शचींद्र त्रिपाठी भाषा, भाव और विचार से समृद्ध उच्चकोटि के पत्रकार है। मूल्यों के प्रति समर्पित शचींद्र त्रिपाठी के पास अपना नज़रिया और अपना दृष्टिकोण है। तीस साल पहले टाइम्स ऑफ इंडिया मुम्बई के लोकप्रिय हिंदी दैनिक नवभारत टाइम्स में उपसम्पादक के रूप में शुरू हुई उनकी यात्रा आज स्थानीय सम्पादक के रूप में शिखर पर पहुँच चुकी है। मुम्बई महानगर की प्रतिष्ठित संस्था तरुण कला संगम की ओर से 24 सितम्बर को प्रमुख लेखकों-पत्रकारों की उपस्थिति में आयोजित एक समारोह में शचींद्र त्रिपाठी को पत्रकारिता पुरस्कार से सम्मानित किया गया। वरिष्ठ पत्रकार नंदकिशोर नौटियाल,नवनीत के सम्पादक विश्वनाथ सचदेव, मुम्बई प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कृपाशंकर सिंह और संस्थाध्यक्ष चित्रसेन सिंह ने सम्मान स्वरूप उन्हें शाल, श्रीफल, स्मृति चिन्ह और 21 हज़ार की धनराशि भेंट की।


शचींद्र त्रिपाठी का परिचय कराते हुए कवि-गीतकार देवमणि पाण्डेय ने कहा कि श्री त्रिपाठी एक विनम्र, मृदुभाषी और प्यारे आदमी होने के साथ-साथ एक श्रेष्ठ पत्रकार और सुयोग्य सम्पादक हैं। पाण्डेय जी ने बताया कि पत्रकारिता शचींद्र त्रिपाठी को विरासत में मिली है। उनके पिता स्व.योगेंद्रपति त्रिपाठी ने सिर्फ़ 31 साल की उम्र में स्वतंत्र भारत लखनऊ के प्रधान सम्पादक की ज़िम्मेदारी सँभाल कर एक रिकार्ड कायम किया था। सन् 1971 में उनके स्वर्गवास के बाद प्रबंधकों के अनुरोध पर स्वतंत्र भारत लखनऊ से ही शचींद्र त्रिपाठी ने पत्रकारिता की गौरवशाली शु्रुआत की। शचींद्र त्रिपाठी ने पत्रकारिता में अपने पिता से प्राप्त संस्कारों की रक्षा की। गोरखपुर में 01 जनवरी 1952 को जन्मे शचींद्र त्रिपाठी आज भी अपनी मिट्टी-पानी-हवा से ऐसे जुड़े हुए हैं कि उन्हें मुम्बई महानगर में अवधी और भोजपुरी बोलने में ज़रा भी संकोच नहीं होता। एक शेर के माध्यम से पाण्डेय जी उनके व्यक्तित्व को रेखांकित किया- जब देखो हँसते रहते हो / इतना ख़ुश कैसे रहते हो।


समारोह के अध्यक्ष विश्वनाथ सचदेव ने कहा कि पत्रकारिता में ग्लैमर के मोह और उसकी चकाचौंध से उत्पन्न ख़तरों के प्रति हमें सचेत रहना होगा ताकि पत्रकारिता में लोगों का विश्वास और भरोसा बना रहे। प्रमुख अतिथि कृपाशंकर सिंह ने कहा कि शचींद्र त्रिपाठी ने कल्याणकारी मूल्यों को स्थापित करने के चुनौतीपूर्ण दायित्व को बख़ूबी निभाया। म.रा.हिंदी साहित्य अकादमी के कार्याध्यक्ष नंदकिशोर नौटियाल के अनुसार शचींद्र त्रिपाठी ने पत्रकारिता के ज़रिए भारतीय मूल्यों, परम्परा और राष्ट्रीय चेतना को प्रखरता से अभिव्यक्त किया है। समारोह में डॉ.राजेंद्र सिंह, महाराष्ट्र लोक सेवा आयोग के सचिव अभय नारायण त्रिपाठी, मुम्बई के सूचना आयुक्त रामानंद त्रिपाठी,पूर्व निर्वाचन आयुक्त नंदलाल जी बतौर अतिथि उपस्थित थे। अनुराग त्रिपाठी (वरिष्ठ पत्रकार नभाटा), राघवेंद्र द्विवेदी (सम्पादक:हमारा महानगर) और बृजमोहन पाण्डेय (सम्पादक: नवभारत) ने पत्रकारिता में शचींद्र त्रिपाठी के योगदान पर प्रकाश डाला। वरिष्ठ पत्रकार लालजी मिश्र पत्रकार सुमंत मिश्र और कवि हरि मृदल भी मौजूद थे। कवि रासबिहारी पाण्डेय ने काव्यांजलि प्रस्तुत की और पत्रकार रमेश निर्मल ने आभार व्यक्त किया।


---------

तस्वीर में -[बाएं से दाएं] धनपत जैन, डॉ.राजेंद्र सिंह, अभय नारायण त्रिपाठी(IFS), वरिष्ठ पत्रकार नंदकिशोर नौटियाल, मुम्बई प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कृपाशंकर सिंह, नवनीत के सम्पादक विश्वनाथ सचदेव, नवभारत टाइम्स के सम्पादक शचींद्र त्रिपाठी, पूर्व निर्वाचन आयुक्त नंदलाल जी, संस्थाध्यक्ष चित्रसेन सिंह, मुम्बई के सूचना आयुक्त रामानंद त्रिपाठी, समारोह संचालक कवि देवमणि पाण्डेय।


2 comments:

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget