मनुष्य कभी वृक्ष नहीं बन सकता
क्योंकि उसमें वो त्याग और परोपकार
का भाव नहीं होता

मनुष्य कभी वृक्ष नहीं बन सकता
क्योंकि उसमें दूसरों द्वारा पहुँचाए कष्ट
सहने की ताकत नहीं होती

मनुष्य कभी वृक्ष नहीं बन सकता
क्योंकि वह अपनी जड़ें खोदने वाले
को कभी शरण नहीं देता

मनुष्य कभी वृक्ष नहीं बन सकता
क्योंकि वह करता नहीं क्षमा
याद रखता है और बदला लेता है

मनुष्य कभी वृक्ष नहीं बन सकता
क्योंकि अपना सब कुछ मनुष्यों के
लिए अर्पण करने वाले वृक्ष को भी
मनुष्य नहीं बख़्शता
काट डालता है
क्योंकि वह जलता है वृक्ष की नम्रता से
वृक्ष की कर्त्तव्य-निष्ठा से

मनुष्य कभी वृक्ष नहीं बन सकता

10 comments:

  1. मनुष्य कभी वृक्ष नहीं बन सकता
    क्योंकि अपना सब कुछ मनुष्यों के
    लिए अर्पण करने वाले वृक्ष को भी
    मनुष्य नहीं बख़्शता
    काट डालता है
    क्योंकि वह जलता है वृक्ष की नम्रता से
    वृक्ष की कर्त्तव्य-निष्ठा से

    वृक्ष को बचाने का संकल्प आज सभी के लिये कर्तव्य है। इस कविता के लिये कविता जी को धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  2. सही कहा आपने कि मनुष्य कभी वृक्ष नहीं बन सकता

    उत्तर देंहटाएं
  3. mnushy vriksh nhi bnta thik hai pr swami ram krishn prm hns bnta hai jo ghas ki jden ukhdne pr us ke nishan swym ki pith pr anubhv krta hai
    yh kevl jankari hai
    rchna sundr hai vishy ka achchha chynhai

    उत्तर देंहटाएं
  4. वृक्ष और मनुष्य की तुलनात्मक सुन्दर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  5. मनुष्य कभी वृक्ष नहीं बन सकता
    क्योंकि अपना सब कुछ मनुष्यों के
    लिए अर्पण करने वाले वृक्ष को भी
    मनुष्य नहीं बख़्शता
    काट डालता है
    क्योंकि वह जलता है वृक्ष की नम्रता से
    वृक्ष की कर्त्तव्य-निष्ठा से

    भाव अच्छे हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  6. आप ने बहुत सही कहा मनुष्य कभी वृक्ष नही बन सकता

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget