रचनाकार परिचय:-
हिंदी और संस्कृत में स्नातकोत्तर शशि पाधा १९६८ में जम्मू कश्मीर विश्वविद्यालय की सर्वश्रेष्ठ महिला स्नातक रहीं हैं। इसके अतिरिक्त सर्वश्रेष्ठ सितार वादन के लिये भी आप सम्मानित हो चुकीं हैं। २००२ में अमेरिका जाने से पूर्व आप भारत में एक रेडियो कलाकार के रूप में कई नाटकों और विचार-गोष्ठियों में भी सम्मिलित रहीं हैं। आपकी रचनायें भी समय-समय पर विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित हुईं। अमेरिका में आप नार्थ कैरोलिना विश्वविद्यालय में हिंदी अध्यापन से जुड़ गईं।
अब तक आपके दो काव्य-संकलन “पहली किरण” और “मानस-मन्थन” प्रकाशित हो चुके हैं और एक अन्य प्रकाशनाधीन है। पिछले पाँच वर्षों से आप विभिन्न जाल-पत्रिकाओं से भी प्रकाशित हो रहीं हैं।
भोगा न था चिर सुख मैंने
और न झेला चिर दुख मैंने

संग रहा जीवन में मेरे
सुख और दुख का अविरल क्रम
कभी था सम, कभी विषम ।

किसी मोड़ पर चलते चलते
पीड़ा मुझको आन मिली
आँचल में भर अश्रु सारे
मेरे संग हर रात जगी

हुआ था मुझको मरुथल में क्यों
सागर की लहरों का भ्रम ?
शायद वो था दुख क्रम ।

कभी दिवस का सोना घोला
पहना और इतराई मैं
और कभी चाँदी की झाँझर
चाँद से ले कर आई मैं

प्रेम हिंडोले बैठ के मनवा
गाता था मीठी सरगम
जीवन का वो स्वर्णिम क्रम।

पूनो और अमावस का
हर पल था आभास मुझे
छाया के संग धूप भी होगी
इसका भी एह्सास मुझे

जिन अँखियों से हास छलकता
कोरों में वो रहती नम
समरस है जीवन का क्रम।

19 comments:

  1. एसा लगा महादेवी को पढ रही हूँ। बहुत सुन्दर रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  2. पूनो और अमावस का
    हर पल था आभास मुझे
    छाया के संग धूप भी होगी
    इसका भी एह्सास मुझे

    जिन अँखियों से हास छलकता
    कोरों में वो रहती नम
    समरस है जीवन का क्रम।

    अध्भुत कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुख और दुख को समान तुला पर तौलती कविता बहुत सार्थक दृष्टिकोण देती है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. हिन्दी-हिन्दु-हिन्दुस्तान27 अक्तूबर 2009 को 2:24 pm

    संग रहा जीवन में मेरे
    सुख और दुख का अविरल क्रम
    कभी था सम, कभी विषम
    ---
    जीवन का दर्शन

    उत्तर देंहटाएं
  5. jindgi mani nhi jo bhi use maine kha
    jindgi krti rhi jo bhi use achchha lga
    main isi mjhdhar men fns kr akela rh gya
    jindgi ko jidd thi fir aur main krta bhi kya

    bhut sochta rha aj din dube nhi bcha loon
    bht sochta rha hva ko apne sath bha loon
    pr dono ne kiya vhi jo un ki mjboori thi
    mujh ko bhi smjaya main apne mn ko smjhaloon
    dukh sukh jivn ki niyti hai dono bde pyare hain sundr rchna ke liye chyn krtaon ke liye ttha lekhika ke liye bhut 2 bdhai
    dr. ved vyathit faridabad

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सही | एक सुन्दर गीत के लिए बधाई |


    अवनीश तिवारी

    उत्तर देंहटाएं
  7. अति सुन्दर

    जिन अँखियों से हास छलकता
    कोरों में वो रहती नम
    समरस है जीवन का क्रम।

    उत्तर देंहटाएं
  8. शशि जी की कविताएँ महादेवी की याद दिला देती हैं.भाषा-शैली, शब्दावली, अभिव्यक्ति...

    और कभी चाँदी की झाँझर
    चाँद से ले कर आई मैं

    जिन अँखियों से हास छलकता
    कोरों में वो रहती नम

    नाज़ुक भावों की सुन्दर अभिव्यक्ति...
    सुधा

    उत्तर देंहटाएं
  9. किसी मोड़ पर चलते चलते
    पीड़ा मुझको आन मिली
    आँचल में भर अश्रु सारे
    मेरे संग हर रात जगी

    हुआ था मुझको मरुथल में क्यों
    सागर की लहरों का भ्रम ?
    शायद वो था दुख क्रम ।

    बेहद खूबसूरत कविता...धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  10. aadarniya shashi padhaji ki kavita 'Aviral-Kram' marmsparshi hai,zindgi-jeene ki shakti prdan karti hai,"sang raha jivan me mere,sukh aur dukh ka aviral kram,kabhi tha sum,kabhi visham" yahi jeevan ka saar hai....meri hardik srijan_kaamnaye...Rajeev Saxena,Katni.

    उत्तर देंहटाएं
  11. रचना बेहतर बन पड़ी सम्वेदन का भाव।
    कविता पढ़ के सुमन पर अच्छा पड़ा प्रभाव।।

    सादर
    श्यामल सुमन
    www.manoramsuman.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  12. सुन्दर भाव भरी कविता. जीवन में हर रस रहें तभी मानव खुशी और गम या पीडा का अहसास कर सकता है... एक रसता बहुत सी अनुभूतियों से जीवन को वंचित कर देती है..

    उत्तर देंहटाएं
  13. SACH HAI JEEVAN KE ANVARAT KRAM MEIN SUKH AUR DUKH TO SUBAH SHAAM KI TARAH HAI ..... SUNDAR RACNA HAI ...

    उत्तर देंहटाएं
  14. शशि पाधा जी को रचना से रो बरू तो पहले भी हुई हूँ पर इस रचना का केनरा बिंदु शायद जीवन है जिस के हर मोड़ से गुज़रते कहीं न कहीं यादों के आँगन में एक अनकही पीडा के दर्शन होते है.

    किसी मोड़ पर चलते चलते
    पीड़ा मुझको आन मिली
    आँचल में भर अश्रु सारे
    मेरे संग हर रात जगी
    बहुत ही मार्मिक ख़याल है जो मन को चोकर उसमें हलचल पैदा कर पाने में कामयाब रहा है.
    प्रसव पीडा सी अंगडाई दर्द मेरा है लेता क्यों.
    सागर में लहरों की मानिंद उमड़ घुमड़ ये रहत क्यों?
    दाद के साथ
    देवी नागरानी

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget