hindi kavita UDAAN by Lavanya Shahरचनाकार परिचय:-
लावण्या शाह सुप्रसिद्ध कवि स्व० श्री नरेन्द्र शर्मा जी की सुपुत्री हैं और वर्तमान में अमेरिका में रह कर अपने पिता से प्राप्त काव्य-परंपरा को आगे बढ़ा रही हैं।
समाजशा्स्त्र और मनोविज्ञान में बी.ए.(आनर्स) की उपाधि प्राप्त लावण्या जी प्रसिद्ध पौराणिक धारावाहिक "महाभारत" के लिये कुछ दोहे भी लिख चुकी हैं। इनकी कुछ रचनायें और स्व० नरेन्द्र शर्मा और स्वर-साम्राज्ञी लता मंगेसकर से जुड़े संस्मरण रेडियो से भी प्रसारित हो चुके हैं।
इनकी एक पुस्तक "फिर गा उठा प्रवासी" प्रकाशित हो चुकी है जो इन्होंने अपने पिता जी की प्रसिद्ध कृति "प्रवासी के गीत" को श्रद्धांजलि देते हुये लिखी है।
कल सुबह सुबह, अमुवा के पेड पर,
एक कोयल - फुसफुसाई !
हमने कहा, " अरे ! यह क्या ?
आपकी सुरीली तान कहाँ गई ? "
तब लँबी साँस लेकर वह बोली,
" पर्यावरण का प्रदूषण देखो -
मेरी आवाज़ बैठ गई है ! !! "
सच है, सारा आकाश धुँआ धुँआ,
मिल से उठता काला बादल,
सडकोँ पर अनवरत यातायात,
वसँत तो आया है पर .....
कौन सुनना चाहता है, कूक ?

8 comments:

  1. बेचारी कोयल, बेचारी अमराई!
    सुन्दर कविता है.
    घुघूती बासूती

    उत्तर देंहटाएं
  2. संदेश जनक कविता इस बसंत में........अच्छा प्रयास ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बढिया संदेश देती रचना है।सुन्दर रचना है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. pryavrn to kha gya hai koyal kook
    pr hridy me ab kahan uthati hai vh hook
    uthati hai vh hook nhi mn mor srikha nache
    kyon ki mhgai me krne pdte faake
    isiliye ab koyl voyl kahan suhati
    jnta to ab bhav poochh kr hee rh jati
    dr.vedvyathit@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं
  5. LAVANYA JEE KAVITA KEE BHAVABHIVYAKTI SUNDAR
    AUR SAHAJ HAI.BADHAAEE.

    उत्तर देंहटाएं
  6. कितने सुंदर भाव पर्यावरण की बिगड़ा हुआ स्वरूप पक्षियाँ बयाँ कर रहे है और इंसान आँखे मूँदे बैठा है..सुंदर कविता....बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुन्दर अभिव्यक्ति...अच्छी रचना के लिये बधाई!

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget