वो वादा कर के भी मिलने मुझे अक्सर नहीं आया
यकीं मुझको भी जाने क्यों कभी उस पर नहीं आया

कभी सैय्याद के जो खौफ से बाहर नहीं आया
परिंदा कोई भी ऐसा फलक छू कर नहीं आया

अदालत में गए हम फैसला ईश्वर पे सुनने सब
मगर अफ़सोस सब आए फकत ईश्वर नहीं आया

बहुत आई सदाएं शहृ की मेरे दरीचे से
मगर मैं हादसों के खौफ से बाहर नहीं आया

मेरी मजबूर बस्ती में उगा तो था सुबह सूरज
वो अपनी मुट्ठियों में रौशनी ले कर नहीं आया

बहुत आए हमारे गांव में सपनों के ताजिर पर
गरीबी दूर करने वाला बाज़ीगर नहीं आया

करोड़ों देवताओं के करोड़ों रूप हैं लोगो
बदल दे ज़िंदगानी जो वो मुरलीधर नहीं आया

मकानों की कतारों में गए हम दूर तक ऐ दोस्त
चले भी थे मुसलसल पर तुम्हारा घर नहीं आया

बहुत आवाज़ दी तुझको तेरे ही घर के बाहर से
मगर अफ़सोस तू इतनी सदाओं पर नहीं आया

13 comments:

  1. बहुत आए हमारे गांव में सपनों के ताजिर पर
    गरीबी दूर करने वाला बाज़ीगर नहीं आया
    बहुत अच्छी ग़ज़ल है प्रेमचंद जी। साहित्य शिल्पी पर आपका स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. Deep thoughts are well composed. Nice Gazal.

    उत्तर देंहटाएं
  3. मकानों की कतारों में गए हम दूर तक ऐ दोस्त
    चले भी थे मुसलसल पर तुम्हारा घर नहीं आया

    बहुत आवाज़ दी तुझको तेरे ही घर के बाहर से
    मगर अफ़सोस तू इतनी सदाओं पर नहीं आया

    हर शेर उम्दा है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. कोई भी कमजोर शेर नहीं है
    करोड़ों देवताओं के करोड़ों रूप हैं लोगो
    बदल दे ज़िंदगानी जो वो मुरलीधर नहीं आया

    उत्तर देंहटाएं
  5. प्रेमचन्द सहजावाला जी का साहित्य शिल्पी पर हार्दिक अभिनंदन। सशक्त रचना से अपनी उपस्थिति आपने दर्ज करायी है। आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत खूब.... सारे शेर कमाल के हैं.. विशेषकर:

    कभी सैय्याद के जो खौफ से बाहर नहीं आया
    परिंदा कोई भी ऐसा फलक छू कर नहीं आया

    एवं

    मेरी मजबूर बस्ती में उगा तो था सुबह सूरज
    वो अपनी मुट्ठियों में रौशनी ले कर नहीं आया

    धन्यवाद,
    विश्व दीपक

    उत्तर देंहटाएं
  7. Bahut hii umdaa gazal. Badhaaii bhaaii Premchand jii! Badhaaii saahitya-shilpii

    उत्तर देंहटाएं
  8. Lovely and attractive one keep on writing brother...

    Raj

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget