बीस सिरों का रावण


फेस्टिवल बोनस


त्यौहार लोन


समोसे में आलू


कमर टूट गयी है


--------------
नाम: सुरेश शर्मा (कार्टूनिस्ट )
आयु: ४७ वर्ष
पेशा: दैनिक हिंदुस्तान रांची,में १० वर्षों से बतौर कार्टूनिस्ट कार्यरत !
अन्य जानकारियां- कार्य अनुभव २५ वर्षों का ! अबतक १५००० हजार से भी अधिक कार्टून प्रकाशित!
कुछ प्रमुख पत्र-पत्रिकाएं जहाँ कार्टून प्रकाशित हुए या हो रहे हैं:
दैनिक हिंदुस्तान, प्रभात खबर, रांची एक्सप्रेस, सन्मार्ग, अपनी रांची, देशप्राण, सरिता, मेरी सहेली, वामा, गृह सहेली, बिंदिया, प्रथम प्रवक्ता, नूतन कहानियाँ, सच्ची कहानियां, सरस सलिल, दी पब्लिकअजेंडा, राज माया, संपादक, नंदन, बाल भारती, बाल हंस, बाल भाष्कर, दीवाना तेज साप्ताहिक, लोटपोट, मधुमुस्कान, आनंद डाइजेस्ट, मेला, माधुरी, आदि.....
ब्लोग्स- http://sureshcartoonist.blogspot.com. www.sahityashilpi.com

16 comments:

  1. आपके व्यंग्य आपके कार्टूनों में प्रयोक्त रंगों की तरह ही चटकीले होटल हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बीस सिर वाला रावण बिलकिल सही प्रतीक है मँहगायी का

    उत्तर देंहटाएं
  3. मँहगायी नें वाकई कमर तोड़ दी है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. इस मँहगाये में बोनस के भरोसे ही त्यौहार मनाये जा रहे हैं :)

    उत्तर देंहटाएं
  5. साहित्य शिल्पी पर आपके कार्टूनों की प्रतीक्षा रहने लगी है।

    उत्तर देंहटाएं
  6. मुस्कुराने को बाध्य करने वाले कार्टून हैं। नवरात्र व दशहरा की मंगलकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  7. यह तो नवरात्रि स्पेशल हो गया

    उत्तर देंहटाएं
  8. सभी मित्रों- शुभचिंतकों का दिल से आभार! ये सभी कार्टून आपके स्नेह का प्रतिफल है, आपका प्यार आपकी टिपण्णी के द्वारा हमें प्राप्त होता है,बदले में हमें मिलती है नई उर्जा, नई सोच, और हम फिर से तैयार हो जाते हैं आपके लिए नए बेहतर कार्टून बनाने के लिए! आप सभी का फिर से आभार ! नवरात्रि की बधाइयाँ !

    उत्तर देंहटाएं
  9. नवरात्रि की शुभकामनायें। बहुत अच्छे कारटून हैं। सटीक

    उत्तर देंहटाएं
  10. पंकज सक्सेना27 सितंबर 2009 को 11:56 am

    क्या बात है

    उत्तर देंहटाएं
  11. सुरेश जी बहुत ही सुन्दर कार्टून की कडी..सब एक से बढ कर एक.. आभार

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget