कुछ ऐसे जिया अब तक की बेखबर लिखता हूँ
न रहज़न न रहबर कोई मेरे मगर लिखता हूँ।

जेहन से निकाल फेका है अपनी खासियत को
आज से एक आम आदमी का सफ़र लिखता हूँ।

प्यास बुझने की बेचैनी है मौत आने से पहले
जिंदगी को कभी दवा तो कभी ज़हर लिखता हूँ।

खुशबू तुम्हारे साँसों की उस ख़त से जाती नहीं
खोये सफ़र में एक हसीन हमसफ़र लिखता हूँ।

इन्किलाब में शामिल हूँ दोस्तो तुम भी देखो
पैगाम-ए-अमन एक खुशनुमा सहर लिखता हूँ।

14 comments:

  1. जेहन से निकाल फेका है अपनी खासियत को
    आज से एक आम आदमी का सफ़र लिखता हूँ।

    बहुत खूब।

    उत्तर देंहटाएं
  2. जेहन से निकाल फेका है अपनी खासियत को
    आज से एक आम आदमी का सफ़र लिखता हूँ।
    bahut khoob!

    उत्तर देंहटाएं
  3. सरल भाषा में अच्छी ग़ज़ल कही है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. जेहन से निकाल फेका है अपनी खासियत को
    आज से एक आम आदमी का सफ़र लिखता हूँ।

    प्यास बुझने की बेचैनी है मौत आने से पहले
    जिंदगी को कभी दवा तो कभी ज़हर लिखता हूँ।

    स्वागत साहित्य शिल्पी पर।

    उत्तर देंहटाएं
  5. आज से एक आम आदमी का सफ़र लिखता हूँ।
    bahut khoob!

    बढ़िया प्रस्तुति पर हार्दिक बधाई.
    ढेर सारी शुभकामनायें.

    SANJAY KUMAR
    HARYANA
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  6. प्यास बुझने की बेचैनी है मौत आने से पहले
    जिंदगी को कभी दवा तो कभी ज़हर लिखता हूँ।

    खूबसूरत है ग़ज़ल ............कमाल के शेर .............. सुभान अल्ला .........

    उत्तर देंहटाएं
  7. प्यास बुझने की बेचैनी है मौत आने से पहले
    जिंदगी को कभी दवा तो कभी ज़हर लिखता हूँ।

    खुशबू तुम्हारे साँसों की उस ख़त से जाती नहीं
    खोये सफ़र में एक हसीन हमसफ़र लिखता हूँ।

    bahut gazeb sher hai...dil k bheetar tak dard ke ehsaas dete chale gaye...

    bahut khoob...badhayi.

    उत्तर देंहटाएं
  8. जिन्दगी के हर रंक को उकेर कर भी कह रहे ,
    बेखबर लिखता हूँ बहुत खूब , उत्क्रिस्ट रचना

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget