रचनाकार परिचय:-

प्राण शर्मा वरिष्ठ लेखक और प्रसिद्ध शायर हैं और इन दिनों ब्रिटेन में अवस्थित हैं।
आप ग़ज़ल के जाने मानें उस्तादों में गिने जाते हैं। आप के "गज़ल कहता हूँ' और 'सुराही' - दो काव्य संग्रह प्रकाशित हैं, साथ ही साथ अंतर्जाल पर भी आप सक्रिय हैं।
ढोल बजाओ,धूम मचाओ, साल नया है
क्यों ना ऐसा रंग जमाओ, साल नया है

खुल कर यारो हंसो-हंसाओ, साल नया है
चिंताओं से छुट्टी पाओ, साल नया है

इससे अब क्या लेना-देना मेरे यारो
यानी नफ़रत दूर भगाओ, साल नया है

मुँह लटकाए क्या बेठे हो मेरे यारो
झूमो, नाचो और लहराओ, साल नया है

आँखें क्या,मन को भी ये सब बेहद भाये
यूँ अपना घर- बार सजाओ,साल नया है

अपने को ही महकाया तो क्या महकाया
औरों को भी तुम महकाओ, साल नया है

अपना हो या हो बेगाना, याद करेगा
मुँह मीठा ए "प्राण" कराओ, साल नया है

10 comments:

  1. नये साल की उमंग से भरी ग़ज़ल। आपको भी नव वर्ष की शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत कुछ करने को प्रेरित करती यह रचना उत्‍साहवर्धन का माहौल बना रही है, आपको भी नववर्ष की शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  3. अपने को ही महकाया तो क्या महकाया
    औरों को भी तुम महकाओ, साल नया है

    नये साल की बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  4. आदरणीय प्राण जी आपको व आपके समस्त परिवार को नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत उम्दा!!

    आप एवं आपके परिवार को नव वर्ष की हार्दिक बधाई एवं अनेक शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  6. बढ़िया ग़ज़ल..नववर्ष की हार्दिक बधाई..

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुन्दर ग़ज़ल! नववर्ष की बधाई एवं शुभकामनायें !!

    उत्तर देंहटाएं
  8. Pran ji
    Naye saal ke liye yeh zaika ban rahe isi shubhkamna ke saath

    Devi Nangrani

    उत्तर देंहटाएं
  9. माँ खुद भी रो पड़ी थी मुझे पीटने के...vaah kya sundar panktyiyan hai...badhaai praan ji!

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget