भारत माता का सपूत आजादी का सेनानी.
वीर सुभाष महामानव था सतत लड़ाई ठानी..
नहीं फिरंगी को करने दी तनिक कभी मनमानी.
जान हथेली पर ले चलता रहा सदा बलिदानी..

उस सुभाष की जय कहकर अब कलम धन्य होती है.
उस सुभाष के बलिदानों पर भू गर्वित होती है..
उस सुभाष पर इतिहासों की नव रचना होती है.
उस सुभाष की युग पुरुषों में ही गणना होती है..

खेल मौत से रहा खेलता, सदा देश की खातिर.
गाथा उसकी बनी प्रेरणा, सारे जग में जाहिर..
पार न उससे पा सकते थे अच्छे-अच्छे माहिर.
कूटनीति का कुशल खिलाड़ी सैन्य नीति का ताहिर..

उस सुभाष की जय बोले जो हो सच का अनुगामी.
उस सुभाष की जय बोले हो भारत का निर्माणी..
उस सुभाष की जय बोले जो वही देश-अभिमानी.
उस सुभाष की जय बोले हर सच्चा हिन्दुस्तानी..


रचनाकार परिचय:-आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल' नें नागरिक अभियंत्रण में त्रिवर्षीय डिप्लोमा. बी.ई.., एम. आई.ई., अर्थशास्त्र तथा दर्शनशास्त्र में एम. ऐ.., एल-एल. बी., विशारद,, पत्रकारिता में डिप्लोमा, कंप्युटर ऍप्लिकेशन में डिप्लोमा किया है।
आपकी प्रथम प्रकाशित कृति 'कलम के देव' भक्ति गीत संग्रह है। 'लोकतंत्र का मकबरा' तथा 'मीत मेरे' आपकी छंद मुक्त कविताओं के संग्रह हैं। आपकी चौथी प्रकाशित कृति है 'भूकंप के साथ जीना सीखें'। आपनें निर्माण के नूपुर, नींव के पत्थर, राम नम सुखदाई, तिनका-तिनका नीड़, सौरभ:, यदा-कदा, द्वार खड़े इतिहास के, काव्य मन्दाकिनी २००८ आदि पुस्तकों के साथ साथ अनेक पत्रिकाओं व स्मारिकाओं का भी संपादन किया है।
आपको देश-विदेश में १२ राज्यों की ५० सस्थाओं ने ७० सम्मानों से सम्मानित किया जिनमें प्रमुख हैं : आचार्य, २०वीन शताब्दी रत्न, सरस्वती रत्न, संपादक रत्न, विज्ञानं रत्न, शारदा सुत, श्रेष्ठ गीतकार, भाषा भूषण, चित्रांश गौरव, साहित्य गौरव, साहित्य वारिधि, साहित्य शिरोमणि, काव्य श्री, मानसरोवर साहित्य सम्मान, पाथेय सम्मान, वृक्ष मित्र सम्मान, आदि। वर्तमान में आप अनुविभागीय अधिकारी, मध्य प्रदेश लोक निर्माण विभाग के रूप में कार्यरत हैं।

5 comments:

  1. एक सुन्दर, लयात्मक रचना |

    अवनीश तिवारी

    उत्तर देंहटाएं
  2. सलिल जी को धन्यवाद, सुंदर रचना वांचने के लिए.

    उत्तर देंहटाएं
  3. उस सुभाष की जय बोले जो हो सच का अनुगामी.
    उस सुभाष की जय बोले हो भारत का निर्माणी..
    उस सुभाष की जय बोले जो वही देश-अभिमानी.
    उस सुभाष की जय बोले हर सच्चा हिन्दुस्तानी.


    जय....
    जय हिंद....

    उत्तर देंहटाएं
  4. padh ke aanand aagaya
    jay bharat
    jay hind
    saader
    rachana

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget