तेरे मुख पर मेरे प्यारे थोड़ी भी मुस्कान नहीं
हँसते - मुस्काते जीवन से क्या तेरी पहचान नहीं

दोस्त, सभी को अपने सिवा तुम मूढ़ नहीं समझो,जानो
हर कोई दुनियादारी से होता है अनजान नहीं

अपने घर की खूब हिफाज़त कर ली हैं तुमने लेकिन
सेंध लगाने वाले भी हैं शायद तुमको ज्ञान नहीं

मैले कपड़ों में जो लिपटा वो भी तो इक इन्सां है
उजले कपड़ों में जो चमका सिर्फ़ वही इन्सां नहीं

हमने देखे और सुने हैं तुम जैसे जाने कितने
प्यार - मुहब्बत के रस्तों से एक तुम्ही अनजान नहीं

चिट्टे कपड़ों में भी हमने देखे हैं भगवान बहुत
भगवे कपड़े पहन कर कोई हो जाता भगवान नहीं

काश , जमा पूंजी से तुमने कुछ तो खर्च किया होता
" प्राण " हमारी नज़रों में तुम निर्धन हो, धनवान नहीं

10 comments:

  1. अपने घर की खूब हिफाज़त कर ली हैं तुमने लेकिन
    सेंध लगाने वाले भी हैं शायद तुमको ज्ञान नहीं

    बहुत दिनों बाद प्राण जी को पढा है। बहुत अच्छी ग़ज़ल

    उत्तर देंहटाएं
  2. मैले कपड़ों में जो लिपटा वो भी तो इक इन्सां है
    उजले कपड़ों में जो चमका सिर्फ़ वही इन्सां नहीं

    बहुत अच्छी ग़ज़ल

    उत्तर देंहटाएं
  3. Liked the concept of Gazal. Thanks Pran ji.

    उत्तर देंहटाएं
  4. तेरे मुख पर मेरे प्यारे थोड़ी भी मुस्कान नहीं
    हँसते - मुस्काते जीवन से क्या तेरी पहचान नहीं

    दोस्त, सभी को अपने सिवा तुम मूढ़ नहीं समझो,जानो
    हर कोई दुनियादारी से होता है अनजान नहीं

    वाह वाह

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपकी ग़ज़लें आपके अनुभव की प्रस्तुतियाँ हैं हमेशा कुछ सीखने को ही मिला है।

    उत्तर देंहटाएं
  6. तेरे मुख पर मेरे प्यारे थोड़ी भी मुस्कान नहीं
    हँसते - मुस्काते जीवन से क्या तेरी पहचान नहीं

    आपकी गज़ल हमेशा ही आकर्षित करती रही हैं...
    आज भी यही हुआ...हर शेर मन की माटी से जुडा हुआ ....

    आभार और बधाई...


    सादर
    गीता

    उत्तर देंहटाएं
  7. आम आदमी से खूबसूरती से जुडती हुई गजल

    उत्तर देंहटाएं
  8. brilliant- shabd nahi hai apni bhavnayen vayakt karne ke liye--badahai

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget