जो बरसाते लिखीं थीं बदलियों पर
उतर आयीं छतों पर छजलियों पर

जलाया हमने ख़ुद अपना नशेमन
नहीं इल्ज़ाम कोई बिजलियों पर

भले इंसान अब गिनती के होंगे
जिन्हें चाहो तो गिन लो उंगलियों पर

बहुत भूखा है ये मजदूर देखो
न मारो ठोंकरें यूं पसलियों पर

'नसीम' इस दौर में मुमकिन नहीं है
ग़ज़ल कहना गुलों पर तितलियों पर

2 comments:

  1. bhut hi bekaar ghazal kahi hai. kafiyaa milaane ke chakkar me ghazal zabardasti banai gai lagti hai.koi bhi sher naya nahi hai.kahin na kahin se udaya gaya lagta hai.naam ke hisaab se bekar rachna.

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget