रचनाकार परिचय:-

मोहिन्दर कुमार का जन्म 14 मार्च, 1956 को पालमपुर, हिमाचल प्रदेश में हुआ। आप राजस्थान यूनिवर्सिटी से पब्लिक- एडमिन्सट्रेशन में स्नातकोत्तर हैं।

आपकी रचनायें विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित होती रही हैं साथ ही साथ आप अंतर्जाल पर भी सक्रिय हैं। आप साहित्य शिल्पी के संचालक सदस्यों में एक हैं। वर्तमान में इन्डियन आयल कार्पोरेशन लिमिटेड में आप उपप्रबंधक के पद पर कार्यरत हैं।

मैं सागर नहीं
परन्तु
तनिक वैसा ही उद्वेलित
सीमाओं के अतिक्रमण की
व्यर्थ चेष्टा में
अपने बल उर्जा के
ह्रास का प्रयाय बन
मिथ्या कल्पना के
आकाश में गमन करता
सत्य के ठोस धरातल पर
माथा पटकता
भाग्य रूपी वायुवेग के
निर्देश पर गतिमान
मनोभावों के ज्वालामुखी
अन्तर्मन में समेटे
धधकते लावे पर
संयम की धार डाल
किसी झंझावत की प्रतीक्षा में
जिसकी दिशा सामान्तर हो
मेरे मन के मौसम से
और जो जा ठहरे
ऐसे किसी टापू पर
जिसका अस्तित्व दे सके
मुझे मेरे खोने से पहले
मेरे होने का बोध.

11 comments:

  1. kuchh hone ka bodh bhut sundr hai
    mit jaye astitv yh mushkil hai khob ubl kr lava jb dhdhkega
    vh kshn hi to jivn dhan hai
    dr. ved vyathit

    उत्तर देंहटाएं
  2. मेरे मन के मौसम से
    और जो जा ठहरे
    ऐसे किसी टापू पर
    जिसका अस्तित्व दे सके
    मुझे मेरे खोने से पहले
    मेरे होने का बोध.

    बहुत अच्छी रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  3. अति बौद्धिक रचना है साथ ही जीवन का सत्य है

    उत्तर देंहटाएं
  4. मोहिंदर जी,
    आपकी कविता में "स्व" का मंथन है. प्रत्येक शब्द अभिप्राय से बँधे हुए हैं. एक आम आदमी की मनोव्यथा की गरिमामयी प्रस्तुति.इस सारगर्भित, उच्चस्तरीय रचना के लिए बधाई स्वीकार करें.
    .----किरण सिन्धु.

    उत्तर देंहटाएं
  5. किसी झंझावत की प्रतीक्षा में
    जिसकी दिशा सामान्तर हो
    मेरे मन के मौसम से
    और जो जा ठहरे
    ऐसे किसी टापू पर
    जिसका अस्तित्व दे सके
    मुझे मेरे खोने से पहले
    मेरे होने का बोध.
    adhbhut kavita.

    उत्तर देंहटाएं
  6. आदरणीय मोहिंदर जी,
    इस उच्च स्तरीय सारगर्भित रचना के लिए बधाई स्वीकार करें |
    अम्बरीष श्रीवास्तव

    उत्तर देंहटाएं
  7. स्तरीय कविता। आत्म मंथन को उद्वेलित करती है।

    उत्तर देंहटाएं
  8. Mohinder ji tuhan di kavita padi ne minjo jitni khushi hoi tisa te jayada khoshi eh janine hoi ki tuhan bhee apne paase de han. Sunder kavita layi ek baari pher tuhan jo saare pradesha valo Badhai .

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget