सोचता हूं कुछ लिखूं
क्या लिखूं
लिखने से पहले सोचना बहुत जरूरी होगा शायद
और सोचना तो बरसों पहले ही छोड़ दिया है मैंने
सोचता कौन है
वही, जो जिंदा रहता है
यानी सोचने के लिए आदमी का जिंदा रहना पहली शर्त है
ठहरिए, मैं खुद को पहले टटोल लूं
क्या इतने दिनों तक सोचे बिना जिंदा हूं मैं
इधर कुछ धड़-धड़ कर रहा है
ध्यान से सुनता हूं तो सांसों की भी आवाज आती है
हाथ-पांव हिल तो रहे हैं, हंस तो रहा हूं, रो तो रहा हूं
यानी जिंदा हूं मैं
तो निष्कर्ष यह कि बिना सोचे भी जिंदा रह सकते हैं हम
तब सोचना ही क्यों

पहले जब सोचता था
याद है, सोचते हुए बहुत तकलीफ होती थी
तब सोचता था कि लोग मेरी तरह सोचते क्यों नहीं
जितना सोचता उतनी ही तकलीफ होती
सोचा, दूसरों की तरह सोचना छोड़ क्यों न दिया जाए
तो मैने सोचना छोड़ दिया
सच पूछिए, न सोचते हुए बड़ा सुकून मिला
मेरी आंखें खुली हुईं थीं
दिमाग बंद
जब नक्सलियों ने 76 जानें लीं, मैंने नहीं सोचा
पुलिस ने फर्जी मुठभेड़ किए मैंने नहीं सोचा
कारखाने की चिमनी भरभरा कर गिरी
दफ्न हो गए सैकड़ों मजदूर
पखांजूर में गरीब की लाश कुत्तों ने नोच ली
नारायणपुर में चंद्रू का घर बारिश में बह गया
सलमान खान ने यहां-वहां छेद डाला
मैंने नहीं सोचा, देखा जरूर
अरुंधती का बयान देखा
कलमाड़ी का जादू देखा
देखा कि मेरा राज्य कितनी तरक्की कर रहा है
शहर की सरहद पसर रही है
खेत गायब हो रहे हैं
जमीन बेचकर किसान मोटर साइकिलों में फर्राटे भर रहे हैं
देखा मैंने कि
स्कूल भी गरीबों और अमीरों में बंट गए
देखा मैंने कि
महंगे अस्पतालों से मायूस
जनता रामदेव बाबा के आसन सीख रही है
आसाराम बापू के नुस्खे आजमा रही है
देखा कि
राखी सावंत फैसले कर रही है
वेदांता और जिंदल पुरस्कृत हो रहे हैं

सोचा नहीं
मैंने सोचा नहीं
इन घटनाओं पर क्या सोचना
क्या ये सोचने लायक हैं
मुंबई की चीखों के बारे में क्या सोचना
ठाकरे नीति के बारे में क्या सोचना
मायावती, राबड़ी, लालू के बारे में,
वरुण की जहरीली जुबान के बारे में
नरेंद्र मोदी की सफलताओं के बारे में
कश्मीर पर देश की विफलताओं के बारे में
अमरीका, चीन, पाकिस्तान के बारे में
क्या सोचना

देखा, सुना, सूंघा, महसूसा
मैंने सोचा नहीं
सुकून से रहा मैं
सुनता हूं देश भी सुकून से है
यानी.....

-------------

[खुदा की कसम
मजा आ गया
मुझे मारकर वो बेशरम
खा गए

खा गए
लेकिन मैं तो जिंदा हूं?

- ये जीना भी कोई जीना है लल्लू?, आयं?]

6 comments:

  1. कविता बहुत अच्छी है केवल जी। आखिरी में प्रयोग की गयी गीत की पंक्तियों के बिना भी भाव पूरे जो जाते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  2. संवेदनाओं को झकझोरती है कविता। अपने सुकून से शर्मिन्दा हो गया हूँ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. ये जीना भी कोई जीना है लल्लू?, आयं?

    ये बात तो सही है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. अच्छी कविता है। धनतेरस की शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget