राष्ट्र कवि मैथिली शरण गुप्त तथा उनका अमरकाव्य "यशोधरा" किसी से भी अपरिचित नहीं। साहित्य शिल्पी नें पिछले वर्ष ही चित्रकार मंजीत सिंह से अपने पाठकों को परिचित कराया था। उनके द्वारा राष्ट्रकवि दिनकर के काव्यग्रंथ "उर्वशी" पर बनाये गये चित्रों की प्रदर्शनी भी साहित्य शिल्पी पर प्रस्तुत की गयी थी। मंजीत अमर साहित्यिक काव्यों को रंग देने में जुटे हुए हैं। इस कडी में आज प्रस्तुत है "यशोधरा" पर आधारित मंजीत सिंह के तैलचित्रों की प्रदर्शनी। चित्रों को देखने से पूर्व काव्य कृति यशोधरा की कुछ पंक्तियाँ प्रस्तुत हैं" -

"माँ कह एक कहानी।"
बेटा समझ लिया क्या तूने मुझको अपनी नानी?"
"कहती है मुझसे यह चेटी, तू मेरी नानी की बेटी
कह माँ कह लेटी ही लेटी, राजा था या रानी?
माँ कह एक कहानी।"

"तू है हठी, मानधन मेरे, सुन उपवन में बड़े सवेरे,
तात भ्रमण करते थे तेरे, जहाँ सुरभि मनमानी।"
"जहाँ सुरभि मनमानी! हाँ माँ यही कहानी।"

वर्ण वर्ण के फूल खिले थे, झलमल कर हिमबिंदु झिले थे,
हलके झोंके हिले मिले थे, लहराता था पानी।"
"लहराता था पानी, हाँ-हाँ यही कहानी।"

"गाते थे खग कल-कल स्वर से, सहसा एक हंस ऊपर से,
गिरा बिद्ध होकर खग शर से, हुई पक्षी की हानी।"
"हुई पक्षी की हानी? करुणा भरी कहानी!"

चौंक उन्होंने उसे उठाया, नया जन्म सा उसने पाया,
इतने में आखेटक आया, लक्ष सिद्धि का मानी।"
"लक्ष सिद्धि का मानी! कोमल कठिन कहानी।"

"मांगा उसने आहत पक्षी, तेरे तात किन्तु थे रक्षी,
तब उसने जो था खगभक्षी, हठ करने की ठानी।"
"हठ करने की ठानी! अब बढ़ चली कहानी।"

हुआ विवाद सदय निर्दय में, उभय आग्रही थे स्वविषय में,
गयी बात तब न्यायालय में, सुनी सभी ने जानी।"
"सुनी सभी ने जानी! व्यापक हुई कहानी।"

राहुल तू निर्णय कर इसका, न्याय पक्ष लेता है किसका?
कह दे निर्भय जय हो जिसका, सुन लँ तेरी बानी"
"माँ मेरी क्या बानी? मैं सुन रहा कहानी।

कोई निरपराध को मारे तो क्यों अन्य उसे न उबारे?
रक्षक पर भक्षक को वारे, न्याय दया का दानी।"
"न्याय दया का दानी! तूने गुनी कहानी।"

- मैथिली शरण गुप्त

-----------------

चित्र क्रमांक -01


चित्र क्रमांक -02

चित्र क्रमांक -03


चित्र क्रमांक -04


चित्र क्रमांक -05


चित्र क्रमांक -06


चित्र क्रमांक -07


चित्र क्रमांक -08


चित्र क्रमांक -09


चित्र क्रमांक -10


चित्र क्रमांक -11


चित्र क्रमांक -12


चित्र क्रमांक -13


चित्र क्रमांक -14


चित्र क्रमांक -15

चित्र क्रमांक -16


मंजीत सिंह के विषय में विस्तार से जानने के लिये इस लिंक को देखें: -

[चित्र में साहित्य शिल्पी के साथ चित्रकार मंजीत सिंह]

दिनकर की उर्वशी पर मंजीत सिंह के तैल चित्रों की प्रदर्शनी देखें: -

9 comments:

  1. अच्छी प्रस्तुति....किसी विशेष कविता पर उसकी प्रर्दर्शनी देख बहुत ही सन्तोष होता है...मंजीत सिंह जी को बहुत बहुत बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  2. ये अनमोल प्रस्तुति है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. यशोधरा पर इतनी अच्छी प्रस्तुति हेतु कोटिशः धन्यवाद, आशान्वित हूं कि भविष्य में साहित्यशिल्पी के मंच पर महाकवि कालिदास की अनुपम काव्यरचना ‘मेघदूतम्’ पर भी ऐसी चित्रावली के दर्शन होंगे।

    उत्तर देंहटाएं
  4. आश्चर्यचकित हूँ मंजीतजी की कलाकृतियाँ देख कर.यशोधरा मेरी प्रिय पात्र रही है.सिद्धार्थ के ज्ञान प्राप्ति का मूल्य निर्दोष यशोधरा और मासूम राहुल ने चुकाया. मैं आज भी इस घटना को इसी दृष्टि से देखती हूँ.
    यशोधरा के दर्द को उभारने वाला कोई चित्र मंजीत जी ने कयों नही बनाया?वे इससे भी अच्छे चित्र बना सकते हैं.उनका सब कुछ अब तक सामने नही आया है,श्रेठ आना बाकी है.मैं हर किसी की तरह 'अच्छा' 'बहुत अच्छा' नही लिख सकती.मंजीत जी मुझे क्षमा करें.किन्तु यशोधरा का दर्द जो हमे चीर कर रख दे भीतर से वो बनना बाकि है और मुझे उसकी प्रतीक्षा रहेगी. फिर भी साहित्य शिल्प का धन्यवाद कि उन्होंने एक कलाकार से मिलवाया.
    मैं फिर आउंगी.क्योंकि आना चाहती हूँ.
    ऐसीच हूँ मैं

    उत्तर देंहटाएं
  5. "सखी वे मुझसे कहकर जाते" यशोधरा की इन पंक्तियाँ में छुपी पीड़ा की बराबरी नहीं की जा सकती। इस पीड़ा को शब्दों में ढालना जितना मुश्किल है, उससे भी मुश्किल है उसपर अपनी "कूची" चलाना, उसे "तैलचित्र" में उतारना। मंजीत जी की प्रतिभा की जितनी तारीफ़ की जाए कम है, क्योंकि आजकल विरले हीं लोग होंगे जो "दिनकर" और "गुप्त" की इन कृतियों को इतनी तन्मयता से पढते एवं गुनते हैं। मंजीत जी से हमारा परिचय कराने के लिए साहित्य-शिल्पी का आभार।

    इस पोस्ट में एक हीं बात की कमी खली। जिस तरह "उर्वशी" पर आधारित पोस्ट में हर तैलचित्र के नीचे "कविता की पंक्तियाँ" उद्धृत की गई थी, वैसा यदि यहाँ भी होता तो पाठकगण हर चित्र से आसानी से जुड़ जाते। खैर.. सोना मौजूद है, बस सुहागा डालना बाकी रह गया :)

    -विश्व दीपक

    उत्तर देंहटाएं
  6. kisi bhi sahityik kriti ki chitratmak prastuti us rachna ki atma me pravesh karna hai. manjit singhji ke madhyam se yah anubhav akathneey hai. dhanyavad.

    उत्तर देंहटाएं
  7. kaarya bahut atcha hai. kripaya ap yashodhara ke virah varnan par prakash daaliye. dhanyavaad

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget