रचनाकार परिचय:-
धीरेन्द्र सिंह का जन्म १० जुलाई १९८७ को छतरपुर जिले के चंदला नाम के गाँव में हुआ था| आपने अपनी प्रारम्भिक शिक्षा चंदला में ही पूरी की। वर्तमान में आप इंदौर में अभियन्त्रिकी में द्वितीय वर्ष के छात्र हैं| कविताएँ लिखने का शौक आपको अल्पायु से ही था, किन्तु पन्नो में लिखना कक्षा नवीं से प्रारंभ किया| आप हिंदी और उर्दू दोनों भाषाओं में रचनाएं लिखते हैं। आपका 'काफ़िर' तखल्लुस है|

वो पुरानी बात घर में छोड़ आया
याद के कूचे शहर में छोड़ आया

आरजू वो, जुस्तुजू वो, कूबकू जो
तोड़ के अपनी नज़र में छोड़ आया

रात भर मैं बाम पर जागा हुआ था
नींद को लम्बे सफ़र में छोड़ आया

देर तक मैं भी वहाँ ठहरा नहीं था
मैं उसे, राहेगुज़र में छोड़ आया

आज दीवारें उदासी हैं , मना लो
इल्तिजा उसके दहर में छोड़ आया

6 comments:

  1. Just install Add-Hindi widget button on your blog. Then u can easily submit your pages to all top Hindi Social bookmarking and networking sites.

    Hindi bookmarking and social networking sites gives more visitors and great traffic to your blog.

    Click here for Install Add-Hindi widget

    उत्तर देंहटाएं
  2. वो पुरानी बात घर में छोड़ आया
    याद के कूचे शहर में छोड़ आया
    .......

    एक उम्दा गज़ल ... शुभकामना

    उत्तर देंहटाएं
  3. देर तक मैं भी वहाँ ठहरा नहीं था
    मैं उसे, राहेगुज़र में छोड़ आया
    bhut behtreen mitr meri badhaayi swikaar kare saadar
    praveen pathik
    9971969084

    उत्तर देंहटाएं
  4. नींद को लम्बे सफ़र में छोड़ आया

    नींद को लम्बे सफ़र में छोड़ आया

    bahut khoob

    उत्तर देंहटाएं
  5. वो पुरानी बात घर में छोड़ आया
    याद के कूचे शहर में छोड़ आया

    अच्छी शायरी है।

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget