[कविता पेंटिंग श्रंखला की द्वितीय प्रस्तुति]
--------------------------------
(साभार पेन्टिंग : स्वामीनाथन इलयरजा )
--------------------------------
रचनाकार परिचय:-
सुशील कुमार का जन्म 13 सितम्बर, 1964, को पटना सिटी में हुआ, किंतु पिछले तेईस वर्षों से आपका दुमका (झारखण्ड) में निवास है।

आपनें बी०ए०, बी०एड० (पटना विश्वविद्यालय) से करने के पश्चात पहले प्राइवेट ट्यूशन, फिर बैंक की नौकरी की| 1996 में आप लोकसेवा आयोग की परीक्षा उत्तीर्ण कर राज्य शिक्षा सेवा में आ गये तथा वर्तमान में संप्रति +२ जिला स्कूल चाईबासा में प्राचार्य के पद पर कार्यरत हैं।

आपकी अनेक कविताएँ-आलेख इत्यादि कई प्रमुख पत्रिकाओं, स्तरीय वेब पत्रिकाओं में प्रकाशित हैं।

कितनी भोली हो
और अनजान तुम, फूलमुनी
इस दुनिया से कि

वायुयान को अभी तक
एक चील समझती हो
और रेलगाड़ी पर
बैठने के सपने देखती हो

सूरज अब भी
गुम्मापहाड़* के पीछे से उगता है
और बाँसलोय* नदी की
कोख़ में समा जाता है
हर शाम को
तुम्हारे लिये

तुम्हारे लिये
पृथ्वी कच्छप अवतार के
पीठ पर या शेषनाग के
फन पर ठहरी हुई है

दुमका शहर अब भी
तुम्हारी पहुँच से
बहुत दूर है फूलमुनी

तुम्हारे गाँव से
कितनी बड़ी होगी यह दुनिया !

बस नदी पार...
पठारी जंगल से क्षितिज तक
जो देखती हो फैला हुआ धुंधलका
जहाँ धरती आसमान से जा मिलते हैं
वही तक समझती हो कि-
है यह दुनिया
जिसमें अपने गाँव की तरह
और भी कई गाँव होंगे, बस

रतजगी कर नित्य
साल पत्ते के पत्तल
दतुवन के मुठ्ठे
और बाँस की टोकरियाँ
बनाती हो
हर मंगल-सनीचर को
नदी पार कर हाट जाती हो

जब पूरा गाँव नींद में निढ़ाल होता है
बहुत भोर में
मुर्गा-बाँगने से पहले ही
उठ-पुठ कर
जंगल को चल देती हो
महुआ बीनती हो
लकड़ी चुनती हो
घास का बोझा बनाती हो

मन ही मन बीच-बीच में
मगन हो गुनगुनाती हो
कोई प्रेमगीत
और बधना-परब की
प्रतीक्षा करती हो ...

"आयेगा सुकल बेसरा गाँव
असाम से कमाकर
तुम्हारे लिये नई साड़ी
ब्लाउज के कटपीस
और रोल-गोल्ड* के
सुन्दर-सुन्दर हार
रंग-बिरंगे बाले लेकर"

हाट-बाट से थककर
जड़ी-बूटी, कंद-मूल-महुआ सब
बेच-बिकन कर
दिनभर की थकान के बाद
नहा-धोकर
जलखई कर
जब सज-धजकर
खाली टोकरी पर हाथ धर
दलान की सिल पर
बैठती हो सुसताने
तो

रोज साँझ डूबने तक
अपने पिया की ही
बाट जोहती हो

सपने सजाती हो
कि इस बार
उरिन हो जायेगा तुम्हारा पति
गाँव के रामनरेश भगत के कर्ज से

तुम्हारे चांदी के माँगटीका, हँसूली
फिर लौटा लेगा तुम्हारा सुकल
महाजन से
तुम्हारी गईया
फिर से वापस गोहाल में पागुर करेगी
और तुम्हारा छोटका
जरूर नाम लिखा लेगा इस बार स्कूल में

फिर जाओगी
बापू को देखने नदी पार
इस पहाड़ के दक्षिण
तीस कोस पैदल
अपनी माँ के घर अपने स्वामी संग
परब के कुछ उपहार लेकर

पर सिहर उठता है तुम्हारा मन
यह सोचकर कि
कई महीने हो गये नैहर गये
पता नहीं...
खाँस-खाँस कर बापू का बुरा हाल होगा
माई भी कुहरती होगी
गोहाल में गायें फँसी होगी गोबर से
और छोटकी पर नज़र गड़ाये होगा
रामजस सिंह का निठल्ला बेटा कन्हैया

फूलमनी! देखता हूँ,
धरती पर तुम एक
निष्पाप-निश्छल कृति हो
तुम्हारे भीतर एक नदी बहती है
प्रेम की अविरल,
और विरह की अग्नि जलती है

सपने बुनती हो सुख के नित्य तुम
और पति की प्रतीक्षा में
बिछी हैं अपलक आँखें तुम्हारी
जिसमें तुफानी ज्वार के पहले की
सागर -सी थमी हुई निस्तब्धता है
पर हर सांझ उन सपनों को
विकल रात में बदल
करवट ले लेती है
अगली सुबह के लिये

पता नहीं किस दिन
तुम्हारे अंतस की चढ़ी हुई नदी में
बाढ़ आ जाय
और तुम्हारे सपने उनमें
बहकर किसी सुनसान टीले के
ठौर लग जाय ।

**********
गुम्मापहाड़* = दुमका का एक पहाड़ , बाँसलोय*= पाकुड़ और दुमका को विभक्त करती एक नदी।


38 comments:

  1. सुशील कुमार जी सरल भाषा में उत्तम प्रस्तुति.
    आँखों के सामने चित्र खींचती आप की शैली.
    बहुत -बहुत बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  2. bahut hi sunder prastuti... aapne na sirf tasvir me jaan bhar di hai, valki Pahari jeevan ko bhi bahut hi khubsurti se prastut kiya hai... bahut-bahut badhyi.

    sunder rachna ke liye dhanyavaad.

    उत्तर देंहटाएं
  3. 'फूलमुनी' एक अव्दितीय कविता। अत्यधिक मर्म-स्पर्शी। कवि-हृदय का प्रतिबिम्ब है। रचनाकार के अन्तरतम में कोई नारी है जो इस शब्द-सृष्टि में मुखर हो उठी है। रचना-सारल्य की अपार शक्‍ति उजागर करती है यह कालजयी कविता। सुशील कुमार जैसे सहृदय कवियों पर हिन्दी-कविता का भविष्य निर्भर करता है।
    * महेंद्रभटनागर, ग्वालियर
    फ़ोन : 0751-4092908

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुशील जी की यह कविता पढ़कर मैं बहुत सम्मोहित सी हो गयी। एक स्त्री की भावना और आदिवासी इलाकों में उसकी त्रासदी का बहुत सुन्दर वर्णन किया है आपने।

    उत्तर देंहटाएं
  5. कितनी सुन्दर कविता है ये. डॉलर, स्टाईल, मेकअप और डेड लाइन्स के बीच निशिगंधा या सोन चंपा की महक लिए सौंधी सी फुरसत मिल जाए, ऐसा ही लगा. धन्यवाद सुशील जी.
    अन्तरा करवड़े

    उत्तर देंहटाएं
  6. आदिवासी महिला के दिल और परिस्थिति का इतना स्‍वाभाविक चित्रण सिर्फ आपकी कलम से ही संभव है .. कमाल की रचना है !!

    उत्तर देंहटाएं
  7. ऐसा लगा कविता पढ़कर जैसे किसी जंगली ताजा फूल की बादियों में चला गया... बहुत खूब!

    उत्तर देंहटाएं
  8. जितना स्तब्ध कर देने वाला चित्र है उतनी ही प्रभावित करने वाली कविता है।

    उत्तर देंहटाएं
  9. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  10. मर्मस्पर्शी कविता। कविता पढने के बाद पेंटिग देखो तो वह बोलती हुई लगती है।

    उत्तर देंहटाएं
  11. पता नहीं किस दिन
    तुम्हारे अंतस की चढ़ी हुई नदी में
    बाढ़ आ जाय
    और तुम्हारे सपने उनमें
    बहकर किसी सुनसान टीले के
    ठौर लग जाय ।

    वाह बहुत खूब। बहुत अच्छी रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  12. सुशील जी आप की कविता सरल होती है और आसानी से पढने वाले के हृदय में उतर जाने वाली होती है। फूलमुनी परिवेश पर आपकी समझ और पकड बताने वाली कविता है।

    उत्तर देंहटाएं
  13. डा. रमा द्विवेदी....

    नारी हॄदय की मर्मस्पर्शी अभिव्यक्ति बहुत सराहनीय है साथ में चित्र होने की वजह से कविता की सार्थकता और भी अधिक बढ़ गई है...कवि को ढ़ेर सारी शुभकामनाएँ...।

    उत्तर देंहटाएं
  14. DIL KO CHOO LENE VAALI .... MARMSPARSHIY RACHNA .....BOLTE HUVE SHABD HAIN SUSHEEL KUMAAR JI BAHOOT BAHOOT BADHAAI IS RACHNA KE LIYE ...

    उत्तर देंहटाएं
  15. मर्मस्पर्शी कविता। कविता नहीं, बोलते चित्र. जी नहीं एक पूरा जीवन परिदृश्य .
    सटीक चित्रण. सत्य का चुपचाप सीधे सीधे प्रकटीकरण.
    (कवि महोदय को धन्यवाद)

    उत्तर देंहटाएं
  16. अगर थोड़े में कहूँ तो आपकी यह कविता ’फूलमुनी’ आदिवासी स्त्रियों के जीवन-संघर्ष और मनोविज्ञान को प्रतिबिम्बित करने वाली प्रतिनिधि-कविताओं की श्रेणी में रखी जायेगी। मैं जानता हूँ, आप बहुत मेहनत करते हैं हर ऐसी कविता पर।- अशोक सिंह, दुमका।

    उत्तर देंहटाएं
  17. आदिवासी जीवन का चित्र खिंच जाता है। बहुत अच्छी रचना है।

    उत्तर देंहटाएं
  18. फूलमुनी उत्कृष्ट रचना है, सुशील जी नें दिल से लिखी है।

    उत्तर देंहटाएं
  19. SUSHIL KUMAR JEE KEE EK AUR UTKRISHT RACHNA.

    उत्तर देंहटाएं
  20. सुन्दर रचना
    यही फ़ूलमुनी तो अद्वतीय भारत की असली पहचान है

    उत्तर देंहटाएं
  21. मेरे ईमेल पर हिन्दी के वरिष्ठ साहित्यकार आदरणीय श्री उदय प्रकाश जी की जो प्रतिक्रिया प्राप्त हुई है, उसे शब्दश: यहाँ दे रहा हूँ-
    इस कविता ने मुझे अपने गांव और अपनों के बीच पहुंचा दिया. जन-जीवन से गहरी संसक्ति और उतनी ही उत्कट चिंताओं से भरी एक बहुत सहज मार्मिक कविता.
    सृजनात्मकता के उत्कर्ष की ढेरों शुभकामनाओं के साथ
    उदय प्रकाश
    Uday Prakash udayprakash05@gmail.com
    toसुशील कुमार sk.dumka@gmail.com>

    date:Fri, Sep 4, 2009 at 10:20 AM

    उत्तर देंहटाएं
  22. एक बेहद ख़ूबसूरत कविता...
    कई चीज़ों को सीधा अंतस में उतारती हुई...साक्षात चित्र खींचते हुए...

    अच्छा लगा...

    उत्तर देंहटाएं
  23. रेखा मैत्रा जी की प्रतिक्रिया-मेरे ईमेल पर-
    kavita baree marmik hai ! badhaaee!

    -rekha.maitra@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं
  24. bahut hi achchhi kavita hai shabd nahi hai mere pas kuchh bhi kahne ko
    bas aap ka thanks kah sakti hoon
    saader
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  25. आदरणीय सुशील जी की कविताओं की विशेषता है कि उनमें मिट्टी की खुशबू रची बसी है। मैंने हजारो फूलमनियों को बस्तर में देखा है और उनका दर्द महसूस किया है और आज सिशील जी की कविता पढते हुए बस वही सब कुछ आँखों के आगे आ गया, अहसास में उतर गया। आभार सुशील जी, आप सही मायनों में कवि हैं और आपकी कविता सामाजिक सरोकारों से जुडी रह कर अपना कर्तव्यनिर्वहन करती रहती है।

    उत्तर देंहटाएं
  26. Kavita to kavita...painting bhee gazab hai...mana nahee jata ki, photograph na hoke chitrkala hai!
    Dingra ji se sahmat hun!

    उत्तर देंहटाएं
  27. फुल मुनी का चित्र सम्मोहक है और सुशील कुमार जी की कविता ने
    सादगी से भरे नारी मन को सजीव कर दिया - शब्द चित्र मुखर हो उठा -
    मैंने जज्दीक से भारत के ऐसे गरमी जीवन को कभी देखा नहीं इसका अफ़सोस ऐसी रचनाओं को पढ़कर कम हुआ और चिंता बढ़ गयी
    ना जाने कब आबाद होंगें हमारे ग्राम प्रांतर ?
    फिलहाल, मेरी हार्दिक बधाई व शुभकामनाएं स्वीकारें

    - लावण्या

    उत्तर देंहटाएं
  28. मनमोहक चित्र और जितनी सरलता से कविता पढ़ गुन ली जाती है। उतनी सरलता से लिखी नहीं जा सकती। सरल कविता को लिखना बहुत दुष्‍कर कार्य है जिसे सुशील जी अंजाम तक पहुंचाने में सिद्धहस्‍त हैं। धरोहर बनेंगी कविता की ऐसी कविताएं।

    उत्तर देंहटाएं
  29. टिप्‍पणियां आधी अधूरी क्‍यूं दिखाई पड रही है ?

    उत्तर देंहटाएं
  30. bolte chitra ki marmsprshi kavita ki khubsurat prastuti. kavya shaili bahut prabhavit karti hai. aapko badhai.


    nisha

    उत्तर देंहटाएं
  31. प्रिय सुशिल जी ,फुलमनी को उसकी समूची माटी की गंध के साथ उसके अपने संघर्ष की धरती पर जैसे पूरी सादगी से भर कर उकेर दिया हो.जमीन से जुडाकवि ही इस संवेदना कोअभिव्यक्ति बना सकता है आप को मेरी हार्दिक बधाई. 09818032913

    उत्तर देंहटाएं
  32. आपनी इतनी उत्कृष्ट कविता लिखी है कि मैँ अपने आपको इस पर टिप्पणी करने के काबिल नहीं पा रहा

    उत्तर देंहटाएं
  33. आदरणीय राजीव रंजन जी,
    आपने जो मेरे नाम पर लिंक दिया है, वह खुलता नहीं हैं, शायद लिंक पेस्ट करने में कोई त्रुटि हुई हो। उसे देख लेंगे।
    दूसरी बात जो संगीता पुरी जी ने भी कही है ,वह कि कभी-कभी किसी लेखक की किसी रचना को किल्क करने पर जो पृष्ठ खुलता है यानी मुख्य प्रूष्ठ पर टिप्पणी के साथ, वह पूरी तरह नहीं दीख पाता। (पर ऐसा हरदम नहीं होता।)
    कृप्या उक्त तकनीकी बाधाओं को वेबमास्टर से कहकर दूर कर दिया जाय ताकि आगंतुक बाधारहित भ्र्म्ण कर सकें। धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  34. सुशील कुमार जी,
    मिट्टी की सौंधी सुगन्ध से भीगी एक बहुत ही सुन्दर रचना । ठीक वैसे ही जैसे आपने स्वयं लिखा है---
    फूलमनी! देखता हूँ,
    धरती पर तुम एक
    निष्पाप-निश्छल कृति हो
    तुम्हारे भीतर एक नदी बहती है
    प्रेम की अविरल,
    और विरह की अग्नि जलती है ।
    एक आदिवासी युवती के भोलेपन को शब्दचित्रों में बहुत ही सुन्दरता से प्रस्तुत किया है आपने ।
    आपको बधाई और राजीव रंजन जी का धन्यवाद
    शशि पाधा

    उत्तर देंहटाएं
  35. सुन्दर चित्र के साथ सुन्दर सार्थक रचना |

    बधाई |

    अवनीश तिवारी

    उत्तर देंहटाएं
  36. आदिवासियों का दर्द आप हर बार इसी कुशलता से उकेरते रहते हैं। इस क्षेत्र में आपका कोई सानी नहीं है।

    सुशील जी, आपकी रचना के साथ हीं साथ इस पर स्वामीनाथन जी की की गई पेंटिंग भी काबिल-ए-तारीफ़ है।

    बधाई स्वीकारें।

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget