Photobucket

साहित्य शिल्पीरचनाकार परिचय:-
पंजाब के जालंधर शहर में जन्मी डा. सुधा ढींगरा हिन्दी और पंजाबी की सम्मानित लेखिका हैं। वर्तमान में वे अमेरिका में रहकर हिन्दी के प्रचार-प्रसार हेतु कार्यरत हैं।
प्रकाशित साहित्य--मेरा दावा है (काव्य संग्रह-अमेरिका के कवियों का संपादन ) ,तलाश पहचान की (काव्य संग्रह ) ,परिक्रमा (पंजाबी से अनुवादित हिन्दी उपन्यास), वसूली (कथा- संग्रह हिन्दी एवं पंजाबी ), सफर यादों का (काव्य संग्रह हिन्दी एवं पंजाबी ), माँ ने कहा था (काव्य सी .डी ), पैरां दे पड़ाह , (पंजाबी में काव्य संग्रह ), संदली बूआ (पंजाबी में संस्मरण ), १२ प्रवासी संग्रहों में कविताएँ, कहानियाँ प्रकाशित।
विशेष--विभौम एंटर प्राईसिस की अध्यक्ष, हिन्दी चेतना (उत्तरी अमेरिका की त्रैमासिक पत्रिका) की सह- संपादक। हिन्दी विकास मंडल (नार्थ कैरोलाइना) के न्यास मंडल में हैं। अंतर्राष्ट्रीय हिन्दी समिति (अमेरिका) के कवि सम्मेलनों की राष्ट्रीय संयोजक हैं। इंडिया आर्ट्स ग्रुप की स्थापना कर, अमेरिका में हिन्दी के बहुत से नाटकों का मंचन किया है। अनगिनत कवि सम्मेलनों का सफल संयोजन एवं संचालन किया है। रेडियो सबरंग ( डेनमार्क ) की संयोजक।
पुरस्कार- सम्मान-- १) अमेरिका में हिन्दी के प्रचार -प्रसार एवं सामाजिक कार्यों के लिए वाशिंगटन डी.सी में तत्कालीन राजदूत श्री नरेश चंदर द्वारा सम्मानित। २) चतुर्थ प्रवासी हिन्दी उत्सव २००६ में ''अक्षरम प्रवासी मीडिया सम्मान.'' ३) हैरिटेज सोसाइटी नार्थ कैरोलाईना (अमेरिका ) द्वारा ''सर्वोतम कवियत्री २००६'' से सम्मानित , ४) ट्राईएंगल इंडियन कम्युनिटी, नार्थ - कैरोलाईना (अमेरिका ) द्वारा ''२००३ नागरिक अभिनन्दन ''. हिन्दी विकास मंडल , नार्थ -कैरोलाईना( अमेरिका ), हिंदू- सोसईटी , नार्थ कैरोलाईना( अमेरिका ), अंतर्राष्ट्रीय हिन्दी समिति (अमेरिका) द्वारा हिन्दी के प्रचार -प्रसार एवं सामाजिक कार्यों के लिए कई बार सम्मानित।

माली से क्या पूछते हो ?
फूल की पीड़ा
फूल से पूछो
जब
धूप तड़पाती है,
बदली मंडराती है
और
उमड़-घुमड़ रोमांस रचा कर
बिन बरसे उड़ जाती है.
धरती भी धोखा देती है
उसे मत धिक्कारो
वह तो ख़ुद ही प्यासी रह जाती है,
उस दुल्हन की तरह
जो मण्डप में सजी संवरी
खड़ी रह जाती है
जिसकी बारात
दहेज के आभाव में
बेरंग लौट जाती है.
पीड़ा का अनुभव जानना है
तो जाओ
लाल जोड़े में सिसकती
उस मासूम
अनब्याही के आँसूओं में झाँकों
तुम्हें दर्द का समन्दर
मिल जायेगा--
सरे प्रश्नों का उत्तर
एक बूँद के अंदर मिल जायेगा

20 comments:

  1. पीड़ा का अनुभव जानना है
    तो जाओ
    लाल जोड़े में सिसकती
    उस मासूम
    अनब्याही के आँसूओं में झाँकों
    तुम्हें दर्द का समन्दर
    मिल जायेगा--
    सरे प्रश्नों का उत्तर
    एक बूँद के अंदर मिल जायेगा

    बहुत मर्मस्पर्शी अभिव्यक्ति।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहूत ही maarmil..... yathaart रचना है........... आपकी lekhni में jaadoo है जो किसी को भी hilaa सकता है andar तक

    उत्तर देंहटाएं
  3. सरे प्रश्नों का उत्तर
    एक बूँद के अंदर मिल जायेगा

    -भावपूर्ण मार्मिक रचना...कम शब्दों में गहरी बात! बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  4. VAH,SUDHA JEE.AAPKEE HAR KAVITA
    MUN MEIN UTAR JAANE WAALEE HAI.
    " PEEDA" KAVITA KEE YE PANKTIYAN
    TO AVISMARNIY BAN GAYEE HAIN-
    US MAASOOM
    UNBYAAHEE KE
    ANSUON MEIN
    JHAANKON
    TUMHE
    DARD KAA SAMANDAR
    MIL JAAYEGAA
    SAARE PRASHNON KAA UTTAR
    EK BOOND KE
    ANDAR MIL JAAYEGA
    UTKRISHT KRITI KE LIYE
    BAHUT-BAHUT BADHAAEE.

    उत्तर देंहटाएं
  5. पीड़ा का विशाल समन्दर आँख के कोर से बही बूंद में समाहित हो सकता है ,लेकिन कोई समझे /पह्चाने तो ! बहुत मार्मिक अभिव्यक्ति सुधा जी ।

    शशि पाधा

    उत्तर देंहटाएं
  6. sudha ji jis tarh se aap ne prkrti ka aasry lekar manbiy pida ko darshane ka pryash kiya hai bhut hi sunder hai
    mera prnaam swikaar kare
    saadar
    praveen pathik
    9971969084

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुधा जी
    गहन भावों, उद्गारों को शब्दों में समेट कर कविता के रूप में अभिव्यक्ति एक कठिन कार्य है लेकिन जिस प्रकार आपने सुन्दर शब्दों में 'पीड़ा' को अभिव्यक्त किया है, अनुपम है.
    उस मासूम
    अनब्याही के आँसूओं में झाँकों
    तुम्हें दर्द का समन्दर
    मिल जायेगा--
    सरे प्रश्नों का उत्तर
    एक बूँद के अंदर मिल जायेगा
    अति सुन्दर.
    महावीर

    उत्तर देंहटाएं
  8. तुम्हें दर्द का समन्दर
    मिल जायेगा--
    सारे प्रश्नों का उत्तर
    एक बूँद के अंदर मिल जायेगा

    --

    दिल को अन्दर तक छू लेने वाली पंक्तियां हैं .....

    उत्तर देंहटाएं
  9. अनब्याही के आँसूओं में झाँकों
    तुम्हें दर्द का समन्दर
    मिल जायेगा--
    सरे प्रश्नों का उत्तर
    एक बूँद के अंदर मिल जायेगा

    सुधा जी,

    आपने प्रकृति के माध्यम से बहुत मार्मिक बात कह दी है. बहुत सुन्दर कविता. बधाई.

    रूपसिंह चन्देल

    उत्तर देंहटाएं
  10. आदरणीय सुधा जी,

    बहुत मार्मिक कविता है. गहरे तक असर करती है.

    उत्तर देंहटाएं
  11. लाल जोड़े में सिसकती
    उस मासूम
    अनब्याही के आँसूओं में झाँकों
    तुम्हें दर्द का समन्दर
    मिल जायेगा--
    सरे प्रश्नों का उत्तर
    एक बूँद के अंदर मिल जायेगा
    ....Behad marmik bhavon se bhari kavita !!

    उत्तर देंहटाएं
  12. जो रचना मानव अन्तर्मन की पीडा से सरोकार रखती है वह दिल में सीधी उतर जाती है... सुन्दर रचना के लिये बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  13. मर्मस्पर्शी कविता है। बधाई स्वीकारें।

    उत्तर देंहटाएं
  14. उस का जीना भी क्‍या जीना जिसने पीड़ा न भोगी हो, लेकिन पीड़ा अगर अंतहीन हो तो दर्द समंदर बन ही जाता है । सुधा जी, आपकी कविता से सचमुच पीड़ा का अहसास होता है ।

    उत्तर देंहटाएं
  15. आप की प्रतिक्रियाओं ने बता दिया कि कविता आप को पसंद आई, मैं आप सब की बहुत आभारी हूँ.

    उत्तर देंहटाएं
  16. फूलों के माध्यम से बहुत गहरी बात कह गयीं सुधा जी। वाह।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    www.manoramsuman.blogspot.com
    shyamalsuman@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं
  17. कविता नें बहुत प्रभावित किया।

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget