कवि परिचय:-
श्रद्धा जैन अंतर्जाल पर सक्रिय हैं तथा ग़ज़ल विधा में महत्वपूर्ण दख़ल रखती हैं।
आप शायर फैमिली डॉट् क़ॉम का संचालन भी कर रहीं हैं व इस माध्यम से देश-विदेश के स्थापित व नवीन शायरों एवं कवियों को आपने मंच प्रदान किया है। वर्तमान में आप सिंगापुर में अवस्थित हैं व एक अंतर्राष्ट्रीय विद्यालय में हिन्दी सेवा में रत हैं।
हो एक ऐसा शख्स जो, मोहब्बत-ओ-वफ़ा करे
उठाए हाथ जब भी वो, मेरे लिए दुआ करे

अकेले बैठूं जो कभी मैं, खुद को सोचती हुई
तो आँखें मूंद के मेरी, वो पीछे से हंसा करे

मुझे बताए ग़लतियाँ भी, रास्ता दिखाए फिर
वो देखे बन के आइना, हरेक पल खुदा करे

हूँ जो खफा मनाए, करके भोली सी शरारतें
जो खिलखिला के हंस पढ़ुँ, तो एकटक तका करे

हो पूरे ख्वाब कब, नहीं ये “श्रद्धा” जानती मगर
कज़ा से पहले चार दिन, खुशी के रब अता करे

11 comments:

  1. शानदार ग़ज़ल अनूठी कहन के साथ

    उत्तर देंहटाएं
  2. लगता है
    राखी सावंत ने भी
    इसी अहसास के साथ
    अपना स्‍वयंवर रचाया है
    आपने अपनी गजल में
    खूब मनोभावों का आईना
    बनाया है
    जो हमको तो खूब लुभाया है

    उत्तर देंहटाएं
  3. Just instal Add-Hindi widget on your blog. Then you can easily submit all top hindi bookmarking sites and you will get more traffic and visitors !
    you can install Add-Hindi widget from http://findindia.net/sb/get_your_button_hindi.htm

    उत्तर देंहटाएं
  4. गहरे मनोभाव लिये हुये इस गजल के लिये मुबारक बाद. मगर ऐसा शक्स मिलेगा कहां.. ;)

    उत्तर देंहटाएं
  5. हूँ जो खफा मनाए, करके भोली सी शरारतें
    जो खिलखिला के हंस पढ़ुँ, तो एकटक तका करे

    कमाल के शब्द दिये हैं अपनी अनुभूतियों को।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत अच्छी ग़ज़ल है श्रद्धा जी, बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  7. ACHCHHEE GAZAL KE LIYE SHRDDHA JAIN
    JEE KO BADHAI.

    उत्तर देंहटाएं
  8. मुझे बताए ग़लतियाँ भी, रास्ता दिखाए फिर
    वो देखे बन के आइना, हरेक पल खुदा करे

    एक से बढ़ कर एक होता है हर शेर आपका.....
    लाजवाब ग़ज़ल के लिए बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  9. aap ki gazal me ek khas baat hai vo samne dikhai deti hai us ki kahi bateh lagta hai ghat rahi hain
    sunder
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  10. मुझे बताए ग़लतियाँ भी, रास्ता दिखाए फिर
    वो देखे बन के आइना, हरेक पल खुदा करे
    ....Ek-ek shabd dil men utarte jate hain...bahav aur kathy ke lihaj se khubsurat gajal !!

    उत्तर देंहटाएं
  11. अकेले बैठूं जो कभी मैं, खुद को सोचती हुई
    तो आँखें मूंद के मेरी, वो पीछे से हंसा करे

    हूँ जो खफा मनाए, करके भोली सी शरारतें
    जो खिलखिला के हंस पढ़ुँ, तो एकटक तका करे

    श्रध्दा जी...ग़ज़ब...वाह...अहाहा...आनंद आ गया...बधाई.
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget