“आज जबकि चारोँ ओर आतंक और दुश्मनी का माहौल दिखाई दे रहा है, साहित्य का महत्व कई गुना अधिक बढ़ गया है। इस प्रकार की कथा-गोष्ठियोँ के आयोजन से हमारा प्रयास है कि हम हिन्दी और उर्दू के लेखकोँ के बीच एक बेहतर समझ पैदा कर सकें। आम आदमी के बीच मित्रता एवं शांति पैदा करने में लेखक एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है।” यह कहना था काउंसलर ज़कीया ज़ुबैरी का और मौक़ा था कथा यू.के. एवं एशियन कम्यूनिटी आर्ट्स द्वारा मिल-हिल, लंदन में आयोजित साझा कथागोष्ठी का जिसमें उर्दू की वरिष्ठ कहानीकार सफ़िया सिद्दीक़ि एवं हिन्दी के महत्वपूर्ण कथाकार तेजेन्द्र शर्मा ने प्रबुद्ध श्रोताओं के सामने अपनी अपनी कहानी का पाठ किया।

कथागोष्ठी में अन्य लोगोँ के अतिरिक्त श्रीमती मोनिका मोहता (निदेशक – नेहरू सेन्टर), श्रीमती पद्मजा (काउंसिलर – प्रेस एवं सूचना, भारतीय उच्चायोग), श्री आनंद कुमार (हिन्दी एवं संस्कृति अधिकारी), प्रो. मुग़ल अमीन, श्री कैलाश बुधवार, श्री एवं श्रीमती अजितसरिया, डा. नज़रुल इस्लाम बोस, परिमल दयाल, फ़हीम अख़्तर एवं सुरेन्द्र कुमार शामिल थे।

वरिष्ठ उर्दू कहानीकार सफ़िया सिद्दीक़ि ने अपनी कहानी 'माली बाबा' का पाठ किया जिसमें दो मालियोँ की तुलना की गई थी – एक जो पुराने भारत के किसी ज़मीदार घराने का माली है और दूसरा जो कि पूर्वी युरोप से ब्रिटेन में आकर बसने वाला प्रवासी है। तुलना दोनो के जीने के ढंग से शुरू होती है और उनके बच्चो के बनने वाले भविष्य पर आकर रुकती है। सफ़िया जी अपनी कहानी के अंत में कहती हैं कि काश! हमारे मुल्क़ के माली को भी जीवन में यहां के माली जैसे अवसर मिलें।

कैलाश बुधवार कहानी से खासे प्रभावित दिखे। उनका कहना था कि यह कहानी हमें यह अहसास करवाती है कि अपने वतन में काम करने वालोँ को नीचा माना जाता है – वहां के बड़े लोग काम नहीं करते। यहां काम करने वालोँ की इज्ज़त होती है। परिमल दयाल के अनुसार कहानी के विवरण एवं भाषा कहीं भी बोरियत का अहसास नहीं होने देते। फ़हीम अख़्तर को लगा कि मालियोँ के चरित्र जैसे जीवन से ही उठा लिये गये थे। पद्मजा जी का कहना था कि कहानी का विन्यास बहुत अनूठा है। दोनो मालियोँ का जीवन समानांतर चलता है और कहीं कोई झटका नहीं लगता। आनंद कुमार को कहानी की भाषा की आंचलिकता ने बहुत प्रभावित किया। प्रो. मुग़ल अमीन के अनुसार कहानी में एक अंतर्प्रवाह है। यह केवल सीधी रेखा में नहीं चलती। लेखिका ने दिखाया है कि भारत के माली की भी ज़मींदारी सिस्टम में जितनी देखभाल संभव थी – हो रही थी। कहानी श्रम के महत्व को रेखांकित करती है।

तेजेन्द्र शर्मा की कहानी 'फ़्रेम से बाहर' एक बच्ची की कहानी है जिसे मां बाप बहुत प्यार करते हैं। मगर उसके जुड़वां भाई हो जाने के बाद उसके जीवन में जैसे एक तूफ़ान सा आ जाता है। मां बाप द्वारा उपेक्षा और कच्ची उम्र में ही होस्टल भेजा जाना नेहा के व्यक्तित्व में संपूर्ण परिवर्तन ले आते हैं। नेहा पर इस हादसे का कुछ ऐसा असर होता है कि उसका विवाह जैसी संस्था पर से विश्वास ही उठ जाता है। वह तय कर लेती है कि वह कभी भी बच्चे पैदा नहीं करेगी।


सभी ने करतल ध्वनि से तेजेन्द्र शर्मा के कहानी पाठ करने के अनूठे ढंग की सराहना की और विशेष तौर पर नेहा के जीवन में आए भावनात्मक तूफ़ान का चित्रण श्रोताओं के दिलोँ को छू गया। अरुणा अजितसरिया ने अपनी नम आंखो से कहा कि कहानी के थीम को इतने मर्मस्पर्शी ढंग से चित्रित किया गया है कि यह प्रत्येक घर की कहानी बन गई है। मुझे लगा जैसे मैं शायद अपनी कहानी सुन रही हूं। ज़कीया ज़ुबैरी का मानना था कि कहानी थीम, स्टाइल, घटनाक्रम, विन्यास, एवं निष्पादन में अनूठी है। लेखक अपने पाठक को नेहा की भावनाओं को समझने के लिये मज़बूर कर देता है। परिमल दयाल, सुरेन्द्र कुमार, फ़हीम अख़्तर एवं आनंद कुमार नेहा के दर्द और कहानी के नयेपन से प्रभावित दिखे। पद्मजा जी ने कहानी को थोड़ा विस्तार से विश्लेषित करते हुए कहा कि नेहा के दर्द को इतनी संवेदनशीलता से चित्रित किया गया है कि पाठक पर इसका गहरा असर होता है। नेहा और उसके माता पिता के बीच संवादहीनता एक ग्रंथि के रूप में उभर कर सामने आती है। जब नेहा का विवाह में विश्वास ख़त्म हो जाता है तो कहानी सामाजिक संरचना को बदलने का कारण बन जाती है। कैलाश बुधवार ने कहानी के चरित्र चित्रण एवं घटनाक्रम की तारीफ़ करते हुए कहा कि कहानी पाठक को बांध लेती है। किन्तु उन्हें लगा कि नेहा का विश्वास विवाह जैसी संस्था से उठने के लिये जो कारण दिखाये गये हैं वे काफ़ी नहीं हैं। यदि नेहा की मां को सौतेली दिखाया जाता तो बेहतर होता। प्रो. मुग़ल अमीन ने अध्यक्षीय टिप्पणी करते हुए कहा, “यह कहानी सहोदर भाई बहनो के बीच प्रतिद्वन्दिता की अद्भुत कहानी है और दिखाती है कि यह किस तरह हाथो से निकल कर विक्षिप्तता की हद तक पहुंच जाती है और रिश्तो में दरार पैदा हो जाती है। यह एक शाश्वत थीम है । लेखक को चाहिये था कि इस थीम को और अधिक विस्तार से प्रस्तुत करता।” ज़कीया ज़ुबैरी के धन्यवाद ज्ञापन के साथ ही गोष्‍ठी समाप्‍त हुई।

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget