रचनाकार परिचय:-

नीरज गोस्वामी का जन्म 14 अगस्त 1950 को जम्मू में हुआ। इंजिनियरिंग स्नातक नीरज जी लगभग 30 वर्षों के कार्यानुभव के साथ वर्तमान में भूषण स्टील मुम्बई में असिसटैंट वाइस प्रेसिडेंट के पद पर कार्यरत हैं।
बचपन से ही साहित्य पठन में इनकी रुचि रही है। अनेक जालघरों में इनकी रचनायें प्रकाशित हो चुकी हैं। इसके अतिरिक्त इन्होंने अनेक नाटकों में काम किया और पुरुस्कार जीते हैं।
गीत तेरे जब से हम गाने लगे
भीड़ में सबको नज़र आने लगे

सोच को अपनी बदल कर देख तू
मन तेरा गर यार मुरझाने लगे

बिन तुम्हारे खैरियत की बात भी
पूछते जब लोग तो ताने लगे

वो मेहरबां है तभी करना यकीं
जब बिना मांगे ही सब पाने लगे

प्यार अपनों ने किया कुछ इस तरह
अब मेरे दुश्मन मुझे भाने लगे

सच बयानी की गुजारिश जब हुई
चीखते सब लोग हकलाने लगे

खार तेरे पाँव में 'नीरज' चुभे
नीर मेरे नैन बरसाने लगे

24 comments:

  1. सोच को अपनी बदल कर देख तू
    मन तेरा गर यार मुरझाने लगे

    प्यार अपनों ने किया कुछ इस तरह
    अब मेरे दुश्मन मुझे भाने लगे

    वाह, बहुत अच्छी ग़ज़ल।

    उत्तर देंहटाएं
  2. KHAAR TERE PAANV MEIN "NEERAJ"CHUBHE
    NEER MERE NAIN
    BARSAANE LAGE
    BAHUT KHOOB NEERAJ JEE! ACHCHHEE GAZAL KE LIYE BADHAAEE.

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत ही सुन्‍दर अभिव्‍यक्ति ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. Just install Add-Hindi widget button on your blog. Then u can easily submit your pages to all top Hindi Social bookmarking and networking sites.

    Hindi bookmarking and social networking sites gives more visitors and great traffic to your blog.

    Click here for Install Add-Hindi widget

    उत्तर देंहटाएं
  5. Just install Add-Hindi widget button on your blog. Then u can easily submit your pages to all top Hindi Social bookmarking and networking sites.

    Hindi bookmarking and social networking sites gives more visitors and great traffic to your blog.

    Click here for Install Add-Hindi widget

    उत्तर देंहटाएं
  6. प्यार अपनों ने किया कुछ इस तरह
    अब मेरे दुश्मन मुझे भाने लगे

    Ati Sundar !!

    उत्तर देंहटाएं
  7. आदरणीय नीरज जी के गज़ल्गोई के बारे अब मैं भला क्या कह सकता हूँ हर शे'र बेहद बारीक और नाजुक हैं... मतले के बारे में जीतनी तारीफ़ करी जाए वो कम ही है... और ये शे'र
    सच बयानी की गुजारिश जब हुई
    चीखते सब लोग हकलाने लगे
    और मक्ता खुद खड़े होकर दाद देने को कह रहा है साहित्य शिल्पी को इस नायब ग़ज़ल को पढ़वाने के लिए दिल से आभार...

    अर्श

    उत्तर देंहटाएं
  8. वो मेहरबां है तभी करना यकीं
    जब बिना मांगे ही सब पाने लगे

    प्यार अपनों ने किया कुछ इस तरह
    अब मेरे दुश्मन मुझे भाने लगे

    वाह neeraj जी ............ कमाल करते हैं आप अपनी हर ग़ज़ल में ............ सीधे दिल पे vaar करते हैं .......... बहुत खूब ......

    उत्तर देंहटाएं
  9. सुन्दर शब्द से सजी ,
    नीरज भाई साहब की ग़ज़लें
    हमेशा पसंद आतीं हैं
    आज
    साहित्य शिल्पी के मंच पर
    उन्हें पढ़ना ,
    सुखद रहा
    - लावण्या

    उत्तर देंहटाएं
  10. सोच को अपनी बदल कर देख तू
    मन तेरा गर यार मुरझाने लगे

    वाह ! बहुत खूबसूरत ग़ज़ल...

    उत्तर देंहटाएं
  11. नीरज जी, बहुर खूबसूरत ग़ज़ल है. ये शेर बहुत पसंद आये:
    मतला भी बहुर ख़ूब है.
    गीत तेरे जब से हम गाने लगे
    भीड़ में सबको नज़र आने लगे

    प्यार अपनों ने किया कुछ इस तरह
    अब मेरे दुश्मन मुझे भाने लगे
    खार तेरे पाँव में 'नीरज' चुभे
    नीर मेरे नैन बरसाने लगे
    बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  12. नीरज जी आपकी यह गजल भा गयी मन को।

    उत्तर देंहटाएं
  13. कह गए हैं नीरज कुछ ऐसी गजल
    बैठ करके सुमन गुनगुनाने लगे

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    www.manoramsuman.blogspot.com
    shyamalsuman@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं
  14. सोच को अपनी बदल कर देख तू
    मन तेरा गर यार मुरझाने लगे ।।

    वाह्! लाजवाब्!!
    भाई नीरज जी को इस बेहतरीन गजल के लिए ढेरों बधाई!!!

    उत्तर देंहटाएं
  15. गीत तेरे जब से हम गाने लगे
    भीड़ में सबको नज़र आने लगे



    बिन तुम्हारे खैरियत की बात भी
    पूछते जब लोग तो ताने लगे


    नीरज जी! बेहतरीन गजल...

    बधाई !

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget