आज भी याद आते है ,
बापू के जूते,जो उन्होने
बड़े चाव से खरीदे थे ,
जब उन्हे बोनस मिला था !

समय बीतता गया और ,
जूते पुराने हो गये!
रोज सुबह पैरो मे जाते ,
तो शाम को ही निकल पाते थे।
इस बीच कई सड़के नाप लेते ,
कई मंज़िलो पे दस्तक देते ,
देर शाम को जब घर पहुँचते
तो धूल से सने रहते
थके से, हारे हुए से!
चुप- चाप बिना किसी शिकायत
एक कोने मे टिक जाते
सुबह के इंतेज़ार में।

समय बीतता गया
और लगने लगा
कि अब थक चुके है ,
तलवे घिस चुके थे ,
फीते के नाम पर चंद धागे ,
बगल से सिलाई उधड चुकी थी ,
हर कदम पे आगे से मुँह खोल
कर कहते—बस अब और नही।

कई बार बापू ने सोचा की
मोची से मरम्मत करवा ले ,
पर हर बार
गृहस्थी के पहिये तले
ये अरमान दब जाते,
कभी हमारी फीस, कभी कपड़े
और तो और हमारे नये जूते...
पर बापू के जूते
बेबस खड़े देखते रहते ,
अपनी बारी के इंतेज़ार में..

आख़िर ये एक
मध्यम वर्गीय परिवार
के मुखिया के जूते थे,
जिसे अपने बारे मे सोचने का
कोई अधिकार नही होता ।
उसके हिस्से तो बस आती है ,
बलिदान, त्याग और ढेर सारी
ज़िम्मेदारियाँ।

7 comments:

  1. आख़िर ये एक
    मध्यम वर्गीय परिवार
    के मुखिया के जूते थे,
    जिसे अपने बारे मे सोचने का
    कोई अधिकार नही होता ।
    उसके हिस्से तो बस आती है ,
    बलिदान, त्याग और ढेर सारी
    ज़िम्मेदारियाँ।

    खूब बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  2. बडी ही संवेदनापूर्ण कविता है। पिता पर केन्द्रित इतनी अच्छी रचनायें कम ही पढने को मिलती हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  3. nice poem very touching

    -Alok Kataria

    उत्तर देंहटाएं
  4. vishy achchha hai ,prishrm kiya hai anytha n len kthy ke str pr rchna meri km smjh ke karn mujhe kmjor prteet ho rhi hai jb ki aap kee sundr rchnayen pahle pdhne ko mil chuki hain
    kbhi jb batchit hogi to vichar vimrsh ho jayega

    उत्तर देंहटाएं
  5. यथार्थपरक रचना. 'बापू' का प्रयोग चौंकता और आकर्षित करता है.

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget