प्यारे बच्चों,

"बाल-शिल्पी" पर आज आपके डॉ. मो. अरशद खान अंकल आप के लिये आप जैसी ही नन्ही मुन्नी चित्रकार एषान्या मनीषी की चित्रकारियाँ ले कर आये हैं जो बी. एस. पब्लिक स्कूल शाहजहाँपुर की छात्रा हैं। आप इन्हे सराहें और खुद भी अपने क्रेयोंस और कलर्स ले कर बना डालिये एसे ही चित्र। तो आनंद उठाईये इस अंक का और अपनी टिप्पणी से हमें बतायें कि यह अंक आपको कैसा लगा।

- साहित्य शिल्पी
---------------

मुस्कुराहट फैलाईये



केवल पेड लगाने से काम नहीं चलेगा, उन्हें सींचें।


8 comments:

  1. बच्ची भी प्यारी है और उसके चित्र भी।

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह, सुन्दर चित्र...आशा है यह प्रयास आगे भी जारी रहेगा

    उत्तर देंहटाएं
  3. bachhe man ke sachche...achhi chitrakari eshanya ko subhakamnaye

    उत्तर देंहटाएं
  4. एशान्या को आशीष बहुत अच्छे चित्र बनाये हैं

    उत्तर देंहटाएं
  5. एशान्या तो कमाल की चित्रकार है। बहुत सुन्दर चित्र बनाये हैं आपने।

    उत्तर देंहटाएं
  6. beta aap bahut sunder hai aur aap ke banaye chitr bhi bahut sunder hai .man laga ke padhai karna aur chitr bana
    ashirvad
    rachana

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget