आज जन्म दिवस पर राजाभाई कौशिक को हार्दिक शुभकामनायें - साहित्य शिल्पी परिवार
-----

पकवान बनाओ मीठे
खूब खाने का न्योता हूँ
हटा दूँगा पीले पत्ते
लाल को जगह देता हूँ
धूप में बैठो चाहे
सूरज को अभी समझाता हूँ
लो मै आगया हूँ
कोहरा बनकर छागया हूँ
साहित्य शिल्पीरचनाकार परिचय:-

सालासर में ६ नवम्बर, १९७३ को जन्मे राजाभाई कौशिक अजमेर के डी.ए.वी. कालेज से स्नातक की उपाधि प्राप्त करने के उपरांत आयुर्वेद की ओर उन्मुख हुये और इस क्षेत्र में सुयश प्राप्त किया।

वर्तमान में राजस्थान के चुरू में निवास कर रहे राजाभाई ने अनेक कविताएं, लेख, व्यंग्य आदि लिखें हैं और कई सम्मान प्राप्त किये हैं। आप एक अच्छे चित्रकार भी हैं।

अंग न दिखाओ मुझे
मोटे कपडे दिलाता हूँ
चद्दर से काम न चले
तो रजाईयाँ भरवाता हूँ
डरो थोडा तो उससे
खिडकियाँ बन्द करवाता हूँ
लो मैं आगया हूँ
कोहरा बनकर छागया हूँ

सुनो ध्यान से बात मेरी
समझने मे करो न देरी
शीत के गीत गाते वो आ रही है
कंपन, ठिठुरन, दंतवादन ला रही है
नाक में नही, बस मुठ्ठियों में
बन्द कर बगल में दबा लेना
लो मै आ गया हूँ
कोहरा बनकर छागया हूँ

10 comments:

  1. जन्मदिन की शुभकामनायें, अच्छी कविता की बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुनो ध्यान से बात मेरी
    समझने मे करो न देरी
    शीत के गीत गाते वो आ रही है
    कंपन, ठिठुरन, दंतवादन ला रही है
    नाक में नही, बस मुठ्ठियों में
    बन्द कर बगल में दबा लेना
    लो मै आ गया हूँ
    कोहरा बनकर छागया हूँ

    जन्मदिन की बधाई। इस कविता के साथ आपकी पेंटिंग की कमी खली।

    उत्तर देंहटाएं
  3. कविता की पहली पंकतियां तो मुंह में पानी ले आई.. लगा जन्म दिन पर दावत है.. परन्तु ऐसा था नहीं... जाडे के आगमन का संदेश था सुन्दर कविता के रूप में.
    जन्म दिन पर हार्दिक बधाई... आपकी लेखनी पर इसी तरह ईश्वर की इनायत बनी रहे.

    उत्तर देंहटाएं
  4. बन्द कर बगल में दबा लेना
    लो मै आ गया हूँ
    कोहरा बनकर छा गया हूँ
    bahut khoob .puri kavita hi bahut sunder hai
    janmdin ki badhai
    saader
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  5. meri hardik shubh kamnayen svikar kren
    fir srdi aaihai
    surj ke bhane hain
    kyon dhoop staai hai

    dil jmta jata hai
    ye aag hui dhimi
    vo jldi jata hai

    dr. ved vyathit

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुन्दर प्रवाहमयी कविता है.

    जन्मदिन की बधाई।

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget