यह निबंध उस छात्र की कापी से लिया गया है, जिसने निबंध प्रतियोगिता में टाप किया है। निबंध का विषय था-सेनसेक्स।

सेनसेक्स के बारे में, जैसा कि सब जानते हैं, कोई नहीं जानता।

सेनसेक्स कर्नाटक के देवेगौडा की तरह है, किसी को पता ना चलता, कब किधर कूद लेगा। सेनसेक्स एक आधुनिक कविता है, जिसका अर्थ किसी को नहीं पता। सेनसेक्स नरेंद्र मोदी की तरह है, जिसे आडवाणीजी सीरिसयली लें, तो आफत, ना लें तो ज्यादा आफत। मतलब सेनसेक्स यूं तो जाने क्या क्या है. पर वास्तव में यह क्या है, यह किसी को ना पता।

सेनसेक्स के कई फायदे हैं।

सेनसेक्स बंदे को सन्यास की तरफ ले जाता है।

इसकी प्रक्रिया यूं है कि बंदा सेनसेक्स के उछलने के साथ खुद उछलता है और उछल उछलकर यहां वहां से रकम बटोरकर सेनसेक्स में लगा देता है। फिर, एक दिन या दो दिनों तक सेनसेक्स बैठ जाता है। इसके साथ उछलने वाला इसकी यह गत देखकर लेट जाता है। फिर उठी ना पाता। उधार वापस मांगने वाले आते हैं। बंदा एकैदम खल्लास टाइप हो लेता है। दुनिया कितनी सेनसेक्सभंगुर है, यह बात उसे फौरन समझ में आ जाती है। और वह सन्यास की ओर उन्मुख हो जाता है। ऐसा हालांकि वह उधारवालो से बचने के लिए करता है। पर जैसे भी हो, वह सन्यासी तो हो ही जाता है। सेनसेक्स से समाधि तक का मामला ऐसे सैट हो जाता है।

सेनसेक्स का एक योगदान यह भी है कि यह .चरित्र को बिगड़ने से बचाता है।

सेनसेक्स में पैसे लगाने के बाद और सेनसेक्स के डूबने के बाद बंदा इत्ता फुक्का हो लेता है, वह ऐसा कुछ भी नहीं करने में असमर्थ हो जाता है, जिसे करने से चरित्र में किसी भी तरह का बिगाड़ आता है। बंदे के पास दारु तो छोड़ो चाय तक के पैसे ना बचते, दारु पीने की इच्छा भले ही बची रहे। इस तरह से हम कह सकते हैं कि सेनसेक्स में लपेटे में आया बंदा चाहकर भी अपना चरित्र नहीं बिगाड़ पाता।

सेनसेक्स के चक्कर में बंदा कई तरह के ऐबों से बच जाता है।

वरना सन्यास की तरफ की एक साइकिल यूं भी होती है बंदे के पास रकम होती है, फिर वह तरह तरह के ऐबों में पड़ता है। फिर ऐबों में पड़कर फुक्का होकर सन्यास गति को प्राप्त होता है।

सेनसेक्स इसमें ऐबों वाला हिस्सा हटा देता है, सेनसेक्स में रकम लगाकर बंदा सीधे सहज सन्यास गति में पहुंच जाता है। ऐबों की जगह सेनसेक्स आ जाता है और बंदा ऐब गति से बच जाता है।

इस तरह से हम कह सकते हैं कि सेनसेक्स का चरित्र निर्माण में महती योगदान रहता है।

10 comments:

  1. सत्य वचन आलोक जी :) अपना भी सेंसेक्स नें खासा चरित्र निर्माण कराया हुआ है

    उत्तर देंहटाएं
  2. शीर्षक ही सब कुछ कह देता है आलोक जी। बहुत अच्छा व्यंग्य।

    उत्तर देंहटाएं
  3. हम एक बार इस मोह के मायाजाल में पडे थे बाद में सन्यासी हो गये

    उत्तर देंहटाएं
  4. गज़ब का सोचा है सनसैक्स से संयास का रिश्ता।

    उत्तर देंहटाएं
  5. सेन sex में छुपा हुआ आनंद असीम है,
    आजाए गर उछाल पर; लगता ये भीम है,
    ख़ा जाए गर गुलाट तो बेड़ा गरक़ करे,
    'रुस्तम' भी जिसमे चित हुए,एसा ये gym है.

    -- mansoorali hashmi
    http://aatm-manthan.com

    उत्तर देंहटाएं
  6. दोस्तों
    आपनी पोस्ट सोमवार(10-1-2011) के चर्चामंच पर देखिये ..........कल वक्त नहीं मिलेगा इसलिए आज ही बता रही हूँ ...........सोमवार को चर्चामंच पर आकर अपने विचारों से अवगत कराएँगे तो हार्दिक ख़ुशी होगी और हमारा हौसला भी बढेगा.
    http://charchamanch.uchcharan.com

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget