इस दुनिया में
कई-कई दुनियाएँ गुप्त हैं जैसे,
सपनों की दुनिया यादों की दुनिया
या फिर मन में बैठी डर की दुनिया
रचनाकार परिचय:-
सुशील कुमार का जन्म 13 सितम्बर, 1964, को पटना सिटी में हुआ, किंतु पिछले तेईस वर्षों से आपका दुमका (झारखण्ड) में निवास है।

आपनें बी०ए०, बी०एड० (पटना विश्वविद्यालय) से करने के पश्चात पहले प्राइवेट ट्यूशन, फिर बैंक की नौकरी की| 1996 में आप लोकसेवा आयोग की परीक्षा उत्तीर्ण कर राज्य शिक्षा सेवा में आ गये तथा वर्तमान में संप्रति +२ जिला स्कूल चाईबासा में प्राचार्य के पद पर कार्यरत हैं।

आपकी अनेक कविताएँ-आलेख इत्यादि कई प्रमुख पत्रिकाओं, स्तरीय वेब पत्रिकाओं में प्रकाशित हैं।

जैसी भी दुनिया,
गहराई तक धँसती है आदमी में
और उसका अपना अलग चेहरा गढ़ती है

वह चेहरा आदमी को पहनता है हौले-हौले
और गायब होने लगता है
आदमी का अपना बेलौस असली चेहरा !

यह सब पर यकायक नहीं होता
लेकिन जब होता है तो
लुंड-मुंड इस चेहरे पर
वक़्त की राख जमने लगती है
पेशानी पर चिंता की
आरी-तिरछी लकीरें खिंचने लगती हैं

गोया कि अपनी दुनिया से निकलकर आदमी
एक अप्रत्याशित दुनिया में दाखिल हो जाता है
जहाँ दिन-रात दोजख़ की आग जलती है
जिसमें रोज़ उसका नया चेहरा चटकता है।

फिलहाल मसला यह नहीं कि
इस दुनिया में ऐसी कितनी दुनियाएँ हैं
आगोश में चेहरों की रौनकें बिगड़ रही है
बल्कि ज़रूरी है फिलवक़्त
उन चेहरों की शिनाख़्त
जो दुनिया को एक स्याह डर में
बदल देने पर आमादा हैं

बेरंग होते इस चमन में ढूँढ़नी है हमें
सियासत के वे झमाठ दरख़्त
जिनकी शाखाओं पर
अपराध की अमरलतायें फैलती हैं


जिनकी शिराएँ आदमी के मगज़ में घुसकर
डर और चुप्पियों का एक गुबार बनाती है
जो आदमी के खुशफ़हम इरादों की दुनिया को
अपनी धूल से ढक लेता है।

6 comments:

  1. बेरंग होते इस चमन में ढूँढ़नी है हमें
    सियासत के वे झमाठ दरख़्त
    जिनकी शाखाओं पर
    अपराध की अमरलतायें फैलती हैं


    जिनकी शिराएँ आदमी के मगज़ में घुसकर
    डर और चुप्पियों का एक गुबार बनाती है
    जो आदमी के खुशफ़हम इरादों की दुनिया को
    अपनी धूल से ढक लेता है।

    अध्भुत कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही उम्‍दा कविता है. सुशीलजी को बधाई.
    क्‍या खूब लिखा है...
    --''ज़रूरी है फिलवक़्त
    उन चेहरों की शिनाख़्त
    जो दुनिया को एक स्याह डर में
    बदल देने पर आमादा हैं''

    उत्तर देंहटाएं
  3. " डर की दुनिया " आज के युगबोध को व्यक्त करती, एक जीवंत कविता है. वर्तमान समय में आम आदमी जीने के लिए संघर्षरत है, लेकिन फिर भी उसके हिस्से में दहशतज़दा ज़िंदगी ही आती है. एक सारगर्भित कविता.
    ---किरण सिन्धु.

    उत्तर देंहटाएं
  4. जिनकी शिराएँ आदमी के मगज़ में घुसकर
    डर और चुप्पियों का एक गुबार बनाती है
    जो आदमी के खुशफ़हम इरादों की दुनिया को
    अपनी धूल से ढक लेता है।

    उत्कृष्ट अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget