रचनाकार परिचय:-

सतपाल ख्याल ग़ज़ल विधा को समर्पित हैं। आप निरंतर पत्र-पत्रिकाओं मे प्रकाशित होते रहते हैं। आप सहित्य शिल्पी पर ग़ज़ल शिल्प और संरचना स्तंभ से भी जुडे हुए हैं तथा ग़ज़ल पर केन्द्रित एक ब्लाग आज की गज़ल का संचालन भी कर रहे हैं। आपका एक ग़ज़ल संग्रह प्रकाशनाधीन है। अंतर्जाल पर भी आप सक्रिय हैं।
शाम ढले मन पंछी बन कर दूर कहीं उड़ जाता है
सपनों के टूटे तारों से ग़ज़लें बुन कर लाता है

जाने क्या मजबूरी है जो अपना गांव छॊड़ ग़रीब
शहर किनारे झोंपड़-पट्टी मे आकर बस जाता है

देख तो कैसे आरी से ये काट रहा है हीरे को
देख तेरा दीवाना कैसे-कैसे वक्त बिताता है

तपते दिन के माथे पर रखती है ठंडी पट्टी शाम
दिन मज़दूर सा थक कर शाम के आंचल मे सो जाता है

रात के काले कैनवस पर हम क्या-क्या रंग नहीं भरते
दिन चढ़ते ही कतरा-कतरा शबनम सा उड़ जाता है

चहरा-चहरा ढूंढ रहा है खोज रहा है जाने क्या
छोटी-छोटी बातों की भी तह तक क्यों वो जाता है

कैसे झूठ को सच करना है कितना सच कब कहना है
आप ख़याल जो सीख न पाए वो सब उसको आता है

8 comments:

  1. चहरा-चहरा ढूंढ रहा है खोज रहा है जाने क्या
    छोटी-छोटी बातों की भी तह तक क्यों वो जाता है

    कैसे झूठ को सच करना है कितना सच कब कहना है
    आप ख़याल जो सीख न पाए वो सब उसको आता है

    बहुत खूब।

    उत्तर देंहटाएं
  2. Taqreeban sarey hi ashaar pasand aaye.
    Yeh khaas lage -
    तपते दिन के माथे पर रखती है ठंडी पट्टी शाम
    दिन मज़दूर सा थक कर शाम के आंचल मे सो जाता है

    रात के काले कैनवस पर हम क्या-क्या रंग नहीं भरते
    दिन चढ़ते ही कतरा-कतरा शबनम सा उड़ जाता है

    चहरा-चहरा ढूंढ रहा है खोज रहा है जाने क्या
    छोटी-छोटी बातों की भी तह तक क्यों वो जाता है

    God bles
    RC

    उत्तर देंहटाएं
  3. चहरा-चहरा ढूंढ रहा है खोज रहा है जाने क्या
    छोटी-छोटी बातों की भी तह तक क्यों वो जाता है

    कैसे झूठ को सच करना है कितना सच कब कहना है
    आप ख़याल जो सीख न पाए वो सब उसको आता है

    बहुत खूब लिखा है
    अमिता

    उत्तर देंहटाएं
  4. सतपाल जी की हर गजल जिंदगी की सचाई से रू-ब-रू होकर अपनी बात कहती है. यह रचना भी जमीन से जुडी है.

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget