रोशनी कहाँ तुझसे हट कर ओरे मन

छूट गये वनपाखी, रात के बसेरे
जाल धर निकल पडे, मगन मन मछेरे

पानी में संत चुप खडे उजले उजले,
कौन सुनेगा मछली व्यर्थ किसे टेरे

कानों से टकराती सिसकियाँ नदी की,
पुरवा जब बहती है रोज मुँह अंधेरे

रोशनी कहाँ तुझसे हट कर ओरे मन
ना चंदा के घर, ना सूरज के डेरे

जुडे ही नहीं जिद्दी, किसी वंदना में,
कैसे समझाऊं मैं हाँथों को मेरे
-----

धूप में छांव लुटा दूं तो चलूं

और कुछ दर्द चुरा लूं, तो चलूं,
आँसुओं को समझा लूँ, तो चलूं।

दर्द बे-ठौर हो गये हैं जो
उन्हें हृदय में बसा लूँ, तो चलूँ।

गुलाब की सुगंध-सा बह कर,
भोर का मन महका दूँ, तो चलूँ।

ठहरो, किरनों की गठरी को,
ठीक से सिर पे उठा लूँ, तो चलूँ।

ज़िन्दगी यह तपती दोपहरी,
धूप में छांव लुटा दूँ, तो चलूँ।

जिसे डुबा न सके साँझ कोई,
ऎसा इक सूर्य उगा लूँ, तो चलूँ।
-----

काट रहे हैं फीते लोग

उन्मन हैं मनचीते लोग,
वर्तमान के बीते लोग।

भीतर भीतर मर मर कर,
बाहर बाहर जीते लोग।

निराधार खून देख कर
घूंट खून के पीते लोग।

और उधर जलसों की धूम
काट रहे हैं फीते लोग।

भाव शून्य शब्दों का कोश,
बाँट रहे हैं रीते लोग।

9 comments:

  1. सवेरे सवेरे .....

    जुडे ही नहीं जिद्दी, किसी वंदना में,
    कैसे समझाऊं मैं हाँथों को मेरे
    .....
    ज़िन्दगी यह तपती दोपहरी,
    धूप में छांव लुटा दूँ, तो चलूँ।

    जिसे डुबा न सके साँझ कोई,
    ऎसा इक सूर्य उगा लूँ, तो चलूँ।
    .......

    निराधार खून देख कर
    घूंट खून के पीते लोग।

    और उधर जलसों की धूम
    काट रहे हैं फीते लोग।
    .......


    क्या क्या उद्धृत करू .. नि:शब्द स्वांस रोके सा ....!

    बाबा जगदलपुरी को पढ़्ना प्रभात की किरणों का आचमन है

    कोटिश: नमन इस सद्य प्रेरणा पुरूष को

    उत्तर देंहटाएं
  2. और उधर जलसों की धूम
    काट रहे हैं फीते लोग।

    भाव शून्य शब्दों का कोश,
    बाँट रहे हैं रीते लोग।

    कमाल की पंक्तियाँ

    उत्तर देंहटाएं
  3. भाव शून्य शब्दों का कोश,
    बाँट रहे हैं रीते लोग।
    लाला जगदलपुरी की गज़लों की उँचाई बहुत अधिक है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. भीतर भीतर मर मर कर,
    बाहर बाहर जीते लोग।


    भाव शून्य शब्दों का कोश,
    बाँट रहे हैं रीते लोग।

    वाह....भावों का इतना सुंदर रूप आत्मा तक को तृप्त करता चला जाता है....आभार साहित्यशिल्पी...

    उत्तर देंहटाएं
  5. एक प्रभावी सशक्त रचना.

    मेरे शब्दों में
    उन्हीं के पांवो में पडी थी गुलामी की सांकल
    देश के लिये जिन्हें आजादी के बिगुल बजाने थे

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget