प्रिय मित्रों,

न चाहते हुए भी कुछ अपरिहार्य घटनायें हो जाती है। जब हमने ब्ळोग से साहित्य शिल्पी को बेबसाईट में ले गये थे तब यह सोचा था कि हिदी को एसी वेबसाईट देगें जिसे एक श्रेष्ठ ई-पत्रिका होने का गौरव हासिल हो। हमे यह गर्व है कि हम अपने उद्देश्य में सफल हुए। कुछ धन की कमी (यह सभी हिन्दी वेबसाईटों की सामान्य समस्या है) कुछ हमारे वेब डेवलपर के द्वारा गुमराह किये जाने के बाद हम तकनीकी रूप से एसी दुविधा में पड गये जिसमें से एक विकल्प इस साईट को बंद कर देना भी था। किंतु साहित्य शिल्पी साथ पिछले दो वर्षों का अनथक परिश्रम लगा हुआ है। पिछले एक सप्ताह से प्रकाशन रुका हुआ है और हमें अनेकों पत्र-फोन व टिप्पणियाँ प्राप्त हुई हैं कि हम वेबसाईट को पुन: आरंभ करें।

मित्रों आपका सहयोग चाहिये। हम कुछ समय के लिये पुन: ब्ळॉग बेस पर लौट रहे हैं। केवल थोडा परिवर्तन है।

www.sahityashilpi.com ही अब हमारा पता होगा

www.sahityashilpi.in को कुछ समय के पश्चात हम डॉट कॉम पर ही रिडाईरेक्ट कर देंगे।


आपसे हमें हौसला मिलेगा तो हम व्यवधान से बाहर निकल कर पुन: पूरी उर्जा से जुट जायेंगे। साहित्यशिल्पी हमारी नहीं आपकी ही पत्रिका है और रहेगी।

सहयोगाकांक्षी -

साहित्य शिल्पी के लिये राजीव रंजन प्रसाद

4 comments:

  1. साहित्य शिल्पी ब्लॉग बेस पर रहे या फिर डाट.कॉम पर... हम हमेशा से इसके साथ थे और रहेंगे ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. हमलोग हमेशा आपके साथ है .. शुभकामनाएं !!

    उत्तर देंहटाएं
  3. साहित्य शिल्पी की नव यात्रा के लिये शुभकामना:

    नव सज्जा में शिल्पी का है नव अभिनन्दन.
    लगन-प्रयासों को अर्पित है अक्षत-चन्दन..

    बाधाओं का क्या है?, आना है आयेंगीं.
    संकल्पों के पर्वत से डर झुक जायेंगी..

    जन-मन-रंजन, सत्साहित्य सृजन है मंजिल.
    भंवरों से क्या डर?, जज्बा अपना है हासिल..

    पता लापता हो तो भी लेंगे तलाश हम.
    जूझेंगे पर होंगे ना किन्चित हताश हम..

    पग चूमेगी मंजिल, झंडा फहराएंगे.
    'सलिल' हिंद-हिन्दी की जय-जय मिल गायेंगे..

    ******************

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget