ओस की बूंदों में भीगे हैं पत्ते कलियाँ फूल सभी
प्यार के छींटे मार गया है जैसे कोई अभी अभी

अलसाये से नयन अभी भी ख्वाबों में खोये से हैं
बेशक आँख खुली है फिर भी टूटा कब है ख्वाब अभी

दिन कितने अच्छे होते थे रातें खूब उजली थीं
पर लगता है जैसे गुजरी हंसों की सी पांत अभी

कितनी सारी बातें बरगद की छाया में होतीं थीं
उन में से शायद ही होंगी तुम को कोई याद अभी

खेल खेलते खूब रूठना तुम को कितना आता था
फिर कैसे था तुम्हे मनाता क्या ये भी है याद अभी

कैसे भूलों वे सब बातें बहुत बहुत कोशिश की है
पर मुझ को वे कहाँ भूलतीं सब की सब हैं याद अभी

3 comments:

  1. खेल खेलते खूब रूठना तुम को कितना आता था
    फिर कैसे था तुम्हे मनाता क्या ये भी है याद अभी

    कैसे भूलों वे सब बातें बहुत बहुत कोशिश की है
    पर मुझ को वे कहाँ भूलतीं सब की सब हैं याद अभी

    डॉ. साहब, बहुत सुन्दर सुन्दर पंक्तियाँ रच दी हैं, बधाई स्वीकार करें।

    उत्तर देंहटाएं
  2. bahut khoob sunder prastuti
    badhai
    saader
    rachana

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget