उसने कब कहा
शहीद हूं मैं
फांसी का रस्सा चूमने से कुछ रोज पहले
उसने तो केवल यही कहा था
कि मुझसे बढ़ कौन होगा खुशकिस्मत
मुझे नाज़ है अपने आप पर
अब तो बेहद बेताबी से
अंतिम परीक्षा की है प्रतिक्षा मुझे
कब कहा था उसने- मैं शहीद हूँ

शहीद तो उसे धरती ने कहा था
सतलुज की गवाही पर
शहीद तो, पांचों दरिया ने कहा था
गंगा ने कहा था
ब्रह्मपुत्र ने कहा था
शहीद तो उसे वृक्षों के पत्ते-पत्ते ने कहा था

आप जो अब धरती से युद्धरत हो
आप जो नदियों से युद्धरत हो
आप जो वृक्षों के पत्तों तक से युद्धरत हो

आपके लिये बस दुआ ही मांग सकता हूं मैं
कि बचाये आपको
रब्ब
धरती के शाप से
नदियों की बद्दुआ से
वृक्षों की चित्कार से।
----------
[कविता उद्भावना से साभार]

6 comments:

  1. मनोज जी,
    धन्य भाग हमारे कि आपके माध्यम से शहीद भगत सिंह पर लिखी गयी सुरजीत जी की कविता का अनुवाद पढ़ने को मिला. भगत सिंह
    को जन्म देने वाली माँ की कोख को शत् - शत् प्रणाम! जिस मातृभूमि की स्वतन्त्रता के लिए उन्होंने अपने प्राण की आहुति दी, उसकी रक्षा
    प्रत्येक भारतीय का प्रथम कर्त्तव्य है. संवेदनशीलता से भरी रचना के लिए आभार!
    ____किरण सिन्धु

    उत्तर देंहटाएं
  2. भगत सिंह को उनके जन्मदिवस पर स्मरण करना ही बडा कार्य है. हम जिस तरह से अपने महान शहीदों को भूलते जा रहे हैं वह दिन दूर नहीं कि आने वाली पीढी इस नाम से परिचित भी रह जाये। बहुत अच्छी रचना है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. शहीद तो उसे धरती ने कहा था
    सतलुज की गवाही पर
    शहीद तो, पांचों दरिया ने कहा था
    गंगा ने कहा था
    ब्रह्मपुत्र ने कहा था
    शहीद तो उसे वृक्षों के पत्ते-पत्ते ने कहा था

    शत शत नमन

    उत्तर देंहटाएं
  4. kya sunder chitran hai shabdon ka snyojan bhi khoob hai
    badhai
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  5. इस भावविभोर करने वाली रचना को हम तक पहुंचाने के लिये लेखक तथा मनोज जी का आभार

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget