साहित्य शिल्पीरचनाकार परिचय:-
मूलतः फरीदाबाद, हरियाणा के निवासी दिगंबर नासवा को स्कूल, कौलेज के ज़माने से लिखने का शौक है जो अब तक बना हुआ है।

आप पेशे से चार्टेड एकाउंटेंट हैं और वर्तमान में दुबई स्थित एक कंपनी में C.F.O. के पद पर विगत ७ वर्षों से कार्यरत हैं।

पिछले कुछ वर्षों से अपने ब्लॉग "स्वप्न मेरे" पर लिखते आ रहे हैं।
1)
तुम पास न आए
मैं करीब न गया
चुपचाप गुज़र गयी थी वो शाम
रात की स्याही चुरा कर
वक़्त ने लिख दिया था तेरा नाम
भटक रहा हूँ आज भी उन लम्हों में
ढूंढ रहा हूँ तेरा नाम
काश ये सफ़र यू ही चलता रहे

2)

जब चाँद पानी में उतर आये
तुम झील में चली आना
चांदनी तेरे अक्स में उतर आएगी
धीरे धीरे ये रात तो ढल जायेगी
तेरे माथे की बिंदिया में कैद
चांदनी मुस्कुरायेगी

15 comments:

  1. तेरे माथे की बिंदिया में कैद
    चांदनी मुस्कुरायेगी

    बहुत ही सुन्‍दर अभिव्‍यक्ति ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. चांदनी तेरे अक्स में उतर आएगी
    धीरे धीरे ये रात तो ढल जायेगी
    तेरे माथे की बिंदिया में कैद
    चांदनी मुस्कुरायेगी

    बहुत सुन्दर लगी यह शुक्रिया

    उत्तर देंहटाएं
  3. बडी ही खूबसूरत कल्पना है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. रात की स्याही चुरा कर
    वक़्त ने लिख दिया था तेरा नाम
    भटक रहा हूँ आज भी उन लम्हों में
    ढूंढ रहा हूँ तेरा नाम
    खूबसूरत कल्पना...बहुत सुन्दर .

    उत्तर देंहटाएं
  5. रात की स्याही चुरा कर
    वक़्त ने लिख दिया था तेरा नाम
    भटक रहा हूँ आज भी उन लम्हों में
    ढूंढ रहा हूँ तेरा नाम
    काश ये सफ़र यू ही चलता रहे
    दिगम्बर नासवा जी की रचनायें पढते हुये कहीं गहरे मे खो जाना पडता है उनकी खास बात ये है कि हर रचना बेजोद होती है बधाई और आभार

    उत्तर देंहटाएं
  6. DONO KSHANIKAAON KEE BHAVANUBHTI
    ATI SUNDAR HAI.BADHAAEE.

    उत्तर देंहटाएं
  7. रात की स्याही चुरा कर
    वक़्त ने लिख दिया था तेरा नाम
    भटक रहा हूँ आज भी उन लम्हों में
    ढूंढ रहा हूँ तेरा नाम
    काश ये सफ़र यू ही चलता रहे
    प्यार से लबरेज़ कविता पर क्या कहे.......यह स्याह राते क्यो सताती है .......काश वो लम्हा ही नही आता....काश यह नही होता ....भाई ....सिर्फ आहे है.

    इस चाँदनी के मुस्कुराने पर......

    उत्तर देंहटाएं
  8. तेरे माथे की बिंदिया में कैद
    चांदनी मुस्कुरायेगी
    वाह! क्या अंदाज है।

    उत्तर देंहटाएं
  9. तेरे माथे की बिंदिया में कैद
    चांदनी मुस्कुरायेगी

    --बहुत कोमल भावना!! वाह ..आनन्द से परिपूर्ण हुए.

    उत्तर देंहटाएं
  10. चांदनी तेरे अक्स में उतर आएगी
    धीरे धीरे ये रात तो ढल जायेगी
    तेरे माथे की बिंदिया में कैद
    चांदनी मुस्कुरायेगी ...


    बहुत बढिया

    उत्तर देंहटाएं
  11. सुन्दर भावभरी क्षणिकायें हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  12. ढूंढ रहा हूँ तेरा नाम
    काश ये सफ़र यू ही चलता रहे

    बहुत सुन्दर भाव दिगम्बर भाई। आपको पढ़ना सुखद लगता है।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    www.manoramsuman.blogspot.com
    shyamalsuman@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत अच्छी कविता है दिगंबर जी।

    उत्तर देंहटाएं
  14. बड़े हीं रोचक और खूबसूरत बिंब हैं।
    चाँद और रात तो वैसे भी शायरों के लिए बहुत प्यारे होते हैं :)

    बधाई स्वीकारें।

    -विश्व दीपक

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget