रोटी खाने को कम है बची थालियाँ
बात रोने की है और बजी तालियाँ

जिन्दगी में भरोसा न टूटे कभी
अच्छी बातें भी लगती तभी गालियाँ

फर्क ससुराल, शमशान में कुछ नहीं
खोजने से जहाँ न मिली सालियाँ

थी हुकुमत की कोशिश नहर के लिए
सोचाता हूँ वहाँ क्यों बनी नालियाँ

बदले हालात, जज्बात दिल में अगर
बिन सुमन के कहीं क्या सजी डालियाँ

6 comments:

  1. रोटी खाने को कम है बची थालियाँ
    बात रोने की है और बजी तालियाँ
    अति सुन्दर आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  2. रोटी खाने को कम है बची थालियाँ
    बात रोने की है और बजी तालियाँ

    .........
    ..........

    थी हुकुमत की कोशिश नहर के लिए
    सोचाता हूँ वहाँ क्यों बनी नालियाँ

    सुमन जी आभार

    उत्तर देंहटाएं
  3. Shyamal Suman ji ghazal sadagi mein khud ko sajaati hai hamesha ki tarah jahan unki fikro-fan rekhankit hota hai
    बदले हालात, जज्बात दिल में अगर
    बिन सुमन के कहीं क्या सजी डालियाँ
    Gazal ka aagaaz aur makte ka nikhar apne naam ke saath behad khoobsoorat laga..

    उत्तर देंहटाएं
  4. आप सबके प्रति समर्थनक हेतु हार्दिक धन्यवाद
    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    http://www.manoramsuman.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget