तीर खंजर की ना अब तलवार की बातें करें
जिन्दगी में आइये बस प्यार की बातें करें

रचनाकार परिचय:-

नीरज गोस्वामी का जन्म 14 अगस्त 1950 को जम्मू में हुआ। इंजिनियरिंग स्नातक नीरज जी लगभग 30 वर्षों के कार्यानुभव के साथ वर्तमान में भूषण स्टील मुम्बई में असिसटैंट वाइस प्रेसिडेंट के पद पर कार्यरत हैं।

बचपन से ही साहित्य पठन में इनकी रुचि रही है। अनेक जालघरों में इनकी रचनायें प्रकाशित हो चुकी हैं। इसके अतिरिक्त इन्होंने अनेक नाटकों में काम किया और पुरुस्कार जीते हैं।

टूटते रिश्तों के कारण जो बिखरता जा रहा
अब बचाने को उसी घर बार की बातें करें

थक चुके हैं हम बढ़ा कर यार दिल की दूरियां
छोड़ कर तकरार अब मनुहार की बातें करें

दौड़ते फिरते रहें पर ये ज़रुरी है कभी
बैठ कर कुछ गीत की झंकार की बातें करें

तितलियों की बात हो या फिर गुलों की बात हो
क्या जरुरी है कि हरदम खार की बातें करें

कोइ समझा ही नहीं फितरत यहां इन्सान की
घाव जो देते वही उपचार की बातें करें

काश 'नीरज' हो हमारा भी जिगर इतना बड़ा
जेब खाली हो मगर सत्कार की बातें करें

24 comments:

  1. तितलियों की बात हो या फिर गुलों की बात हो
    क्या जरुरी है कि हरदम खार की बातें करें

    ULTIMATE.

    Alok Kataria

    उत्तर देंहटाएं
  2. हर एक शेर जो मन के भीतर उतर जाता है।

    टूटते रिश्तों के कारण जो बिखरता जा रहा
    अब बचाने को उसी घर बार की बातें करें

    थक चुके हैं हम बढ़ा कर यार दिल की दूरियां
    छोड़ कर तकरार अब मनुहार की बातें करें

    उत्तर देंहटाएं
  3. टूटते रिश्तों के कारण जो बिखरता जा रहा
    अब बचाने को उसी घर बार की बातें करें
    बहुत अच्छी ग़ज़ल!!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. aadarniya neeraj ji

    namaskar

    waise to poori gazal ke kya kahne lekin , mujhe jo sher sabse adhik pasand aaya hai wo hai

    टूटते रिश्तों के कारण जो बिखरता जा रहा
    अब बचाने को उसी घर बार की बातें करें

    ye bahut touchy hai ji .. dil ko choo gayi aur aankh bhigo gayi ..

    aapki lekhani ko salaam ..

    meri badhai sweekar karen..

    regards

    vijay
    www.poemsofvijay.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  5. सादगी और गहराई से लिखी हुई रचना ... प्रशंसनीय ...
    "जेब खाली हो मगर सत्कार की बातें करें" में शायर के दिल के दिल और कलम की रईसी संप्रेषित हो रही है .. :-)

    उत्तर देंहटाएं
  6. ACHCHHEE GAZAL KE LIYE NEERAJ JEE
    KO BADHAAEE.

    उत्तर देंहटाएं
  7. जेब खाली हो और सत्‍कार की बातें करें। वाह क्‍या सोच है। बहुत अच्‍छी गजल के लिए बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  8. बिलकुल सही कहा.....नफरतों के दौर में अमन के लिए इंसानियत की बातें करना बहुत ही जरूरी हो गया है...

    बहुत ही सुन्दर सन्देश देती प्रेरनादायी अनुकरणीय रचना के लिए हम आपके सम्मुख आभारनत हैं..

    उत्तर देंहटाएं
  9. जेब खाली हो मगर सत्कार की बातें करें
    bahut khoob line hai
    तितलियों की बात हो या फिर गुलों की बात हो
    क्या जरुरी है कि हरदम खार की बातें करें
    is sher ke to kya kahne
    puri gazal hi sunder hai
    badhai
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  10. तीर खंजर की ना अब तलवार की बातें करें
    जिन्दगी में आइये बस प्यार की बातें करें
    कितना सकून है इस रचना मे. प्यार की बाते इतने प्यार से ---- वाह, बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  11. आप की इस ग़ज़ल में विचार, अभिव्यक्ति शैली-शिल्प और संप्रेषण के अनेक नूतन क्षितिज उद्घाटित हो रहे हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  12. rachna bahut khoobsurat
    aur aaj kuch voto ka mahol bana hua he neta log bhi kuchh aisi hi bani bol rahe hai
    sare sher bahut khoobsurat hai

    उत्तर देंहटाएं
  13. वाह वाह!! क्या खूब गज़ल कही.

    उत्तर देंहटाएं
  14. वाह वाह क्या बात कही-
    तितलियों की बात हो या फिर गुलों की बात हो
    क्या जरुरी है कि हरदम खार की बातें करें
    बिल्कुल वाजिब, बिल्कुल बजा और बहुत ख़ूब नीरज जी।

    उत्तर देंहटाएं
  15. Tarif bahut mili janab lekin kisi ne ye nahi bataya ki Matla hi bahar se khariz hai. sochen 'Na' ki jagah'N' rahe to kaisa rahe

    उत्तर देंहटाएं
  16. शानदार और जानदार गजल हेतु बधाई. आपको भेंट हैं दो पंक्तियाँ:
    'सलिल'दुनिया की न चिंता,फिक्र ना संसार की.
    पढ़ गजल नीरज की फिर प्यार की बातें करें.

    उत्तर देंहटाएं
  17. टूटते रिश्तों के कारण जो बिखरता जा रहा
    अब बचाने को उसी घर बार की बातें करें
    Neeraj ji,
    har sher bemisaal, qaayede se to sab ki tareef karni chahiye...
    lekin ye mujhe bahut pasand aaya hai...
    behad khoobsurat ghazal..
    badhai..

    उत्तर देंहटाएं
  18. Neeraj Bhai

    Aap ki har ghazal khoobsoorat hoti hai. jis maansikta mein ghazal padhi jaati hai, usee hisaab se shaer pasand aatey hain.

    Great Sir ! keep it up

    Tejendra Sharma
    General Secretary
    Katha UK, London

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget