-अम्मा......
-क्या है? खुल्ले पैसे नही है।
-खुल्ला काम तो होगा
घर मे तमाम तो होगा
आपको आराम तो होगा।

-अच्छा! काम करेगा?
तो फिर नाम बता,
अपना धाम बता,
अपना राम बता.
- मुसलमान, नारूल्ला।

-अरे!
ये कोई नाम है भला?
तुझे शर्म नही आती
धर्म और जाती,
मर्म और माटी,
कर्म और ख्याति से हम हिंदू हैं
और,
ये हिंदू मोहल्ला है
यहाँ धर्म का बहुत होहल्ला है।

मै तुझे काम नही दे सकती,
समाज से मुह नही मोड़ सकती,
और...
अगर काम चाहिए तो
नाम बदलना होगा...
-जैसा आप कहें।
-तो तू यहीं रहे
और नाम हो तेरा नीरुलाल..
(चमक उठा उसका भाल)।

--हा हा हा,हो हो...
-अरे! हंसता क्यूं है रे?
-अम्मा...... मेरा असली नाम यही है,
नारूल्ला पिछले मालिक ने रखा था॥

4 comments:

  1. कथ्य पक्ष बहुत ही अच्छा लगा | तीखा प्रहार साम्प्रदायिकता पर ...

    बधाई |

    अवनीश तिवारी

    उत्तर देंहटाएं
  2. piyosh ji yh ek smvednsheel mudda hai aap ise hlke se le rhe ahin aap ki himmt hai to yhi bat aap kashmeer me ja kr khen vh bhi hmare desh ka bhag hai tb aap ko pta chl jayega ki hindu kya hai or muslman kya hai hindu bhul kshetr me aap kisi ko bhi gali den sb sun lenge aur nto aap ne kuranpdhi hogi nhi hdees pta hai kshmir kepndit apne hi desh me beghr hai kya un ka drd aap ko nhi dikhta kya ve insan nhi hai ydi koi frk nhi hai to fir vhan kevl pnditon ko hi chun 2 kr kyon mara or nikala kya aap ko yh bat maloom hai ya nhi ydi aap itne desh bhkt hain to jra kashmeer jaiye aur vhan ye bat smjhaiye ginti ke kitne muslman hindu devi devtaon ke aahe sir jhukate hain chlo yh bhi chodo kite muslman pakistan me hindu vordh ko ger islamik bta skte hain jra yh bat un press me khlva kr to dikhao jihad ke nam pr jo khon bhaya ja rha hai use jra najayj to khlvao pta chl jayega
    dr.vedvyathit@gmai.com

    उत्तर देंहटाएं
  3. धर्मान्धता व साम्प्रदायिकता पर कुढाराघात करती के
    एक सशक्त रचना

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget