ज़िंदगी जी का जंजाल हो चली है,
मौत भी ससुरी मुहाल हो चली है..

न राशन रसद में,
न ईंधन रसद में,
न महफ़िल हीं जद में,
न मंज़िल हीं जद में,

ना पग ना पगडंडी,
सौ ठग हैं सौ मंडी,
दिल ठंढा, जां ठंढी,
शक्ति की सौं... चंडी
भी अब तो बेबस बेहाल हो चली है..
ज़िंदगी जी का जंजाल हो चली है..

न चेहरा हीं सच्चा,
न सीसा हीं सच्चा,
या किस्मत दे गच्चा,
या हिम्मत दे गच्चा..

जो थम लूँ तो अनबन,
जो बढ लूँ तो अनशन,
जो दम लूँ तो मंथन,
गंवा के सब अनधन
ये धरती तो अब पाताल हो चली है...
ज़िंदगी जी का जंजाल हो चली है..

11 comments:

  1. जो थम लूँ तो अनबन,
    जो बढ लूँ तो अनशन,
    जो दम लूँ तो मंथन,
    गंवा के सब अनधन
    ये धरती तो अब पाताल हो चली है...
    ज़िंदगी जी का जंजाल हो चली है..

    बहुत सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत अच्छी रचना जिसमें शब्दप्रयोग मे कलात्मकता है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. ना पग ना पगडंडी,
    सौ ठग हैं सौ मंडी,
    दिल ठंढा, जां ठंढी,
    शक्ति की सौं... चंडी

    वाह वाह

    उत्तर देंहटाएं
  4. एक बेहतरीन रचना ! बहुत ही खूबसूरत !! सुन्दर !!!

    बधाई |


    अवनीश तिवारी

    उत्तर देंहटाएं
  5. कविता की बुनावट एसी है कि जैसे नदी में बहते जाना।

    उत्तर देंहटाएं
  6. न राशन रसद में,
    न ईंधन रसद में,
    न महफ़िल हीं जद में,
    न मंज़िल हीं जद में,

    ना पग ना पगडंडी,
    सौ ठग हैं सौ मंडी,
    दिल ठंढा, जां ठंढी,
    शक्ति की सौं... चंडी
    भी अब तो बेबस बेहाल हो चली
    shabdon kya hi sunder pryog kiya hai
    pash kar aanand aaya
    saader
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  7. तनहा जी मैं एसे ही आपका "पंखा" नहीं हूँ। सही भावों के लिये सही शब्द कविता को पाठक के दिल तक पहुँचाते हैं। प्रशंशा के लिये शब्द कम ही पडेंगे।

    उत्तर देंहटाएं
  8. सभी मित्रों का तह-ए-दिल से आभार!!

    राजीव जी, आप खुद को मेरा "पंखा" कहकर मुझे शर्मिन्दा कह रहे हैं। शिल्प गढने की थोड़ी बहुत कला जो मुझमें है, वो मैने आपसे हीं सीखी है। इस तरह तो मैं आपका "पंखा" हुआ ना :)

    -विश्व दीपक

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget