मम्मी मुझको नहीं खेलने देती है अब घर घूला
न ही मुझे बनाने देती गोबर मिट्टी का चूल्हा
गपई समुद्दर क्या होता है,नहीं जानता अब कोई
गिल्ली डंडे का टुल्ला तो बचपन बिल्कुल ही भूला
अब तो सावन खेल रहा है रात और दिन टी वी से
आम नीम की डालों पर अब कहीं नहीं दिखता झूला
अब्ब्क दब्बक दांयें दीन का बिसरा खेल जमाने से
अटकन चटकन दही चटाकन लगता है भूला भूला
न ही झड़ी लगे वर्षा की न ही चलती पुरवाई
मौसम हुआ अपंग अनाड़ी वक्त हुआ ल‍गड़ा लूला
ऐसी चली हवा पश्चिम की हम खुद को ही भूल गये
गुड़िया अब ये नहीं जानती क्या होता है रमतूला

------
प्रभुदयाल श्रीवास्तव का परिचय जानें साहित्य शिल्पी के रचनाकार पृष्ठ पर।

7 comments:

  1. ग्रामीण परिवेश एवं पुरातन परंपराओं का स्मरण कराती सुंदर रचना |बधाई
    रमेश खरे ब‍ंगलुरु

    उत्तर देंहटाएं
  2. प्रभुदयाल जी,
    भारतीय संस्कृति पर पश्चिमीकरण की मार और बचपन के खेल-खिलवाड़ों की विकट स्थिति पर आपने बड़ी हीं मारक टिप्पणी है... बधाई स्वीकारें!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. इसे केवल बाल कविता नहीं कहा जा सकता। इस कविता में अपनी पीढी के लिये चिंता है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. आंचलिक साहित्य‌ कार परिषद छिंदवाड़ा की काव्य गोष्ठी में आपकी यह कविता आपके द्वारा पढ़ी गई थी
    इस बाल गीत को सुनकर मेरा बचपन स्मृतियों में साकार हो उठा|बच्चों के कोमल और पारदर्शी स्वभाव‌
    की सटीक अभिव्यक्ति करती कोमलकांत पदावली में लिखी यह रचना मन को छू गई,मिट्टी में लिपटा बचपन याद आ गया|
    अवधेश तिवारी वरिष्ठ उदघोषक
    आकाशवाणी छिंदवाड़ा

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत अच्छी प्रस्तुति। हार्दिक शुभकामनाएं!
    ‘मंहगाई मार गई..!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. क्या होता है रमतूला , वाह अंकल मजा आ गया पुराने दिन याद आ गये जब हम लोग घरघूला
    खेलते थे और मिट्टी के चूल्हे बनाते थे|अब तो पढ़ाई में सब भूल गये|

    पूनम भलावी

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget