Kaifi


बाँध कर दामन से अपने झुग्गियाँ लाई ग़ज़ल
इसलिए शायद न अबके आप को भाई ग़ज़ल

आपके भाषण तो सुन्दर उपवनों के स्वप्न हैं
ज़िन्दगी फिर भी हमारी क्यों है मुर्झाई ग़ज़ल

माँगते हैं जो ग़ज़ल सीधी लकीरों की तरह
काश वो भी पूछते, है किसने उलझाई ग़ज़ल



इक ग़ज़ब की चीख़ महव—ए—गुफ़्तगू हमसे रही
हमने सन्नाटों के आगे शौक़ से गाई ग़ज़ल

आप मानें या न मानें यह अलग इक बात है
हर तरफ़ यूँ तो है वातावरण पे छाई ग़ज़ल

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget