span title=साहित्य शिल्पी" रचनाकार परिचय:-

मूलतः फरीदाबाद, हरियाणा के निवासी दिगंबर नासवा को स्कूल, कौलेज के ज़माने से लिखने का शौक है जो अब तक बना हुआ है।

आप पेशे से चार्टेड एकाउंटेंट हैं और वर्तमान में दुबई स्थित एक कंपनी में C.F.O. के पद पर विगत ७ वर्षों से कार्यरत हैं।

पिछले कुछ वर्षों से अपने ब्लॉग "स्वप्न मेरे" पर लिखते आ रहे हैं।

झूठ की मुस्कान होठों पर सज़ा लें
सच के आँसू आँख में अपनी दबा लें

चाहते हैं पूजना जो देवता को
जो गये हैं रूठ वो बच्चे मना लें

छेद कोई हो गया है चाँद में
चाँदनी का उबटन मल कर नहा लें

रौशनी को फैलने दें दूर तलक
आप चेहरे से ज़रा पर्दा हटा लें

रेत पर लिखा हुवा है नाम उनका
आँधियों से उन के शहर का पता लें

कृष्ण आयेंगे तुम्हारे सखा बन कर
पार्थ इस गांडीव को फिर से सजा लें

आत्मा मिल जायेगी परमात्मा से
बांसुरी की तान को मन में बसा लें

नेवला और सांप मिल कर रह सकें
इस तरह से आज घर अपना बना लें

है उसी की भैंस फिर जिसकी है लाठी
चल रही है आज तो अपनी चला लें

8 comments:

  1. रेत पर लिखा हुवा है नाम उनका
    आँधियों से उन के शहर का पता लें

    कृष्ण आयेंगे तुम्हारे सखा बन कर
    पार्थ इस गांडीव को फिर से सजा लें

    आत्मा मिल जायेगी परमात्मा से
    बांसुरी की तान को मन में बसा लें

    अच्छी रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  2. खुशी हुई नासवा जी आपका पोस्ट यहाँ देखकर और आपकी फोटो भी

    उत्तर देंहटाएं
  3. झूठ की मुस्कान होठों पर सज़ा लें
    सच के आँसू आँख में अपनी दबा लें
    वाह

    उत्तर देंहटाएं
  4. रेत पर लिखा हुवा है नाम उनका
    आँधियों से उन के शहर का पता लें

    बहुत ही सुन्‍दर एवं लाजवाब प्रस्‍तुति, आभार

    उत्तर देंहटाएं
  5. कई तरह के भावों से सजी एक रंग बिरंगी ग़ज़ल . सच के आंसू का प्रयोग अनूठा लगा .. काफी नया ....
    "आत्मा मिल जायेगी परमात्मा से
    बांसुरी की तान को मन में बसा लें"
    ये शेर हासिल-ऐ-ग़ज़ल रहा ...

    एक गुजारिश है नासवा साहब से , कई शेर बेहेर से खारिज हैं ..जब कि शिल्पी पर ही बेहेर से सम्बंधित सामग्री प्रचुर मात्र में उपलब्ध है .. ग़ज़ल , भाव और बेहेर दोनों से बनती है..:-)

    उत्तर देंहटाएं
  6. रौशनी को फैलने दें दूर तलक
    आप चेहरे से ज़रा पर्दा हटा लें
    बहुत खूबसूरत -- रौशन करने वाली रचना

    उत्तर देंहटाएं
  7. really impressive one.
    not only a gazal but a philosphy and action plan and full of spirituality.
    Thnaks a lot
    Please give space in your email inox to me

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget