रविवार 9 जनवरी 2011 का दिन हिन्दी ब्लॉगिंग के सम्मेलनीय इतिहास में स्वर्णिम अक्षरों में दर्ज हो गया है। इस दिन खटीमा (उत्तराखंड) में हिन्दी ब्लॉगरों के सम्मेलन का जीवंत प्रसारण इंटरनेट के जरिए पूरे विश्व में सफलतापूर्वक विभिन्न एग्रीगेटर्स, खासकर ब्लॉगप्रहरी (दिल्ली), सोशल नेटवर्किंग साइट फेसबुक, ट्विटर, गूगल-बज्ज आदि के जरिये किया गया।
हिन्दी ब्लॉगरों के सम्मेलनीय स्वरूप को चहुं ओर इसकी सकारात्मकता के साथ प्रवाहित करने वाले चर्चित ब्लॉ्ग नुक्कड़ के मॉडरेटर और ब्लॉगर, साहित्यकार, व्यंग्यकार अविनाश वाचस्पति ने जबलपुर के मशहूर ब्लॉगर गिरीश बिल्लौरे ‘मुकुल’ के साथ मिलकर इन पलों को पूरे विश्व में प्रसारित करके ऐतिहासिक बना दिया है। इससे साबित होता है कि धुन के धनी जब चाहते हैं तो प्रत्येक परिस्थिति को अपने अनुकूल बना कर कार्यों को सर्वोत्तम अंजाम तक पहुंचा देते हैं।
इस अवसर पर साहित्य शारदा मंच के तत्वावधान में उत्तराखंड स्थित खटीमा के ब्लॉ्गर, कवि डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’ की दो पुस्‍तकें "सुख का सूरज" और "नन्हें सुमन" का लोकार्पण डॉ. इन्द्रराम, सेवानिवृत्त प्राचार्य राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय काशीपुर के कर कमलों द्वारा किया गया। अविनाश वाचस्पति जी इस समारोह के मुख्य अतिथि रहे। एक साथ कई पायदानों पर सफलतापूर्वक सफर करने वाले अविनाश वाचस्पति और गिरीश बिल्लौरे के इस कारनामे का, हिन्दी ब्लॉगिंग विधा के चितेरे करोड़ों दर्शकों ने लगातार 6 घंटे तक, इस जीवंत प्रसारण का भरपूर आनंद लिया और इसके साक्षी बने।

इस संबंध में यह भी उल्लेखनीय है कि इस जीवंत प्रसारण को अब भी http://bambuser.com/channel/girishbillore/broadcast/1313259 पर देखा और सुना जा रहा है। इसे टीम वर्क का अन्यतम उदाहरण बतलाते हुए अविनाश वाचस्पति ने इसका श्रेय जबलपुर के गिरीश बिल्लौरे, दिल्ली के पद्मसिंह के उनमें अपने प्रति विश्वास के नाम करते हुए कहा है कि इस सजीव प्रसारण से हिन्दी ब्लॉ्गिंग के शिखर पर पहुंचने के प्रयासों में अभूतपूर्व तेजी देखने में आएगी।
इस अवसर पर खटीमा में मौजूद रहे, प्रख्यात हिदी ब्लॉगर लखनऊ के रवींद्र प्रभात (परिकल्पना) , दिल्ली के पवन चंदन (चौखट) , राजीव तनेजा (हंसते रहो) , धर्मशाला के केवलराम (चलते चलते), बाराबंकी के रणधीर सिंह सुमन (लोकसंघर्ष) , खटीमा के रावेन्द्र कुमार रवि, डॉ. सिद्धेश्वर सिंह और आसपास के क्षेत्रों यथा बरेली, पीलीभीत, हल्द्वानी इत्यादि के साहित्यकार, कवि, प्रोफेसरों और हिन्दी ब्लॉगजगत के प्रेमियों सोहन लाल मधुप, बेतिया से मनोज कुमार पाण्डेय (मंगलायतन) ,शिवशंकर यजुर्वेदी, किच्छा से नबी अहमद मंसूरी, लालकुऑ (नैनीताल) से श्रीमती आशा शैली हिमांचली, आनन्द गोपाल सिंह बिष्ट, रामनगर (नैनीताल) से सगीर अशरफ, जमीला सगीर, टनकपुर से रामदेव आर्य, चक्रधरपति त्रिपाठी, पीलीभीत से श्री देवदत्त प्रसून, अविनाश मिश्र, डॉ. अशोक शर्मा, लखीमपुर खीरी से डॉ. सुनील दत्त, बाराबंकी से अब्दुल मुईद, पन्तनगर से लालबुटी प्रजापति, सतीश चन्द्र, मेढ़ाईलाल, रंगलाल प्रजापति, नानकमता से जवाहर लाल, सरदार स्वर्ण सिंह, खटीमा से सतपाल बत्रा, पी. एन. सक्सेना, डॉ. गंगाधर राय, सतीश चन्द्र गुप्ता, वीरेन्द्र कुमार टण्डन आदि उल्लेंखनीय हैं।

कार्यक्रम का संचालन श्री रावेन्द्र कुमार रवि द्वारा किया गया।
------------------------
प्रेषक : नुक्करड़ संपादकीय टीम

5 comments:

  1. आपका हार्दिक आभार
    इस समाचार को प्रमुखता से प्रकाशित करने के लिये
    वास्तव में यह श्रेय खटीमा को और उन तमाम लोगों को जाता है जो स्वयम भी वेबकास्टिंग के लिये उत्साहित थे
    उनका भी अभार जो इस प्रयोग के साक्षी रहे

    उत्तर देंहटाएं
  2. खुशी के पल, अच्‍छी खबर और प्रस्‍तुति, बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  3. पर्शंसा में तो शब्द कम पड़ रहे हैं!
    मैं तो साहिचशिल्पी का आभार ही व्यक्त कर सकता हूँ!

    उत्तर देंहटाएं
  4. अविनाश जी...मयंक जी, बिल्लौरे जी
    सभी को बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  5. अविनाश जी...मयंक जी, बिल्लौरे जी बधाई...

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget