"इका गजब क'अत है।" बेकाबू होते जा रहे रामभरोसे के हाथों से कुल्हाड़ी छीनने का प्रयास करता रामआसरे गिड़गिड़ाया-- " पंडित क मारि कै परलोक न बिगाड़ ।"

"महापंडित रावण को मारने पर राम का परलोक नहीं बिगड़ा …।"

ऊँची आवाज में रामभरोसे चिल्लाया - " तब इस महामूरख को मारने से मेरा परलोक क्यों बिगड़ेगा-अं। "

"उ तो राजा रहे बिटवा - कानून बनान वारे । "

"जिस पंडित ने बहना को छुआ है काका …अपनी बिरादरी के सामने आज वह चमार बनेगा - या परलोक जाएगा ।"

खून उतरी आँखो वाले रामभरोसे काका को झटका देकर एक बार फिर बाहर निकल जाने की कोशिश की तो घर की औरतो और बच्चों के बीच कुहराम कुछ और तेज हो गया ।

"जन्मते ही मर काहे न गई करमजली ।" रामभरोसे की माँ ने अन्दर अपनी बेटी को पीटना - कोसना शुरु कर दिया - "पंडित मरि गवा तो ब्रह्महत्या अलग , बदनामी अलग्…फाँसी अलग ।"

क्रोधित रामभरोसे के हाथो पंडित की सम्भावित हत्या के परिणाम की कल्पना मात्र से रामआसरे टूट - सा गया ।

"कुल्हाडी फेंक द बिटवा! वह फूट पडा -"पंडित क मारे का पाप मत लै। उ अपनी ही बेटी क हाथ पकडा है । तोहार बहना तोहार माँ के साथ उ के अत्याचार का ही फल है भैया । उक नरक जरुर मिलि है । " ' नरक ! ' कुल्हाडी पर रामभरोसे की पकड कुछ और मजबूत हो गई। यह पंडित आज के बाद इस धरती पर् साँस नहीं लेगा - उसने निश्चय किया… और आज ही बिरादरी को वह सुना देगा कि आगे से कोई भी अपने बच्चे का नाम रामभरोसे या रामआसरे न रखे ।

3 comments:

  1. अंदर तक झकझोड़ने वाली लघुकथा। बहुत अच्छी प्रस्तुति। हार्दिक शुभकामनाएं!
    बालिका दिवस
    हाउस वाइफ़

    उत्तर देंहटाएं
  2. निधि जी से सहमत हूँ...
    विचारोतेजक लघुकथा है...बधाई...

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget