वर्षों तक
बार-बार
आता रहा एक ही सपना
नदी के तटबंधों पर
हाथों से सहलाता हूँ
उभरी तंरगें
नदी देती है खुला निमन्त्रण
पर बल खाती तरंगों पर
तैरने से घबराता हूं
डरते-डरते
गहरे में उतरता हूं
और जल के आवेग की तालों बीच
नदी पर तैरते हुए दूर निकल जाता हूं
तटों के बंधन से मुक्त नदी
मंझधार में
समूचा समेट लेती है मुझे
डूबते-डूबते
शिथिल होता है भुजाओं का पौरुष
नदी पता नहीं
कहां लेती होगी करवट
टूटे सपने की डोर पकड़े
बदलता हूं करवट बिस्तर पर

6 comments:

  1. डूबते-डूबते
    शिथिल होता है भुजाओं का पौरुष
    नदी पता नहीं
    कहां लेती होगी करवट
    टूटे सपने की डोर पकड़े
    बदलता हूं करवट बिस्तर पर

    प्रभावी कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  2. शब्द और भाव का बेजोड़ संगम..
    सुंदर कविता....

    उत्तर देंहटाएं
  3. मंत्रमुग्ध करने वाली कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  4. नदी पता नहीं
    कहां लेती होगी करवट
    टूटे सपने की डोर पकड़े



    बहुत सुंदर..
    बधाई

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget