झूठ के आवरण सब बिखरते रहे
साँच की आंच से वे पिघलते रहे

खूब ऊँचें बनाये थे चाहे महल
नींव के बिन महल वे बिखरते रहे

हाथ आता कहाँ चंद उन को यहाँ
मन ही मन में वे चाहे मचलते रहे

ओस की बूँद ज्यों २ गिरी फूल पर
फूल खिलते रहे और महकते रहे

देख ली खूब दुनिया की रंगीनियाँ
रात ढलती रही दीप बुझते रहे

हम जहाँ से चले लौट आये वहीं
जिन्दगी भर मगर खूब चलते रहे

जैसे २ बढ़ी खुद से खुद दूरियां
नैन और नक्श उन के निखरते रहे

7 comments:

  1. Pranaam Dr sahab,
    Badhiya rachana .. yah ashaar bahut pasand aaye

    हम जहाँ से चले लौट आये वहीं
    जिन्दगी भर मगर खूब चलते रहे

    जैसे २ बढ़ी खुद से खुद दूरियां
    नैन और नक्श उन के निखरते रहे

    bahut khoob

    RC

    उत्तर देंहटाएं
  2. ओस की बूँद ज्यों २ गिरी फूल पर
    फूल खिलते रहे और महकते रहे

    बहुत खूब व्यथित जी

    उत्तर देंहटाएं
  3. हम जहाँ से चले लौट आये वहीं
    जिन्दगी भर मगर खूब चलते रहे

    जैसे २ बढ़ी खुद से खुद दूरियां
    नैन और नक्श उन के निखरते रहे


    बहुत सुंदर....

    बधाई आदरणीय व्यथित जी को....

    उत्तर देंहटाएं
  4. sahitya shilpi aapa dhapi ke yug man ko mudit karne vali khusbu ka gahra jhoka hai.

    उत्तर देंहटाएं
  5. sahitya shilpi aapa dhapi ke yug man ko mudit karne vali khusbu ka gahra jhoka hai.

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget