द्विजेन्द्र द्विज जी को साहित्य शिल्पी परिवार की ओर से जन्म दिवस की हार्दिक शुभकामनायें। आज प्रस्तुत है उनकी एक ग़ज़ल, उनके ही सम्मान में...

हर गली, हर मोड़ पर अब जा बँधे शर्तों में लोग
सिर्फ़ जीने के लिए इक ज़िन्दगी क़िश्तों में लोग

<span title=
परिचय:-

द्विजेन्द्र ‘द्विज’ का जन्म 10 अक्तूबर,1962 को हुआ। आपकी प्रकाशित कृतियाँ हैं : जन-गण-मन (ग़ज़ल संग्रह) प्रकाशन वर्ष-२००३। आपकी ग़ज़लें अनेक महत्वपूर्ण संकलनों का भी हिस्सा हैं।

आप की ग़ज़लें देश की सभी प्रमुख पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित व आकाशवाणी से प्रसारित होती रही हैं। आप अंतर्जाल पर भी सक्रिय हैं।

नट, जमूरे, दास, बँधुआ या बने कठपुतलियाँ
नाचते हैं कैसे— कैसे वक़्त के हाथों में लोग

बीते कल को अपनी दुखती पीठ पर लादे हुए
ढो रहे हैं आने वाले कल को भी थैलों में लोग

ज़िन्दगी जब शर्त थी, जाँबाज़ वो ख़ुद बन गए
सीपियों ,शंखों की ख़ातिर खो गए लहरों में लोग

मतलबों की मंत्र—सिद्धि का असर तो देखिए
एक थे जो, रफ़्ता—रफ़्ता,बँट गए फ़िरक़ों में लोग

कितने समझौतों,निकम्मी आदतों की चादरें
ओढ़कर दुबके हुए हैं मख़मली ख़्वाबों में लोग

अब कहाँ फ़ुर्सत कि माज़ी की किताबें खोल कर
ढूँढें खुद को आज भी सूखे हुए फूलों में लोग

असलियत है असलियत ज़ाहिर तो होगी एक दिन
जा छिपें बेशक मुखौटों में या फिर परदों में लोग

ज़िन्दगी ! तुझको बयाँ करने की फ़ुर्सत अब किसे
रह गए अब तो उलझ कर राहतों ,भत्तों में लोग

लाख ‘द्विज’ जी ! आपने पाला अकेलापन मगर
फिर अचानक आन टपके आपकी ग़ज़लों में लोग

20 comments:

  1. हर गली, हर मोड़ पर अब जा बँधे शर्तों में लोग
    सिर्फ़ जीने के लिए इक ज़िन्दगी क़िश्तों में लोग

    बहुत खूब द्विजेन्द्र जी। चंद पंक्तियों में आपने हकीकत को उतार दिया है। जन्म दिवस की शुभकामनाएं।

    सादर
    श्यामल सुमन
    www.manoramsuman.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  2. द्विजेन्द्र द्विज जी को जन्म दिवस की हार्दिक शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  3. द्विजेन्द्र द्विज जी को जन्म दिवस की शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  4. लाख ‘द्विज’ जी ! आपने पाला अकेलापन मगर
    फिर अचानक आन टपके आपकी ग़ज़लों में लोग

    जन्म दिवस की शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बड़े भाई और गुरु जी को उनके जन्म दिन के मुक़द्दस मौके पे इस नाचीज के तरफ से ढेरो बधाईयाँ और शुभकामनाएं...

    अर्श

    उत्तर देंहटाएं
  6. नट, जमूरे, दास, बँधुआ या बने कठपुतलियाँ
    नाचते हैं कैसे— कैसे वक़्त के हाथों में लोग

    बीते कल को अपनी दुखती पीठ पर लादे हुए
    ढो रहे हैं आने वाले कल को भी थैलों में लोग

    बहुत खूब जन्म दिवस की शुभकामना।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत अच्छी रचना।जन्मदिन की बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  8. मतलबों की मंत्र—सिद्धि का असर तो देखिए
    एक थे जो, रफ़्ता—रफ़्ता,बँट गए फ़िरक़ों में लोग

    कितने समझौतों,निकम्मी आदतों की चादरें
    ओढ़कर दुबके हुए हैं मख़मली ख़्वाबों में लोग

    अब कहाँ फ़ुर्सत कि माज़ी की किताबें खोल कर
    ढूँढें खुद को आज भी सूखे हुए फूलों में लोग

    असलियत है असलियत ज़ाहिर तो होगी एक दिन
    जा छिपें बेशक मुखौटों में या फिर परदों में लोग

    सारे शेर उद्धरित करने योग्य हैं। जन्मदिन की शुभकामना।

    उत्तर देंहटाएं
  9. ज्अन्मदिन की मुबारक और बहुत अच्छी ग़ज़ल का शुक्रिया।

    उत्तर देंहटाएं
  10. PRIY DWIJ JEE,
    SABSE PAHLE AAP APNE
    JANM-DIWAS KE SHUBH AVSAR MEREE
    MEREE SHUBH KAMNA AUR BADHAEE
    SWEEKAR KIJIYE.AAPKE JANM-DIWAS PAR
    AAPKEE IS BEHTREEN GAZAL KAA EK-EK
    SHER PADHKAR MUNH AUR AANKHEN HEE
    NAHIN DIL BHEE MEETHAA HO GAYAA HAI.

    उत्तर देंहटाएं
  11. साहित्य शिल्पी के माध्यम से में अपने अज़ीज़
    हरमन प्यारे छोटे भाई "द्विज" को उसके जन्म् दिन पर
    शुभकामनाओं से लदा जहाज़ रवाना कर रहा हूँ
    ग़ज़ल बहुत पसंद आई हर एक शेर लाजवाब है
    दिलकश है पत्थरों के इर्द गिर्द रहने वाला नग्मा तराश
    सजीले बुत बनाता दिखाई देता है

    कुछ ऐसा ही जादू है द्विज में यह ग़ज़ल बयानी का
    उसका चाँद सा चेहरा जैसे फूल हो उजले पानी का

    मुबारिक साल गिरहा

    चाँद शुक्ला हदियाबादी
    डेनमार्क

    उत्तर देंहटाएं
  12. जन्मदिन की हार्दिक शुभकामना।

    उत्तर देंहटाएं
  13. जन्मदिन की शुभकामना द्विज जी।

    उत्तर देंहटाएं
  14. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  15. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  16. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  17. द्विज जी
    जन्म-दिवस पर की हार्दिक शुभकामना और ढेर सारी बधाईयाँ स्वीकार करें.
    ग़ज़ल के हर शेर पर 'वाह' निकलती है.

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget