रोने की बात कर न रुलाने की बात कर
गर कर सके तो हँसने - हँसाने की बात कर

करता है अपने बंगले की हर रोज़ बात तू
निर्धन के कभी ठौर - ठिकाने की बात कर

पहले ही बढ़ रही हैं मेरे दोस्त दूरियाँ
लड़ने की बात कर न लड़ाने की बात कर

लो , भूल जाता हूँ सभी मैं भी कहा - सुना
तू भी कहे - सुने को भुलाने की बात कर

हमको तो घर बसाने का देता है मशवरा
तू भी तो अपने घर को बसाने की बात कर

छोटे से अपने कमरे में है " प्राण " चुपचुपी
कुछ मेरी सुन कुछ अपनी सुनाने की बात कर

12 comments:

  1. बहुत सुन्दर रचना है।

    हमको तो घर बसाने का देता है मशवरा
    तू भी तो अपने घर को बसाने की बात कर

    उत्तर देंहटाएं
  2. लो , भूल जाता हूँ सभी मैं भी कहा - सुना
    तू भी कहे - सुने को भुलाने की बात कर

    प्राण साहब का ये पैगाम दुनिया के हर घर तक पहुँचाना चाहिए, ताकि आपसी प्रेम और भाईचारा बढे और ये दुनिया फिर से रहने के काबिल बन सके...जिंदगी में ढालने योग्य अशआरों से भरी ये गज़ल रोजाना पढ़ने योग्य है.
    इसे हम तक पहुंचाने के लिए साहित्य शिल्पी का तहे दिल से शुक्रिया.

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  3. jindagi itni beraham na lagegi sanam
    gar tu mere saath nibhane ki baat kar.

    ye to bas padte-padte jahan me aa gaya so likh diya---ap ne kya khoob likha hai--badahai

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुन्दर गज़ल है खास कर ये शेर तो बहुत अच्छे लगे
    करता है अपने बंगले की हर रोज़ बात तू
    निर्धन के कभी ठौर - ठिकाने की बात कर

    पहले ही बढ़ रही हैं मेरे दोस्त दूरियाँ
    लड़ने की बात कर न लड़ाने की बात कर
    प्राण भाई साहिब को बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही सहजता के साथ आपने समय पर टिप्पणी की है प्राण जी आपने. बहुत सुन्दर गज़ल.

    रूपसिंह चन्देल

    उत्तर देंहटाएं
  6. प्राण जी बधाई। अच्छी और सामयिक ग़ज़ल है-

    रोने की बात कर न रुलाने की बात कर
    गर कर सके तो हँसने - हँसाने की बात कर

    उत्तर देंहटाएं
  7. एक सार्थक और सुन्दर रचना के लिए बहुत बधाई|


    अवनीश तिवारी

    उत्तर देंहटाएं
  8. लो , भूल जाता हूँ सभी मैं भी कहा - सुना
    तू भी कहे - सुने को भुलाने की बात कर

    बहुत अच्छी ग़ज़ल।

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुन्दर ग़ज़ल..बधाई|
    रोने की बात कर न रुलाने की बात कर
    गर कर सके तो हँसने - हँसाने की बात कर
    लो , भूल जाता हूँ सभी मैं भी कहा - सुना
    तू भी कहे - सुने को भुलाने की बात कर
    हमको तो घर बसाने का देता है मशवरा
    तू भी तो अपने घर को बसाने की बात कर

    वाह किसे कहूँ उत्तम , और किसे कहूँ कम
    बहुत सरलता से बहुत कुछ कह दिया |

    सुधा ओम ढींगरा

    उत्तर देंहटाएं
  10. vaah pran ji, kamaal kar diyaa. aapko parhanaa har baar bahut kuchh sikhataa bhi hai. badhai.

    उत्तर देंहटाएं
  11. Wah Wah
    पहले ही बढ़ रही हैं मेरे दोस्त दूरियाँ
    लड़ने की बात कर न लड़ाने की बात कर
    yaha ladne ki baat kar .... perhaps....
    Let clarify it.

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget