, चार्ली चैप्लिन की आत्म कथा का अनुवाद, चार्ल्स डार्विन की आत्म कथा का अनुवाद आदि प्रमुख हैं। आपने अनेकों कहानी संग्रहों का संपादन भी किया है।

आपको प्राप्त सम्मानों में गुजरात साहित्य अकादमी का सम्मान, महाराष्ट्र अकादमी का सम्मान प्रमुख हैं।

आप अंतर्जाल को भी अपनी रचनात्मकता से समृद्ध कर रहे हैं।

भरते रहते हैं हम
उम्र की गुल्लक
अल्लम गल्लम चीजों से
कोई सिलसिला नहीं रहता
भरने का
तारीखें
पाठ
सिर फुट्टौवल
गलबहियां
न जाने क्या क्या भरता रहता है
उम्र की गुल्लक में

हमें याद ही नहीं रहता
कब उसमें डाली थी
दोस्ती की इक्कनी
मास्टर जी की मार का छेद वाला पैसा
या किसी काका के दुलार की अट्ठनी

सब कुछ भरता रहता है
उम्र की गुल्लक में
चाहे अनचाहे
जाने अनजाने

अच्छा लगता है
गुल्लक की फांक में झांकना
उसे हिलाना
सलाई से टटोलना
क्या पता
कोई खोया कलगीदार सिक्का
खुशियों भरा
छपाक से हमारी गोद में आ गिरे
उम्र की गुल्लक से

28 comments:

  1. अच्छा लगता है
    गुल्लक की फांक में झांकना
    उसे हिलाना
    सलाई से टटोलना
    क्या पता
    कोई खोया कलगीदार सिक्का
    खुशियों भरा
    छपाक से हमारी गोद में आ गिरे
    उम्र की गुल्लक से

    हृदयस्पर्शी कविता। सूरज जी बधाई। आपको कवि के रूप में पढना सुखद आश्चर्य है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. क्या पता
    कोई खोया कलगीदार सिक्का
    खुशियों भरा
    छपाक से हमारी गोद में आ गिरे
    उम्र की गुल्लक से

    अहसासों से भरी कविता अच्छी लगी।

    उत्तर देंहटाएं
  3. "सूरजप्रकाश जी की कविता" बात अकल्पनातीत तो है लेकिन आपकी कविता को पढ कर मन हरा भरा हो गया। आपका इस विधा पर भी दखल है। आपकी अन्य कविताओं की भी प्रतीक्षा रहेगी।

    उत्तर देंहटाएं
  4. गुल्लक की फांक में झांकना
    उसे हिलाना
    सलाई से टटोलना
    क्या पता
    कोई खोया कलगीदार सिक्का
    खुशियों भरा
    छपाक से हमारी गोद में आ गिरे
    उम्र की गुल्लक से
    दिल को छूती अद्भुत रचना सूरज जी को बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  5. अनुपम रचना। सूरज जी आपकी और भी कवितायें पढना चाहूंगी।

    उत्तर देंहटाएं
  6. सूरज प्रकाश जी अपनी गुल्लक फोड कर और भी कविताओं का हमें आस्वादन करायें :)

    उत्तर देंहटाएं
  7. उम्र की गुल्‍लक से

    नहीं जाता कुछ भी बाहर

    सब अंदर ही रहता है

    फिर भी जाने कैसे

    घटता रहता है

    मुगालते में रहते हैं सब

    कि अब बढ़ रहा है।

    उत्तर देंहटाएं
  8. सूरज भाई]

    कविता ’उम्र की गुल्लक ’ के लिए बधाई.

    चन्देल

    उत्तर देंहटाएं
  9. हमें याद ही नहीं रहता
    कब उसमें डाली थी
    दोस्ती की इक्कनी
    मास्टर जी की मार का छेद वाला पैसा
    या किसी काका के दुलार की अट्ठनी

    ek marma sparshi kavita

    उत्तर देंहटाएं
  10. मुझे बहुत अच्छी लगी ...जिंदगी को बयाँ कर रही है

    मेरी कलम - मेरी अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  11. एक बेहद खूबसूरत कविता। बचपन की भी याद दिला दी। बधाई सूरज भाई !

    उत्तर देंहटाएं
  12. अच्छा लगता है
    गुल्लक की फांक में झांकना
    उसे हिलाना
    सलाई से टटोलना
    क्या पता
    कोई खोया कलगीदार सिक्का
    खुशियों भरा
    छपाक से हमारी गोद में आ गिरे
    उम्र की गुल्लक से

    बहुत सही कहा आपने........

    "उम्र की गुल्लक" लाजवाब बिम्ब है......

    बहुत ही सुन्दर कविता....आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत हीं खूबसूरत रचना है। सीधे-साधारण शब्दों में ज़िंदगी का सच बयां कर जाती है।
    सूरजप्रकाश जी को पढना हमेशा हीं सुखकर रहा है। आज भी कुछ अलग नहीं हुआ.....वही अनुभूति जो हर बार होती है।

    बधाई स्वीकारें।

    -विश्व दीपक

    उत्तर देंहटाएं
  14. आदरणीय सूरज प्रकाश जी की यह कविता उनकी कविता पर गहरी पकड की परिचायक है। उनकी पहली ही कविता नें उनके लिये मेरे मन में स्थित एक कथाकार का स्थापित मानदंड तोड दिया...वे और भी बहुत कुछ हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  15. saade, saaf, bhaavpoorn, दिल को छूते हुवे shabdon me rachi लाजवाब कृति है..............

    उत्तर देंहटाएं
  16. दिल से लिखी कविता को दिल से पढा।

    उत्तर देंहटाएं
  17. BHAI SURAJ PRAKASH JEE,AAP TO CHHUPE RUSTAM NIKLE.KAVITA MEIN
    BHEE ITNEE ZIADA PAKAD! WAH,KYAA
    BAAT HAI!!

    उत्तर देंहटाएं
  18. SURAJ PRAKASH JEE KEE KAVITA KO PADH KAR KAUN KAH SAKTA HAI KI KAVITA LOP HO RAHEE HAI?

    उत्तर देंहटाएं
  19. बचपन की बातें वैसे भी सबको अच्‍छी लगती हैं और सब अपने बचपन में वापस लौटने की इच्‍छा भी करते हैं, ऐसी ही इच्‍छा आपकी कविता से पूरी होती लगती है । कथाकार हैं तो क्‍या सिर्फ कथा ही लिखेंगे, कविता भी लिख सकते हैं और अच्‍छी कविता भी लिख सकते हैं, आप इसके सशक्‍त उदाहरण हैं ।

    उत्तर देंहटाएं
  20. खूबसूरत एहसासों से भरी है आपकी कविता

    उत्तर देंहटाएं
  21. गहरा प्रभाव छोड़ती हुई,जिन्दगी का सच बयां करती हुई। बधाई आदरणीय सूरज प्रकाश जी को।

    उत्तर देंहटाएं
  22. वाह ...लीक से हट कर सुन्दर रचना..सचमुच उम्र की गुल्लक नायाब चीजों का खजाना है.

    उत्तर देंहटाएं
  23. GULLAK KA HAK AUR PAHCHAN TAB HOTI H JAB HUM GULLAK MEIN KHO JAYE.
    UMAR KI GULLAK MEIN DOSTI KI EKKKANI,
    BAHU T KHOOB.

    RAMESH SACHDEVA
    hpsshergarh@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं
  24. सरस, सहज और सरल रच पाना बहुत कठिन होता है. आपने कसौटी त्रयी पर खरी रचना दी है बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  25. सूरज जी हिर्दय्स्पर्शी रचना
    के लिए बधाई.
    निशा

    उत्तर देंहटाएं
  26. बहुत ही अच्छी रचना ...एक एक शब्द ,एक एक विराम, एक एक अन्तराल बहुत कुछ समेटे हुए था

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget