रचनाकार परिचय:-

प्राण शर्मा वरिष्ठ लेखक और प्रसिद्ध शायर हैं और इन दिनों ब्रिटेन में अवस्थित हैं।
आप ग़ज़ल के जाने मानें उस्तादों में गिने जाते हैं। आप के "गज़ल कहता हूँ' और 'सुराही' - दो काव्य संग्रह प्रकाशित हैं, साथ ही साथ अंतर्जाल पर भी आप सक्रिय हैं।
मेरे हरदम
पास आओ कभी
मुस्काओ कभी
प्यासी आँखें
हम चार करें
हर बार करें
तुम तकते रहो
मैं तकता रहूँ
तुम प्यार करो
मैं प्यार करुँ
मन की सुनते
सपने बुनते
खो जाएँ हम
ए भोले सनम
मेरे हमदम
बढ़ते जाएँ
चढ़ते जाएँ
मनुहारों के
उदगारों के
हर रस्ते में
हर पर्बत पर
उलझे न कभी
आयें न कभी
हम बातों में
आघातों में
हम मान करें
सम्मान करें
इक दूजे का
जब तक है दम
ए भोले सनम
मेरे हमदम

17 comments:

  1. हम बातों में
    आघातों में
    हम मान करें
    सम्मान करें
    इक दूजे का
    जब तक है दम...

    बातों ही बातों में कितनी गहरी बातें कह दी हैं ..... प्राण जी की रचनाओं और ग़ज़लों में बस यही ख़ासियत है .......

    उत्तर देंहटाएं
  2. छोटी छोटी पंक्तिया और इतना सुन्दर गीत।

    उत्तर देंहटाएं
  3. हर रस्ते में
    हर पर्बत पर
    उलझे न कभी
    आयें न कभी
    हम बातों में
    आघातों में
    हम मान करें
    सम्मान करें
    इक दूजे का

    सुन्दर रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  4. हम मान करें
    सम्मान करें
    इक दूजे का
    जब तक है दम
    सन्देश देती सुन्दर और भावपूर्ण रचना
    बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  5. हम मान करें
    सम्मान करें
    इक दूजे का
    जब तक है दम
    ए भोले सनम
    मेरे हमदम


    =बहुत सुन्दर बात!! उम्दा रचना!

    उत्तर देंहटाएं
  6. प्यार की बात प्यार वाले अंदाज में..बहुत बढ़िया ग़ज़ल..धन्यवाद!!

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह! आनंद आगया शर्मा जी के गीत में.
    बहुत ही सुंदर और कोमल रचना है, मन प्रसन्न हो गया. इसीलिए मैं तीन बार पढ़ गया. प्रवाह बहुत ही सराहनीय है. शब्दों का चुनाव भावानुकूल हुआ है तथा शब्द-विधान उच्च कोटि का है। बधाई स्वीकारें.

    उत्तर देंहटाएं
  8. आदरणीय प्राण शर्मा जी की रचनाओं पर टिप्पणी करने जैसी क्षमता नहीं रखता। वे अध्भुत रचनाकार हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  9. अभी -अभी साहित्य शिल्पी को खोला ,
    वाह भाई, कमाल कर दिया--
    सुन्दर गीत-
    आयें न कभी
    हम बातों में
    आघातों में
    हम मान करें
    सम्मान करें
    इक दूजे का
    जब तक है दम

    उत्तर देंहटाएं
  10. kya sunder bhav .aap to kavita ki har vidha ke mahir hai.
    saader
    rachana

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget