मेरे हिस्से की
परेशानियां झेल लेती है
जैसे रोटी और आग के बीच
आ जाये तवा.. !
मां..

कवि परिचय:-
गाडरवारा, जिला नरसिंहपुर में 28 मार्च, 1988 को जन्मे विपुल शुक्ला की पूरी शिक्षा-दीक्षा भोपाल के निकट होशंगाबाद मे हुई। इन्होंने जिस विद्यालय मे शिक्षा ग्रहण की उसी में इनकी माताश्री श्रीमती आभा शुक्ला हिन्दी की शिक्षिका थीं। काव्य प्रतिभा इन्हें अपनी माँ से विरासत मे मिली है। अपनी पहली कविता इन्होंने विद्यालय की पत्रिका "प्रगति" के लिये कक्षा ग्यारहवीं में लिखी।

वर्तमान में रसायन अभियांत्रिकी के छात्र विपुल अनेक प्रतिष्ठित अंतर्जाल पत्रिकाओं में निरंतर प्रकाशित होते रहे हैं तथा अनेक कवि-सम्मेलनों में भी शिरकत कर चुके हैं

सुई की पीठ पर पडा
छेद है
जिसने अपने अंतस से
धागे को पिरोकर
सिये हैं हमारे जीवन के
सबसे उधडॆ हुये पल !
खुद पर लटका लेती है वो
हमारे जज़्बात,
मुश्किलें और परेशानियां

दरवाजे के पीछे,
दीवार पर लगी कील है मां !
अपनी हसरतों के
एक-एक पायदान पर चढाकर
पहुंचाती है ऊंचाई तक
पता है..
ऊंचाई पर सीढी खुद नहीं रहती
वो तो बस रास्ते में रहती है
मां की तरह !

अगर घर है शिवालय
तो हम सबके सिर पर लटकी
मिट्टी की मटकी है मां..
रिसता ही रहता है
प्यार का जल बारह महीने !

मां..
भगवान के भोग में डली
तुलसी की पत्ती है.. जिसके बिना
स्वीकार नहीं करते वो कुछ भी !

पिछ्ले बयालीस सालों से
बैठी है
वेटिंग रूम में..
कर रही है इंतज़ार
लेट हो गयी है
खुशियों की ट्रेन !
मेरी मज़बूत मां की आंखें
भर आती हैं आजकल बेबात ही
कमज़ोर हो रही हैं
बांध की दीवारें !
दोनो हाथों से
खोद रहा हूं मैं
बडी बडी नहरें..
ताकि निकाल सकूं
अभावों का सारा पानी
और मिल पाये दीवार को
थोडी सी राहत!

11 comments:

  1. एक भाव पूर्ण रचना ... निदा फाजली साहब की माँ कविता याद आ गयी .. क्लाइमेक्स अच्छा है बहुत. अपने आप ही में एक कविता है क्लाइमेक्स . सुन्दर.

    उत्तर देंहटाएं
  2. ताज्जुब है किसी और ने टिप्पणी नहीं की थी अब तक . कविता वाकई बहुत अच्छी है ..

    उत्तर देंहटाएं
  3. माँ के ममत्व से भरपूर एक प्रभावी कविता


    बधाई स्वीकार करें

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुंदर और भावपूर्ण कविता!

    उत्तर देंहटाएं
  5. गहरे मनोभावों से युक्त कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  6. Aapki is kavita par kuch shabd mere bhi:

    Sadiyuon se banati aayee hain peediyan
    Aane waali peddiyuon ke liye seedhiyan

    aapka
    Neelesh
    Aap mere blog par ek kavita maa par pad sakte hain.. blog pata hai:
    http://www.yoursaarathi.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुन्दर लिखा है अगर घर है शिवालय तो हम सबके सिर पर लटकी हुई मटकी है मां
    लोग मां बाप के प्रति संवेदनहीन होते जा रहे आपके विचार पढकर बहुत प्रभाव पङेगा मैंने भी लिखा है मां का आंचल कृपा पढकर देखना
    मेरा ब्लोग भी एक वार पढकर देखे
    http://jatshiva.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  8. अच्छा लिखा है,

    माँ का ममत्व निश्चय ही बहुत महान है, और उसका बड़ी ही खूबसूरती से चित्रण किया है,

    इसी तरह लिखते रहो हम सभी को तुमसे बहुत उम्मीदें है.

    उत्तर देंहटाएं
  9. पिछ्ले बयालीस सालों से
    बैठी है
    वेटिंग रूम में..
    कर रही है इंतज़ार
    लेट हो गयी है
    खुशियों की ट्रेन !
    मेरी मज़बूत मां की आंखें
    भर आती हैं आजकल बेबात ही
    कमज़ोर हो रही हैं
    बांध की दीवारें !
    दोनो हाथों से
    खोद रहा हूं मैं
    बडी बडी नहरें..
    ताकि निकाल सकूं
    अभावों का सारा पानी
    और मिल पाये दीवार को
    थोडी सी राहत!

    behad bhawpurna aur mahaan panktiyan hain yeh jisne mere antarman ke saare baandhon ko gira diya....mere paas shabd nahin hain is kavita ke liye, main nahi samajhti ki yeh paripurna rachna ke baare me likh kar iske saath nyay kar sakoongi...wakai achchi hai...badhai!!

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget