Photobucket

गीत गाना चाहता हूँ
आज मन की रुद्र वीणा को,
बजाना चाहता हूँ।
मैं तुम्हारी अस्मिता के गीत,
गाना चाहता हूँ।

आज बरसों बाद सुधियों की,
नई खिड़की खुली है।
तारिकाएँ झिलमिलाती,
चाँदनी-रस में घुली है।
प्राण है बिलकुल अकेला,
मंदिरों की मूर्तियों-सा।
इसलिए उसको कहानी,
मैं सुनाना चाहता हूँ।

कौन जाने कब तलक है
आज पलकों पर सवेरा
कालिमा की रात लेकर
आ न जाए ¬फर अँधेरा।
आज माटी के दियों में
भावना की बातियों से
रोशनी का एक दीपक
मैं जलाना चाहता हूँ।

दृष्टि का सूरज सनातन
आज बादल में घिरा है
हर तरफ अंधड़-बगूले
रात भर सावन गिरा है ।
प्यास जागी है अधर पर
कंठ सूखे जा रहे हैं,
तृप्ति पाने को सुधा की
बूँद पाना चाहता हूँ।

मैं तुम्हारी अस्मिता के गीत,
गाना चाहता हूँ।
रचनाकार परिचय:-

गौरव शुक्ला कुछ समय पूर्व तक कवि और पाठक दोनों ही के रूप में अंतर्जाल पर बहुत सक्रिय रहे हैं।

अपनी सुंदर और भावपूर्ण कविताओं, गीतों और गज़लों के लिये पहचाने जाने वाले गौरव को अपने कुछ व्यक्तिगत कारणों से अंतर्जाल से दूर रहना पड़ा। साहित्य शिल्पी के माध्यम से एक बार फिर आपकी रचनायें अंतर्जाल पर आ रही हैं।

4 comments:

  1. गौरव जी का मैं हमेशा से प्रशंसक रहा हूँ। आपके "शिल्प" का कोई तोड़ नहीं है। शुद्ध हिन्दी के शब्द आजकल विरले हीं देखने को मिलते हैं। छन्द-मुक्त होते जा रहे इस काव्य-जगत में "छंद" का ऐसा अनुपम उदाहरण रेगिस्तान में "ओसिस" के समान है।

    और हाँ, भाव भी उसी तरह अनमोल हैं।

    बधाई स्वीकारें!
    -विश्व दीपक

    उत्तर देंहटाएं
  2. क्या कहा जाए - superb !

    अवनीश तिवारी

    उत्तर देंहटाएं
  3. मैं तुम्हारी अस्मिता के गीत,
    गाना चाहता
    wah.kitna sunder bhaw hai.

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget