साहित्य शिल्पी पर आयी इस ई-मेल नें चौंका दिया था। प्रेषक थे “मंजीत सिंह” और उन्होंनें अपना परिचय दिया था –एक चित्रकार जो साहित्यिक कृतियों और कविताओं पर पेंटिंग बना रहे हैं। आश्चर्यमिश्रित हर्ष यह जानकर हुआ कि मंजीत नें असाधारण काव्यकृतियों जैसे प्रसाद की कामायनी और दिनकर की उर्वशी आदि रचनाओं को भी अपने रंग-केनवास दिये हैं। मैंने तत्काल ही मंजीत जी को फोन मिलाया सामने से एक जिन्दादिल इंसान की विनम्रता से भरी आवाज थी। वे अपनी पेंटिंग प्रदर्शनी की तैयारी में व्यस्त थे और उस वार्ता के दौरान ही उन्होंने हमें 25 से 29 सितम्बर के मध्य “ओपन पाम कोर्ट, इंडिया हेबीटेट सेंटर, लोधी रोड, नई दिल्ली” आने का निमंत्रण दे दिया। हमें भी उनसे मुलाकात करने और उन्हे निकटता से जानने का इससे बेहतर अवसर कहाँ मिलता?
28 सितम्बर विजयादशमी थी। सपरिवार बाहर निकलने का यह एक अच्छा दिन भी था हमनें राष्ट्रकवि दिनकर की काव्यकृति उर्वशी पर आधारित पेंटिंग प्रदर्शनी को देखने का यह अवसर चुना। मैं तथा मेरी श्रीमति रितु रंजन, अभिषेक सागर तथा उनकी श्रीमति रचना सागर और अजय यादव; यानि कि हम पाँच; सुबह लगभग 10 बजे ही प्रदर्शनी स्थल पर पहुँच गये।
सुबह सुबह का वक्त, प्रदर्शनी स्थल पर अधिक भीड़-भाड़ नहीं थी।

हमनें सरसरी निगाह से प्रदर्शनी स्थल का मुआयना किया। वस्तुत: हम मंजीत जी की कृतियों का विवरण उनके द्वारा ही सुनना चाहते थे। इस बीच वे आये और बेहद आत्मीयता से हमारा स्वागत किया।

दिनकर जी की बडी सी तस्वीर जिसपर गेन्दे के फूल की माला चढायी गयी थी, प्रदर्शनी स्थल के मध्य स्थित स्तंभ पर लगायी गयी थी।
यह विचार ही स्वयं में अनूठा और नया है कि खंड़ काव्य उर्वशी पर पेंटिंग-श्रंखला बनायी जायें और कविता की पंक्तियों को सजीव किया जायें। उर्वशी जैसी अमर कृति के साथ मंजीत जी की कल्पनाओं नें न्याय किया था यह हमें प्रदर्शनी का प्रथमदृष्टया अवलोकन करते हुए ही लग गया था। अब हम मंजीत जी के साथ प्रदर्शनी देख रहे थे। वे हर पेंटिंग के सम्मुखे ले ला कर हमें दिनकर की कविता का आस्वादन कराते और फिर उन पंक्तियों के प्रकाश में अपने केनवास के रंगों के अर्थ समझाते। उर्वशी साकार हो उठी थी उसकी मनोभावनायें कविता की पंक्तियों से निकाल कर हरे-पीले-नीले-लाल जाने कितने रंगों में अभिव्यक्त हो रही थी। मंजीत जी कूची के जादूगर हैं। वे चटखी ले रंग बहुतायत में प्रयोग में लाते हैं संभवत: इस लिये कि कोई भी तस्वीर ध्यानाकर्षित किये बिना न रह जाये।

बातचीत के दौरान ज्ञात हुआ कि मंजीत सिंह वर्तमान में सरकारी कर्मचारी हैं तथा पावर ग्रिड कॉरपोरेशन में कार्य कर रहे हैं। मंजीत समाजशास्त्र में स्नातकोत्तर हैं।चित्रकला की विधिवत शिक्षा उन्होंने नहीं ली यद्यपि बालभवन नई दिल्ली की श्रीमति सावित्री श्रीवास्तव का उन्हें मार्गदर्शन अवश्य प्राप्त हुआ है। अर्थात कला स्वत:स्फूर्त होती है, स्वप्रेरणा से पनपती है। पेंटिंग के अलावा मंजीत संगीत संयोजन तथा कविता और कहानियों का लेखन भी करते हैं। मंजीत नें अनेकों प्रदर्शनिया राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित की हैं तथा आपकी कलाकृतियाँ कई सरकारी प्रतिष्ठानों व निजी संस्थानों की गरिमा बढा रही हैं।
हमनें जब उनसे पूछा कि यह विचार आपने मन में किस तरह अवतरित हुआ कि महान काव्यकृतियों को रंग-केनवास दिये जायें तो उनका जवाब बेहद सधा हुआ था। मंजीत ने कहा कि कविता के प्रति मेरा रुझान मेरे लिये प्रेरणा बन गया। हमारे साहित्य में बहुत रस है और रंग है।
मंजीत कहते हैं कि हिन्दी साहित्य ही मेरी पेंटिंग के तत्व हैं और उसकी सेवा करना ही मेरी विचारधारा। मंजीत साहित्य और हिन्दी की उपेक्षा करने वालों को आड़े हाँथो लेते हैं तथा बातचीत में वे वर्तमान साहित्य के गिरते स्तर तथा लोगों की कम होती अभिरुचि के प्रति भी चिंता व्यक्त करते हैं।

मंजीत एक अभियान के सर्जक हैं। वे हिन्दी साहित्याकाश के वर्तमान के तिमिर को रंगबिरंगा कर देने को उद्यत हैं। उनका सम्मान आवश्यक है, उन्हें और भी मंचों की आवश्यकता है।

मंजीत सिद्ध भी करते हैं कि किस तरह आज अच्छा साहित्य और अच्छी कला की कद्र कम हो गयी है और अश्लीलता और कूडा धड़्ल्ले से बेचा जा रहा है। प्रदर्शनी के आखिर में एक आधी बनी/ टेढी मेढी कूची से बनायी गयी पेंटिंग लगी थी। मंजीत बताते हैं कि इस पेंटिंग पर लोगों के विचार सुन कर मुझे आश्चर्य होता है कि क्या कला की परख रह भी गयी है? कोई इसे महान कृति बताता है ति कोई यह खडे मिनटो गुजार देता हौ और उसके अर्थ पर चर्चा करता है। मैं मुस्कुरा देता हूँ इस प्रसंशा पर लेकिन इसके पीछे का दर्द कोई नहीं समझ सकता।
मंजीत की यह पेंटिंग बडा सवाल छोड जाती है। यह प्रश्नचिन्ह केवल चित्रकारी और उसपर समझ से ही जुडा नहीं है यह सवाल कविता तक भी पहुँचता है। दिनकर क्यों काल जयी हैं और आज के लेखन की कोई जमीन क्यों नहीं शायद इसका उत्तर भी इस अबूझ-अधूरी पेंटिंग में ही अंतर्निहित है।


हमने इस अविस्मरणीय मुलाकात के लिये मंजीत जी का आभार व्यक्त किया।

-----
साहित्य शिल्पी के पाठको के सम्मुख हम न केवल “उर्वशी” अपितु “कामायनी” के अलावा भी मंजीत जी की पेंटिंग प्रस्तुत करते रहेंगे। चूंकि वे एक कवि भी हैं अत: साहित्य शिल्पी के स्तंभ “कविता-पेंटिंग” पर भी उनकी उपस्थ्ति रहेगी। स्वागत करें मंजीत सिंह का साहित्य शिल्पी पर....।
---

21 comments:

  1. साहित्य शिल्पी की एक खासियत है इसपर मुलाकाते रुचिकर अंदाज में प्रस्तुत की जाती हैं उस पर चित्र रौनक बढाते हैं।

    मंजीत सिंह जी के बारे में जान कर यह खुशी हुई कि कोई इतनी गहरायी से काव्य को रंग देने के काम में लगा है। उन्हे धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  2. उर्वशी पर पेंटिंग यह विचार नया है। मंजीत जी बधाई बडा काम किया आपने।

    उत्तर देंहटाएं
  3. इंटरनेट पर पहली बात एसी कलाओं को जगह देने में साहित्य शिल्पी ने सफलता हासिल की है। एसा उदाहरण और कहीं नहीं मिलता। मंजीत जी की नजर से उर्वशी देखने की प्रतीक्षा है लेकिन मैं धन्यवाद कहने में कंजूसी नहीं करूंगा

    उत्तर देंहटाएं
  4. अबूझ पेंटिंग वाला प्रसंग एक बडा सवाल है। मंजीत जी महान कार्य किया है, मील का पत्थर रखा गया है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. उर्वशी पर पेंटिंग्स देखने की इच्छा बढ गयी है। रिपोर्ट अच्छी बनी है। मंजीत सिंह जी नें नयी सोच को अंजान दिया है।

    उत्तर देंहटाएं
  6. लगता है त्यौहार का मौसम जारी है, साहित्य शिल्पी नें अनुपम भेंट दी है। मंजीत जी की पेंटिंग्स की प्रतीक्षा है। मैं उत्सुक हूँ कि उर्वशी जैसे जटिल काव्य को पेंटिंग कैसे प्रस्तुत कर सकती है।

    उत्तर देंहटाएं
  7. पंकज सक्सेना22 अक्तूबर 2009 को 12:17 pm

    हिन्दी साहित्य ही जिनकी पेंटिग के विषय है वो व्यक्ति स्वयं कितनी गहराई लिये होगा लगे रहिये मंजीत जी समय आपको अवश्य समझेगा।

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुंदर प्रयास है। इसके लिए हमारी ओर बधाई स्वीकारें।
    -Zakir Ali ‘Rajnish’
    { Secretary-TSALIIM & SBAI }

    उत्तर देंहटाएं
  9. सुन्दर चित्रों से सजी रेपोर्ट देख और मंजीत सिहं जी की बहुमुखी प्रतीभा के बारे में जान कर बहुत ही अच्छा लगा. व्यक्तिगत व्यस्तता के कारण मैं उनसे इस मुलाकात में शामिल न हो सका इसका अफ़सोस रहेगा

    उत्तर देंहटाएं
  10. MANJEET JEE KEE JITNEE PRASHANSAA
    KEE JAAYE UTNEE HEE KAM HAI.UNSE
    SHRI RAJIV RANJAN PRASAAD KEE
    MULAAKAAT ACHCHHEE LAGEE HAI.

    उत्तर देंहटाएं
  11. मंजीत जी की पेंटिंग्स से परिचय करवाने के लिए शुक्रिया

    उत्तर देंहटाएं
  12. एक और सुंदर संयोजन। अद्भुत। मेरी हािर्दक बधाई पहुंचांये मनजीत जी तक

    सूरज

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत सुंदर आयोजन है। बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  14. राजीव जी,
    "उर्वशी" खंड - काव्य पर आधारित मंजीत जी के चित्रों को साहित्य - शिल्पी के माध्यम से पाठकों तक पहुँचाने के लिए हम आपके आभारी हैं. एक उच्चकोटि के चित्रकार से परिचय कराने के लिए धन्यवाद. कला के साथ- साथ कलाकार को भी उजागर करने का आपका प्रयास श्रेयस्कर है.
    ----किरण सिन्धु.

    उत्तर देंहटाएं
  15. मंजीत जी का साहित्य-शिल्पी पर बहुत-बहुत स्वागत है।

    -विश्व दीपक

    उत्तर देंहटाएं
  16. bahut achcha lekh
    manzeet jee ke baare mein jaankar bahut achcha laga

    sahitya shilpi ko bahut bahut dhanyvaad

    उत्तर देंहटाएं
  17. साहित्य और कला दोनों का संगम देखकर
    मन्त्र-मुग्ध सी हो गयी हूँ...


    मंजीत जी को बधाई और शुभकामनाएं...
    भविष्य में और भी बहुत कुछ देखने को मिले....और आभार साहित्यशिल्पी का..

    गीता

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget